1 जून को खुलेगा हेमकुंड साहिब, बर्फीले रास्ते से गुजरना होता है रोमांचक

1 जून को खुलेगा हेमकुंड साहिब, बर्फीले रास्ते से गुजरना होता है रोमांचक

: , March 9, 2021 / 11:12 PM IST

उत्तराखंड। हेमकुंड साहिब गुरुद्वारा 1 जून को खुलने वाला है। इसके लिए 1 मई से सेना को अलर्ट कर दिया गया है। दरअसल इस मंदिर के पहुंच मार्ग को बर्फ से खाली करने के लिए कोशिशे की जा रहीं हैं। 6 किमी ट्रैक को खाली करने के लिए भारतीय सेना की सूर्य बंगाल टीम जी तोड़ मेहनत कर रही है।

ये भी पढ़ें- फुकेट जाने की सोच रहे हैं तो जाने कौन कौन से हैं रोचक प्लेस

बता दें कि उत्तराखंड के गढ़वाल में स्थित सिक्खों के पवित्र धाम हेमकुंड साहिब के कपाट 1 जून को खुलने वाले हैं। कपाट खुलने के पहले पहुंच मार्ग को साफ किया जा रहा है। हम आपको बताते हैं कि इस पवित्र तीर्थ स्थल तक आप कैसे पहुंच सकते हैं। यात्रा की शुरुआत गोविंदघाट से होती है जो अलखनंदा नदी के किनारे समुद्र तल से 1 हजार 828 मीटर की ऊंचाई पर है। गोविंदघाट तक तो सड़कें बनी हुईं हैं । यहां तक गाड़ियां आराम से जाती हैं लेकिन इसके ऊपर यानी गोविंदघाट से घांघरिया तक 13 किलोमीटर की चढ़ाई है जो बेहद दुरुह है, यहां एकदम खड़ी चढ़ाई है। इसके आगे का 6 किलोमीटर का सफर और भी ज्यादा मुश्किलों से भरा है।

ये भी पढ़ें- सूर्योदय और सूर्यास्त का अद्भुत नज़ारा देखना हो तो जाइए कन्याकुमारी

रास्ते में करना होता है ट्रेकिंग
झूलते हुए ब्रिज के जरिए अलखनंदा नदी को पारकर गोविंदघाट पहुंचा जाता है। इसके सीधी चढ़ाई शुरु हो जाती है, जो नीचे जाती हुई घाटी से होकर जाता है जिसमें खेत भी हैं और कई पेड़-पौधे भी। 3 किलोमीटर बाद लक्ष्मण गंगा मिलती है जो आगे चलकर अलखनंदा में मिलती है। आगे एक छोटा सा गांव आता है पुलना। इसके बाद की चढ़ाई और भी ज्यादा मुश्किल हो जाती है । इस रास्ते में खूबसूरत नजारे देखने को मिलते हैं।

ये भी पढ़ें- सर्दियों में जाना है घुमनें तो चुनें इन जगह को

खूबसूरत नजारों से भरा है पूरा रास्ता
पुलना से भयंदर गांव के बीच का 7 किलोमीटर का रास्ता प्राकृतिक खूबसूरती से लबरेज है। इस रास्ते में कई झरने भी देखने को मिलते हैं। 2 किलोमीटर आगे जाकर घांघरिया बेस कैंप आता है जहां से आगे वैली ऑफ फ्लावर्स और हेमकुंड साहिब का रास्ता निकलता है। घांघरिया से हेमकुंड साहिब की दूरी वैसे तो सिर्फ 6 किलोमीटर है लेकिन यहां से पहाड़ की चढ़ाई और भी ज्यादा मुश्किल हो जाती है और इसे पार करने में ही सबसे ज्यादा समय लगता है।

ये भी पढ़ें- चल कहीं दूर निकल जाएं, तफरी के लिए मुफीद हुआ मौसम, बसंत को कहा जाता…

हेमकुंड साहिब पहुंच मार्ग
हवाई मार्ग- देहरादून का जॉली ग्रांट एयरपोर्ट नजदीकी एयरपोर्ट है। गोविंदघाट से जॉली ग्रांट की दूरी 292 किलोमीटर है। यहां से गोविंदघाट तक टैक्सी या बस के जरिए पहुंच सकते हैं। गोविंदघाट से हेमकुंड साहिब तक 19 किलोमीटर की चढ़ाई करनी पड़ती है।

रेल मार्ग- हेमकुंड साहिब का नजदीकी रेलवे स्टेशन ऋषिकेश है जो गोविंदघाट से 273 किलोमीटर दूर है। ऋषिकेश से टैक्सी या बस के जरिए श्रीनगर, रुद्रप्रयाग, चमोली और जोशीमठ होते हुए गोविंदघाट पहुंच सकते हैं।