‘गंगा जमुना का नाम’.. धर्मांतरण का काम! क्या खास वर्ग से जुड़े शिक्षण संस्थान मजहबी अड्डे बन रहे हैं?

Many revelations in investigation of case of wearing hijab to children

  •  
  • Updated On - June 5, 2023 / 11:40 PM IST

दमोहः मध्यप्रदेश के दमोह के गंगा जमना स्कूल में बच्चों को हिजाब पहनाने के मामले की जांच में कई सनसनीखेज खुलासे हुए हैं। स्कूल की 2 हिंदू टीचर धर्म परिवर्तन कराकर मुस्लिम बनी हैं। स्कूल प्रिंसिपल भी खरे से अफसरा शेख बनी हैं। बाल अधिकार आयोग की जांच में ये भी खुलासा हुआ है कि स्कूल परिसर में ही मस्जिद है। छात्राओं को बिना हिजाब पहने प्रवेश की अनुमति नहीं थी। स्टूडेंट्स को आपसी बातचीत में सलाम बोलना जरूरी था। भले ही छात्र किसी भी धर्म के हों.. लेकिन एडमिशन फार्म में उनकी फोटो हिजाब पहने हुए ही लगाई जानी जरूरी थी। आयोग को स्कूल में हिन्दू छात्र छात्राओं के मन परिवर्तन के भी सबूत मिले हैं। स्कूल संचालक के पास हजारों एकड़ जमीन होने की भी बात कही जा रही है, जिसमें विदेशी फंडिंग की भी आशंका है।

Read More : छत्तीसगढ़-मध्यप्रदेश में 31 जुलाई तक हटाए जाएंगे ऐसे अधिकारी, निर्देश जारी, ये वजह आ रही सामने 

बता दें कि नियमों के उल्लंघन के आरोप में स्कूल की मान्यता पहले ही खत्म की जा चुकी है। प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष वीडी शर्मा ने अब नए खुलासों को लेकर जांच की बात कही है। स्कूल की बच्चियों का हिजाब पहने ये पोस्टर वायरल होने के बाद मामला खुला था। जिसके बाद परत दर परत स्कूल संचालक की कारगुजारियों के और भी राज खुलते जा रहे हैं। जिसमें धर्मांतरण का खुलासा बेहद संगीन नजर आ रहा है और जिस तरह स्कूल को जरिया बनाकर एक खास मजहब के पाठ पढ़ाए जा रहे थे। हैरत की बात है कि इसकी भनक पहले क्यों नहीं लगी। इन खुलासों के बाद ये तो साफ़ है कि द केरला स्टोरी की तर्ज पर ही यहां द दमोह स्टोरी चल रही थी। ऐसे में आगे की तफ्तीश भी जरूरी है ताकि पूरे मंसूबे का खुलासा हो सकें।

Read More : धोनी की सर्जरी के बाद सामने आयी स्पेशल फोटो, मोहम्मद कैफ के परिवार के साथ आए नजर