Latest Gold and silver prices 2021 : लगातार तीसरे दिन कम हुईं सोना-चांदी की कीमतें, देखें विभिन्न कैरेट गोल्ड, सिल्वर के आज क्या हैं दाम

Latest Gold and silver prices 2021 : लगातार तीसरे दिन कम हुईं सोना-चांदी की कीमतें, देखें विभिन्न कैरेट गोल्ड, सिल्वर के आज क्या हैं दाम

Edited By: , June 21, 2021 / 10:01 AM IST

Latest Gold and silver prices 2021

ऩई दिल्ली । देश में लगातार तीसरे दिन गोल्ड-सिल्वर की कीमतों में गिरावट दर्ज की गई है।  इससे पहले गुरुवार और शुक्रवार को भी बहूमूल्य धातुओं में गिरावट दर्ज की गई थी।  इंडिया बुलियन एंड ज्वैलर्स एसोसिएशन के मुताबिक  सोमवार सुबह जारी सोने की कीमत में 244 रु की गिरावट दर्ज की गई है, आज 24 कैरट Gold की कीमत 47022 रु प्रति 10 ग्राम हो गया है। बीते कारोबारी सत्र में यानी शुक्रवार की शाम सोने की कीमत 47266 रु प्रति 10 ग्राम दर्ज की गई  थी।

Read More News: Exclusive: मेडिकल यूनिवर्सिटी फर्जीवाड़ा! हटाई गई परीक्षा नियंत्रक को फिर किया बहाल 

इस सप्ताह चांदी की कीमतों में भारी गिरावट दर्ज की गई है।  शुक्रवार के मुकाबले सोमवार को  1 किलो चांदी  के भाव में 1052 रु में कमी हुई है, सोमवार को चांदी का भाव 67635 रु किलो तक पहुंच गई है। बीते कारोबारी सत्र में एक किलो चांदी की कीमत 68687 रु थी।

Read More News:  जंगल, नदी, नाले और पहाड़ को पार कर ग्रामीणों को ना सिर्फ टीके लगा रहे, बल्कि स्वास्थ्य संबंधी जानकारी भी दे रहे स्वास्थ्यकर्मी

21 जून को शुद्धता के आधार परसोने-चांदी की कीमत…

 

 

 

शुद्धता 

सोमवार सुबह का भाव

सोना (प्रति 10 ग्राम)

999 (24 कैरेट)

47022

सोना (प्रति 10 ग्राम)

995 

46834

सोना (प्रति 10 ग्राम)

916 ( 22 कैरेट)

43072

सोना (प्रति 10 ग्राम)

750 (18 कैरेट)

35267

सोना (प्रति 10 ग्राम)

585 (14 कैरेट)

27508

चांदी (प्रति 1 किलो)

999 

67635

इससे पहले देश में गोल्ड हॉलमार्किंग अनिवार्य हो गई है। बता दें कि अब आप किसी भी दुकान से सोना खरीदने जाएंगे तो आपको सिर्फ हॉलमार्क का ही सोना मिलेगा। इसकी सबसे खास बात यह है कि सोने पर लिखा होगा कि यह कितने कैरेट का है। बीआईएस के अनुसार, अनिवार्य हॉलमार्किंग से आम लोगों को फायदा होगा। यह सुनिश्चित करेगा कि उपभोक्ता सोने के गहने खरीदते समय धोखा न खाएं और और उन्हें आभूषणों पर अंकित शुद्धता के अनुसार ही आभूषणों की प्राप्ति हो। 

पढ़ें- इजराइल ने फिर तोड़ा संघर्ष विराम, Hamas पर Rocket दागकर बोला ‘यह जवाबी कार्रवाई’.. बिल्डिंगों पर दिखी धमाके की लपटें

कैसे होगी सोने की पहचान?
अगर कोई भी ज्वैलर बिना हॉलमार्किंग के गोल्ड ज्वैलरी बेचता पाया गया तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। एक साल की जेल के अतिरिक्त उस पर गोल्ड ज्वैलरी की वैल्यू की पांच गुना तक पेनाल्टी भी लगाई जा सकती है। हर कैरेट के सोने के लिए हॉलमार्क नंबर अंकित किए जाते हैं। ज्वैलर्स की ओर से 22 कैरेट के लिए 916 नंबर का इस्तेमाल किया जाता है। 18 कैरेट के लिए 750 नंबर का इस्तेमाल करते हैं और 14 कैरेट के लिए 585 नंबर का उपयोग किया जाता है। इन अंकों के जरिए आपको पता चल जाएगा कि सोना कितने कैरेट का है।

पढ़ें- 7th pay commission update : सरकारी कर्मचारियों को अ…

घर में रखे सोने का क्या होगा? 
गोल्ड हॉलमार्किंग का नियम लागू होने के बाद से कई लोगों के मन में यह सवाल है कि जो सोना उनके  घर पर पड़ा है, उसका क्या होगा और उसकी बिक्री कैसे होगी। बता दें कि गोल्ड हॉलमार्किंग के नियम के लागू होने का घर में रखे सोने की ज्वैलरी पर कोई असर नहीं पड़ेगा। आज अपने घर में सोना आसानी से रख सकते हैं। यानी इससे पुरानी ज्वैलरी बिक्री करने पर भी कोई असर नहीं होगा। आप पहले की ही तरह उसे ज्वैलर्स के यहां बेच सकते हैं। यह नियम ज्वैलर्स के लिए है। वे बिना हॉलमार्क के सोना नहीं बेच पाएंगे

पढ़ें- BJYM का प्रदर्शन, सरकार के ढाई साल पूरे होने पर मां…

पहले एक जून थी डेडलाइन
सरकार द्वारा स्वर्ण आभूषणों, कलाकृतियों की अनिवार्य हॉलमार्किंग के लिए गुणवत्ता नियंत्रण आदेश इसी साल 15 जनवरी को जारी किया गया था, लेकिन गैर-हॉलमार्क वाले आभूषणों के पुराने स्टॉक को हटाने के लिए अंतिम तिथि एक जून 2021 तक बढ़ा दी गई थी। लेकिन कोरोना महामारी की दूसरी लहर के चलते इसकी समयावधि में 15 दिन का इजाफा किया गया था। 

पढ़ें- दिल्ली दौरे पर रहेंगे सीएम शिवराज, पीएम मोदी से करे…

मिलेगा सिर्फ 14, 18 और 22 कैरेट वाला सोना
गोल्ड हॉलमार्किंग ( Gold Hallmarking ) सोने की शुद्धता का एक सर्टिफिकेट है। आज से सभी ज्वैलर्स को सिर्फ 14 कैरेट, 18 कैरेट और 22 कैरेट वाले गोल्ड की बिक्री की ही इजाजत है। बीआईएस अप्रैल 2000 से गोल्ड हॉलमार्किंग की स्कीम चला रही है। मौजूदा समय में सिर्फ 40 फीसदी ज्वैलरी की ही हॉलमार्किंग हुई है। ज्वैलर्स की सुविधा के लिए रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया को ऑनलाइन और ऑटोमैटिक कर दिया गया है। विश्व स्वर्ण परिषद (डब्ल्यूजीसी) के मुताबिक भारत में करीब चार लाख ज्वैलर्स हैं, जिनमें से 35,879 बीआईएस सर्टिफाइड हैं।