मंकीपॉक्स महामारी कैसे फैल सकती है, चार परिदृश्य से समझाने की कोशिश

मंकीपॉक्स महामारी कैसे फैल सकती है, चार परिदृश्य से समझाने की कोशिश

: , June 22, 2022 / 05:48 PM IST

एडम क्लेज़कोव्स्की, गणित और सांख्यिकी के प्रोफेसर, यूनिवर्सिटी ऑफ स्ट्रैथक्लाइड ग्लासगो, 22 जून (द कन्वरसेशन) मानव में मंकीपॉक्स का पहला मामला 1970 में लोकतांत्रिक गणराज्य कांगो में रिपोर्ट किया गया था। तब से, कई बार मंकीपॉक्स का प्रकोप हुआ है, लेकिन वे आत्म-सीमित रहे हैं, मानव संचरण की श्रृंखला महामारी हुए बिना समाप्त हो गई।

हालाँकि, वर्तमान प्रकोप अलग है। मानव-से-मानव संचरण अधिक है, और यह बहुत व्यापक भौगोलिक क्षेत्र में है।

केवल हफ्तों में, मंकीपॉक्स 37 देशों में फैल गया है, जिसमें 2,600 से अधिक मामले हैं। तो, आने वाले हफ्तों और महीनों में मंकीपॉक्स होने की क्या संभावना है? मंकीपॉक्स के बारे में हम जो जानते हैं, उसमें बहुत अंतर है, लेकिन जो हम जानते हैं उसे अन्य संक्रामक रोगों के इतिहास के साथ मिलाने से संभावित भविष्य के परिदृश्यों का विश्लेषण करना संभव हो जाता है।

नीचे दिए गए चार परिदृश्य निम्नलिखित ज्ञान पर आधारित हैं: एक संक्रमित व्यक्ति से संक्रमित होने की संभावना वाले लोगों की औसत संख्या (यह मानते हुए कि उन्हें वायरस के खिलाफ टीका नहीं लगाया गया है या उन्हें पहले यह बीमारी हो चुकी है) 2.13 है। इसे मूल प्रजनन संख्या कहा जाता है, या आर. हर्ड इम्युनिटी – वह बिंदु जिस पर पर्याप्त लोगों में रोग प्रतिरोधक क्षमता होती है जिससे रोग संचरण कायम नहीं रह पाता है – 53% है (आर के इस मान के अनुरूप)। और वायरस की चपेट में आने से लेकर लक्षणों के प्रकट होने तक का समय पांच से 21 दिनों के बीच होता है।

परिदृश्य 1: आत्म-सीमित प्रकोप

ऐसा प्रतीत होता है कि 2022 की महामारी एक सुपर-स्प्रेडर घटना के रूप में शुरू हुई थी जिसमें मुख्य रूप से पुरुषों के साथ यौन संबंध रखने वाले पुरुषों का एक नेटवर्क शामिल था।

लेकिन वर्तमान प्रकोप तक यह मान लिया गया था कि वायरस की अपेक्षाकृत कम मानव-से-मानव संचरण क्षमता के चलते प्रारंभिक समुदाय के बाहर वायरस के फैलने की संभावना नहीं है।

इस परिदृश्य में, जोखिम में आबादी के प्रतिरक्षित होने और स्थानीय स्तर पर हर्ड इम्युनिटी तक पहुंचने के बाद प्रकोप जल्दी समाप्त हो जाता है। अतीत में, बहुत से लोगों में 20वीं सदी के अंत में चेचक के सामूहिक टीकाकरण कार्यक्रमों से कुछ प्रतिरक्षा (‘‘क्रॉस-इम्यूनिटी’’ कहा जाता है) थी। तो प्रभावी प्रजनन संख्या, आर, एक के करीब या उससे भी कम हो सकती है, और संचरण जल्द ही बंद हो जाएगा।

व्यवहार परिवर्तन आर संख्या को और भी कम कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, एक निश्चित दायरे में आबादी का टीकाकरण एक ‘‘फायरब्रेक’’ बना सकता है, जो अतिसंवेदनशील आबादी को और कम कर सकता है। इसी तरह की पिछली महामारियों में 2002-04 में सार्स का प्रकोप शामिल है, जब एक त्वरित हस्तक्षेप ने बीमारी को फैलने से रोक दिया था।

