फटी रह गई आंखें.. जब मंत्री के OSD की महिला मित्र की ‘अटैची’ खुली, निकले 30 लाख कैश, 50 लाख के जेवर और सोने के बिस्किट

Minister's OSD's lady friend's briefcase opened, 30 lakh cash came out, 50 lakh jewelery and gold biscuits बिहार सरकार के खनन मंत्री जनक राम के ओएसडी मृत्युंजय कुमार के यहां स्पेशल विजिलेंस यूनिट ने उनके भाई धनंजय कुमार, महिला मित्र रत्ना चटर्जी के पटना, कटिहार, अररिया के अलग- अलग ठिकानों पर एक साथ रेड किया।

: , November 26, 2021 / 03:58 PM IST

कटिहार। बिहार सरकार के खनन मंत्री जनक राम के ओएसडी मृत्युंजय कुमार के यहां स्पेशल विजिलेंस यूनिट ने उनके भाई धनंजय कुमार, महिला मित्र रत्ना चटर्जी के पटना, कटिहार, अररिया के अलग- अलग ठिकानों पर एक साथ रेड किया।

पढ़ें- फाइजर की दूसरी डोज के 90 दिन बाद बढ़ने लगता है संक्रमण का खतरा, रिसर्च में सामने आई बात

कटिहार में रिटायर्ड सीडीपीओ रत्ना चटर्जी के आवास पर विशेष निगरानी इकाई की छापेमारी में उनके आवास से 30 लाख नगद, 50 लाख से अधिक के जेवर, कई सोने की बिस्किट और कई कागजात बरामद हुए हैं। बताया जा रहा है कि रत्ना चटजी के घर की अलमारी से एक अटैची मिली है जिसे खोला गया तो उसमे 30 लाख कैश, 50 लाख के जेवर और भारी मात्रा में गोल्ड बिस्किट देखते ही वहां मौजूद अधिकारी भी हैरान थे।

पढ़ें- टॉयलेट पेपर पर लिखकर सौंप दिया इस्तीफा, फिर ऐसा था बॉस का रिएक्शन.. देखिए

मिली जानकारी के अनुसार रत्ना चटर्जी खनन विभाग के ओएसडी मृत्युंजय कुमार की करीबी मित्र हैं और उनके कई अलमीरा भी इसी आवास में मौजूद थे।

पढ़ें- IND vs NZ: कानपुर टेस्ट में गुटखा खाते शख्स का वीडियो हो रहा वायरल, गुटखा चबाते ठाठ से मैच देख रहा था फैन.. वसीम जाफर ने भी किया शेयर 

फिलहाल निगरानी के डीएसपी चंद्र भूषण ने मामले की प्रारंभिक पुष्टि करते हुए कहा कि हम पूरे मामले की जांच कर रहे हैं और रत्ना चटर्जी और ओएसडी मृत्युंजय कुमार के बीच संबंध को लेकर भी जानकारी जुटाई जा रही है। बता दें, रत्ना चटर्जी को 2011 में विजिलेंस की टीम ने घूस लेते रंगे हाथ पकड़ा था, जिसके बाद से रत्ना चटर्जी को पद से बर्खास्त कर दिया गया था।

पढ़ें- जाने-माने गीतकार बिछु तिरुमला का निधन, 3000 से ज्यादा फिल्मी गाने और 2000 भक्ति गीत लिखे

बता दें कि मृत्युंजय कुमार बिहार प्रशासनिक सेवा के अधिकारी है। उनपर आरोप है कि जहां भी सेवा काल में रहे हैं दबदबे के साथ भ्रष्टाचार किया है। इनके खिलाफ जब भी शिकायत जाती थी तो प्रभावित कर सबकुछ मैनेज कर लेते थे। बताया जा रहा है कि मृत्युंजय कुमार के भाई धनंजय कुमार एवं इनके महिला मित्र के नाम पर बिहार, पश्चिम बंगाल समेत दूसरे राज्यों में अरबों की सम्पत्ति है।