हरिद्वार में मकर संक्रांति पर श्रद्धालुओं के स्नान पर रोक, 14 को ऋषिकेश के सभी घाटों में गंगा स्नान नहीं कर सकेंगे लोग

हरिद्वार में मकर संक्रांति पर श्रद्धालुओं के स्नान पर रोक, 14 को ऋषिकेश के सभी घाटों में गंगा स्नान नहीं कर सकेंगे लोग

Edited By: , January 11, 2022 / 11:10 AM IST

Makar Sankranti : हरिद्वार में मकर संक्रांति पर श्रद्धालुओं के स्नान पर रोक लगा दी गई है। करोना और नए वेरिएंट ओमीक्रोन का खतरा बना हुआ है। ऐसे में बढ़ते मामलों को देखते हुए जिला निर्वाचन अधिकारी और जिलाधिकारी ने बड़ा फैसला लिया है।  हरिद्वार में 14 जनवरी को मकर सक्रांति के पर्व पर होने वाले गंगा स्नान पर प्रतिबंध लगा दिया है।

पढ़ें- सरकारी नौकरी के लिए 6 साल बढ़ाई गई आयु सीमा.. अब 180 दिनों का मिलेगा मातृत्व अवकाश, इस सरकार ने लिया अहम फैसला

बता दें कि संक्रमण ना फैल सके इसके लिए ही जिला प्रशासन द्वारा गंगा स्नान पर रोक लगाई गई है। हरिद्वार के साथ ही ऋषिकेश के भी सभी घाटों पर मकर संक्रांति के पर्व पर गंगा स्नान करने पर रोक लगा दी गई है।

पढ़ें- रात 9 से सुबह 6 बजे तक नाइट कर्फ्यू, सिनेमाघर, मॉल में सीमित संख्या में मिलेगा प्रवेश, बस्तर के लिए आदेश

यहां भी श्रद्धालु मकर संक्रांति पर गंगा स्नान नहीं कर पाएंगे। दरअसल कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए व्यवस्था बनाए रखना जिला प्रशासन के लिए बड़ी चुनौती है। ऐसे में अगर मकर संक्रांति के पर्व पर गंगा स्नान की इजाजत दे दी जाती तो बड़ी संख्या में श्रद्धालु घाटों पर पहुंचते इससे कोरोना के फैलने का खतरा और बढ़ जाता। ऐसे में एहतियातन गंगा स्नान पर रोक लगाई गई है।

पढ़ें- इन राज्यों में आज से 14 जनवरी तक होगी जोरदार बारिश, फिर पड़ेगी कड़ाके की ठंड.. IMD ने जारी किया ऑरेंज और येलो अलर्ट

हर की पौड़ी क्षेत्र में श्रद्धालुओं के साथ स्थानीय लोगों के प्रवेश पर भी रोक

बता दें कि जनपद में लगातार बढ़ रहे मामलों को देखते हुए जिलाधिकारी विनय शंकर पांडे ने मकर सक्रांति के पर्व पर होने वाले गंगा स्नान पर रोक लगा दी है। इस आदेश के साथ हर की पौड़ी क्षेत्र पर बाहर से आने वाले श्रद्धालुओं के साथ-साथ स्थानीय लोगों के प्रवेश पर भी प्रतिबंध लगा दिया गया है। जिलाधिकारी ने इस संबंध में आदेश भी जारी कर दिया है। इसके साथ ही ये भी कहा है कि आदेश न मानने वालों पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

पढ़ें- मकर संक्रांति पर बन रहा दुर्लभ संयोग, पलट सकती है इन राशि वालों की किस्मत.. इसी दिन भीष्म ने त्यागा था देह.. जानिए पौराणिक महत्व?