बच्चा पैदा करने में कम रुचि ले रहे भारतीय, इन नए आंकड़ों के क्या हैं मायने? समझिए

बच्चा पैदा करने में कम रुचि ले रहे भारतीय, इन नए आंकड़ों के क्या हैं मायने? समझिए

Edited By: , November 25, 2021 / 04:32 PM IST

Indians less interest in having children

नईदिल्ली। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा बुधवार को जारी नए राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण (एनएफएचएस) के अनुसार, दशकों से चले आ रहे एक सतत परिवार नियोजन कार्यक्रम के कारण, कुल प्रजनन दर (टीएफआर), या प्रति महिला बच्चों की औसत संख्या में गिरावट आई है। 2015-16 में रिपोर्ट किए गए 2.2 से आगे बढ़कर अखिल भारतीय स्तर पर 2.0 हो गया।

संयुक्त राष्ट्र के जनसंख्या विभाजन के अनुसार कम प्रजनन क्षमता का अनुभव करने वाले देश प्रति महिला 2.1 से कम बच्चे जन्म दे रहे हैं। यह इस बात का संकेत है कि एक पीढ़ी खुद को बदलने के लिए पर्याप्त बच्चे पैदा नहीं कर रही है। इससे अंततः जनसंख्या में एकमुश्त कमी आई है। सर्वेक्षण श्रृंखला में पांचवें एनएफएचएस 2019-21 के आंकड़े शहरी क्षेत्रों में प्रजनन दर 1.6 प्रतिशत और ग्रामीण भारत में 2.1 प्रतिशत दर्शाते हैं।

इस तरह के खबरों के लिए हमारे WhatsApp  ग्रुप से जुड़ने CLick करें !

Indians less interest in having children :

इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट फॉर पॉपुलेशन साइंसेज के निदेशक डॉ. केएस जेम्स के अनुसार 2 का कुल प्रजनन दर (TFR) देश में लंबी अवधि में जनसंख्या की स्थिरता का एक “निश्चित संकेतक” है। अध्ययन के मुख्य जांचकर्ता जेम्स ने कहा “संख्या का मतलब है कि दो माता-पिता दो बच्चों की जगह ले रहे हैं। लंबे समय में हमारे पास शून्य की संभावित विकास दर होगी। यह तत्काल नहीं है… 2.1 का टीएफआर एक ऐसी चीज है, जिसे एक देश हासिल करना चाहता है। इस तरह यह मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य सुधार के कारण एक बहुत बड़ा विकास है।”

read more: केंद्र ने छत्तीसगढ़ में PM आवास योजना का आवंटन किया रद्द, मंत्री सिंहदेव ने कहा ‘राज्यांश की राशि के लिए लेना पड़ता था लोन’
विशेषज्ञों ने टीएफआर के दो तक गिरने के तीन प्रमुख बिंदुओं पर प्रकाश डाला है, पहला विकास के लिए एक कम चुनौती, दूसरा सार्वजनिक स्वास्थ्य और तीसरा शिक्षा में कौशल के साथ निवेश का महत्व और पर्यावरण संरक्षण पर ध्यान देने की जरूरत।

उनके अनुसार “देश 2.1 के टीएफआर काे पाने को अपना लक्ष्य बना रहा है। 2 पर गिरने का मतलब है कि हमने जनसंख्या स्थिरीकरण के अपने लक्ष्य को हासिल कर लिया है। इसका मतलब है कि हम संभवतः अभी भी दुनिया में सबसे अधिक आबादी वाला देश बन जाएंगे – इसकी उम्मीद 2024-2028 के बीच कहीं थी – लेकिन अब इसमें देरी होगी। इसका मतलब है कि हमारे विकास में हमारी बहुत बड़ी आबादी की चुनौती चिंता का विषय नहीं है।”

read more: भाजपा की विभाजनकारी राजनीति के खिलाफ हाथ मिलाना चाहिए: पूर्व राज्यपाल कुरैशी
उन्होंने कहा, “संख्याएं हमें यह भी बताती हैं कि हमने मानव संसाधनों के विकास को स्थिर कर दिया है। अगले 2-3 दशकों के लिए युवा जनसंख्या प्रोफ़ाइल त्वरित आर्थिक विकास का अवसर प्रदान करेगी। लेकिन जनसंख्या स्थिरीकरण के साथ-साथ 2-3 दशकों तक युवा आबादी को जारी रखना, हमें त्वरित विकास के लिए एक बड़ा अवसर देना चाहिए – बशर्ते हम कौशल के साथ सार्वजनिक स्वास्थ्य और शिक्षा में निवेश करें।”

उन्होंने कहा, “महत्वपूर्ण बात यह है कि अब हम यह नहीं कह सकते कि जनसंख्या वृद्धि के कारण हमारे प्राकृतिक संसाधनों पर दबाव है। अब अगर हम जनसंख्या को स्थिर कर रहे हैं, तो वास्तव में पर्यावरण की उपेक्षा करने का कोई बहाना नहीं है।”

read more: सुनहरा मौका: छात्रों को स्कॉलरशिप दे रहा UGC, समय रहते करें ऑनलाइन आवेदन, यहां जाने विवरण

उन्होंने कहा, “महत्वपूर्ण बात यह है कि अब हम यह नहीं कह सकते कि जनसंख्या वृद्धि के कारण हमारे प्राकृतिक संसाधनों पर दबाव है। अब अगर हम जनसंख्या को स्थिर कर रहे हैं, तो वास्तव में पर्यावरण की उपेक्षा करने का कोई बहाना नहीं है।”

सर्वेक्षण के अनुसार टीएफआर 2 से अधिक टीएफआर वाले पांच राज्य हैं- बिहार (3), मेघालय (2.9), उत्तर प्रदेश (2.4), झारखंड (2.3) और मणिपुर (2.2)। इसी तरह सर्वेक्षण के अनुसार टीएफआर 2 से अधिक टीएफआर वाले पांच राज्य हैं- बिहार (3), मेघालय (2.9), उत्तर प्रदेश (2.4), झारखंड (2.3) और मणिपुर (2.2)।

‘अलग-अलग तरीके से व्यवधान पैदा करती है केंद्र सरकार’ सीएम बघेल के बयान पर नेता प्रतिपक्ष बोले- राजनीति कर रही राज्य सरकार