परिदृश्य 2: सभी जनसंख्या

मई और जून 2022 में मंकीपॉक्स का निरंतर प्रसार यह बताता है कि वायरस मूल नेटवर्क से आगे बढ़ रहा है। प्रकोप का आकार पहले से ही कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य (760) में सबसे प्रमुख 2017-19 के प्रकोप से काफी आगे है। यह संभव है कि बड़ी सभाओं, जिनमें समारोह और त्यौहार शामिल हैं, ने नए ट्रांसमिशन के लिए अनुकूल हालात बनाए हैं।

परिदृश्य 2 मानता है कि 50 वर्ष से कम आयु के सभी व्यक्ति संक्रमण के प्रति संवेदनशील हैं, जो 1970-80 के दशक में अनिवार्य चेचक के टीकाकरण के अंत को दर्शाता है। उच्च जोखिम वाले और गैर-प्रतिरक्षा समुदायों वाले क्षेत्रों को प्रभावी ढंग से खोजते हुए, वायरस फैलता रहेगा।

जब तक कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग और रिंग टीकाकरण का संयोजन प्रसार को नहीं रोकता है, तब तक मंकीपॉक्स फैलता रहेगा। लेकिन, मंकीपॉक्स की कम संचरण क्षमता को देखते हुए, महामारी 50% आबादी की हर्ड प्रतिरक्षा सीमा तक पहुंचने से पहले ही समाप्त हो सकती है।

परिदृश्य 3: स्थानिक बनना

पूर्ण उन्मूलन असंभव है क्योंकि मंकीपॉक्स पशु मेजबानों की एक विस्तृत श्रृंखला में मौजूद है। कम संप्रेषणीयता का अर्थ यह भी है कि यह जनसंख्या में निम्न स्तरों पर जीवित रह सकता है। इसके अलावा, लंबी ऊष्मायन अवधि और परिवर्तनशील लक्षण इसे पता लगाने से बचने में मदद देते हैं। इसलिए, हो सकता है कि मंकीपॉक्स पहले से ही लंबे समय से फैल रहा हो।

परिदृश्य 3 में, बड़े प्रकोप के बाद, रोग दीर्घकालिक, अपेक्षाकृत स्थिर स्तर पर टिक जाएगा।

पूर्व-टीकाकरण चेचक या चिकनपॉक्स के समान।

जन्म या प्रवास के कारण अतिसंवेदनशील लोगों की आमद जनसंख्या में वायरस को बनाए रखेगी। रोग को मिटाने के लिए बड़े पैमाने पर टीकाकरण कार्यक्रमों की आवश्यकता हो सकती है। लेकिन अपेक्षाकृत कम मंकीपॉक्स ट्रांसमिसिबिलिटी का मतलब है कि ऐसे कार्यक्रम अत्यधिक प्रभावी होने की संभावना है।

परिदृश्य 4: आवर्तक बड़ी महामारियाँ मौजूदा महामारी प्रकोपों ​​​​की एक श्रृंखला का पहला उदाहरण हो सकती है। लंबी अवधि (परिदृश्य 4) में, हमें भविष्य में ‘‘जूनोटिक घटनाओं’’ के कारण होने वाले मंकीपॉक्स की वापसी की उम्मीद करनी चाहिए, जहां रोग जानवरों से मनुष्यों तक पहुंच जाता है। जैसे-जैसे चेचक के टीकों से क्रॉस-इम्युनिटी कम होती है, महामारी और भी अधिक गंभीर हो सकती है।

मंकीपॉक्स के उत्परिवर्तित होने की क्षमता के बारे में बहुत कम जानकारी है। फिर भी, इसके अधिक तेजी से फैलने वाले संस्करण के रूप में विकसित होने की संभावना है।

मंकीपॉक्स के लिए प्रभावी टीके मौजूद हैं और लगभग 85% प्रभावी हैं। हालांकि वर्तमान में सभी को टीका लगाने के लिए पर्याप्त खुराक नहीं है, लेकिन मंकीपॉक्स की कम संचरण क्षमता को देखते हुए बड़े पैमाने पर टीकाकरण कार्यक्रम की कोई आवश्यकता नहीं है। इसके बजाय, सबसे अधिक जोखिम वाले लोगों को टीके लगाए जाने चाहिएं, जिसमें अफ्रीका में ऐसे समुदाय शामिल हैं जो वायरस वाले जंगली जानवरों के संपर्क में हैं।

द कन्वरसेशन एकता

एकता

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)