Maruti Will stop manufacturing Swift-Wagon R and Alto?

Swift-Wagon R जैसी छोटी गाड़ियों का निर्माण बंद करेगी मारुति? कंपनी के चेयरमैन आर सी भार्गव ने कही बड़ी बात

Swift-Wagon R जैसी छोटी गाड़ियों का निर्माण बंद करेगी मारुति? Maruti Will stop manufacturing Swift-Wagon R and Alto?

Edited By: , July 1, 2022 / 01:02 PM IST

नई दिल्ली: Maruti Will stop manufacturing Swift केंद्रीय परिवहन मंत्रालय ने बीते दिनों कार निर्माता कंपनियों को निर्देश जारी करते हुए सभी कारों में 6 एयरबैग अनिवार्य तौर पर लगाने को कहा था, जिसके बाद देश की नामी कार निर्माता कंपनी मारुति सुजुकी के चेयरमैन आरसी भार्गव का बड़ा बयान सामने आया है। आरसी भार्गव ने कहा है कि अगर ये नियम लागू कर दिया गया तो छोटी कारों की कीमतें बढ़ जाएंगी और अव्यवहारिक हो जाती हैं। ऐसे हालत में कंपनी छोटी कारें बनाना बंद कर सकती है।

Read More: अगर आप में हैं खून की कमी तो हो जाइए सचेत, एनीमिया से बचना है तो रोज खाएं ये चीजें… 

Maruti Will stop manufacturing Swift मारुति सुजुकी के चेयरमैन आर सी भार्गव ने कहा कि अगर सरकारी नीतियों के चलते छोटी कारें अव्यवहारिक हो जाती हैं, तो कंपनी इन कारों का उत्पादन बंद करने से नहीं झिझकेगी। उन्होंने कहा कि सभी कारों में 6 एयरबैग (Airbags) अनिवार्य हो जाने से ये वाहन काफी महंगे हो जाएंगे और आम आदमी की पहुंच से बाहर हो जाएंगे।

Read More: आर्मी कैंप के पास भूस्खलन से 14 लोगों की मौत, भिलाई का एक जवान भी लापता

परिवहन मंत्री नितिन गडकरी द्वारा छह एयरबैग अनिवार्य करने के प्रस्ताव के बारे में पूछे जाने पर भार्गव ने देश के नामी मीडिया संस्थान से बात करते हुए बताया कि इस कदम से कारों की कीमतें बढ़ेंगी। साथ ही इससे सड़क दुर्घटनाओं में होने वाली बड़ी संख्या में मौतों के मुद्दे से निपटने में भी मदद मिल सकती है। उन्होंने कहा कि उस स्थिति में कंपनी कॉम्पैक्ट्स कारों की बिक्री से अच्छा मुनाफा नहीं कमा पाएगी।

Read More: …उनके लिए रेड कॉर्पेट होना चाहिए? सुप्रीम कोर्ट ने नूपुर शर्मा के वकील से पूछा, खारिज की केस ट्रांसफर करने की याचिका

बता दें कि केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने दिल्ली में एक कार्यक्रम में कहा, “हमने कारों में छह एयरबैग को अनिवार्य बनाने का निर्णय लिया है, यहां तक कि इकोनॉमिक मॉडल में भी। अब कुछ कंपनियां भारत में ऐसी कारें बना रही हैं, जो अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुरूप नहीं हैं। लेकिन वे उसी मॉडल को विदेशी बाजारों के लिए मानकों के अनुरूप बना रही हैं। मुझे यह कभी समझ नहीं आता।” गडकरी ने कहा कि सभी कारों में छह एयरबैग अनिवार्य करने का कदम भारतीय सड़कों को सुरक्षित बनाने के प्रयास का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। उन्होंने कहा, “हमें ऐसे फैसलों के महत्व को समझने की जरूरत है। जब भारत में बड़ी संख्या में सड़क दुर्घटनाओं से मौते हो रही हैं, तो वे (वाहन निर्माता) इसे गंभीरता से क्यों नहीं ले रहे हैं?”

Read More: …तो इसलिए भाजपा ने गठबंधन के बाद एकनाथ शिंदे को बनाया मुख्यमंत्री, खुद किया खुलासा, बताया मास्टरस्ट्रोक

गडकरी ने कहा कि कुछ ऑटोमोबाइल कंपनियां कारों में छह-एयरबैग स्टैंडर्ड का लगातार विरोध कर रही हैं, जबकि यह फैसला किसी का जीवन बचाने वाला है। कारों में छह एयरबैग के प्रस्ताव की घोषणा करते हुए गडकरी ने मार्च में संसद को यह भी बताया था कि कारों में छह एयरबैग होने से 2020 में 13,000 लोगों की जान बचाई जा सकती थी। मंत्री ने कहा कि जब ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री में ग्रोथ हो रही है और वाहनों की संख्या बढ़ रही है, तो यह देखना और भी महत्वपूर्ण हो जाता है कि सड़कें सुरक्षित हों। भारत के पास दुनिया भर में बमुश्किल 1% वाहन हैं, लेकिन दुनिया में सड़क पर होने वाली मौतों में 10% केवल भारत से हैं।

Read More: अब सोना खरीदना हुआ महंगा, सरकार ने इतने प्रतिशत बढ़ाई Excise Duty

 

#HarGharTiranga