gujarat government DA hike cm bhupendra announcement on 15 august

स्वतंत्रता दिवस पर इस राज्य के सरकारी कर्मचारियों की हुई चांदी, 3 प्रतिशत बढ़ा DA, सीएम ने किया ऐलान

gujarat government DA hike: स्वतंत्रता दिवस पर गुजरात के सरकारी कर्मचारियों की चांदी हो गई। उन्हें शानदार खुशखबरी मिली।

Edited By: , August 15, 2022 / 09:14 PM IST

gujarat government DA hike: स्वतंत्रता दिवस पर गुजरात के सरकारी कर्मचारियों की चांदी हो गई। उन्हें शानदार खुशखबरी मिली। बढ़ती महंगाई में उनकी बल्ले-बल्ले हो गई। सभी के चेहरे पर मुस्कान छा गई। दरअसल,  राज्य के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने स्वतंत्रता दिवस पर राज्य सरकार के कर्मचारियों को शानदार तोहफा दिया। उन्होंने देश के 76वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर एक सरकारी कार्यक्रम में तिरंगा फहराने के बाद इस संबंध में ऐलान किया। उन्होंने राज्य सरकार के कर्मचारियों और पेंशनभोगियों के लिए महंगाई भत्ता 3 फीसदी बढ़ाने और नेशनल फूड सिक्योरिटी एक्ट के तहत कल्याण योजनाओं का विस्तार करने का ऐलान किया।

read more :  Weather Update: मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट, इन राज्यों में होगी झमाझम बारिश

उन्होंने इस मौके पर नेशनल फूड सिक्योरिटी एक्ट के कार्डहोल्डर्स के लिए 01 किलोग्राम दाल की योजना के विस्तार का भी ऐलान किया। मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि अधिक लोगों तक इसका लाभ पहुंचाने के लिए आमदनी की लिमिट बढ़ाई जाएगी। उन्होंने कहा कि इसके तहत राज्य के सभी 250 तालुका के 71 लाख एनएफएसए कार्डहोल्डर्स को रियायती दर पर हर महीने एक किलोग्राम दाल मिलेगी। अभी इस योजना का लाभ सिर्फ 50 विकासशील तालुका के लोगों को ही मिल रहा है।

read more : नहीं देखी होगी सपना चौधरी की ऐसी सादगी, तिरंगा साड़ी पहन दिया देशप्रेम का ऐसा मंत्र, कहा- ‘हमारी मोहब्बत मजहब से नहीं मुल्क से है’, देखें वीडियो 

01 जनवरी 2022 से लागू होगा बढ़ा महंगाई भत्ता

मुख्यमंत्री पटेल ने कहा कि 7वें वेतन आयोग के तहत गुजरात सरकार के कर्मचारियों के लिए डीए को 3 फीसदी बढ़ाया जा रहा है। बढ़ा महंगाई भत्ता 01 जनवरी 2022 से लागू होगा। कर्मचारियों को जनवरी से लेकर जुलाई तक के एरियर का भी भुगतान किया जाएगा। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार के इस फैसले के अमल में आने से 9।38 लाख सरकारी कर्मचारियों, पंचायत सेवकों और पेंशनभोगियों को सीधा लाभ होगा। उन्होंने कहा कि सरकार के ऊपर इस फैसले से हर साल करीब 1,400 करोड़ रुपये का अतिरिक्त बोझ आएगा।

read more : रामायण की ‘सीता’ ने PakPMO को किया टैग, हो गई ऐसी भूल, यूजर्स बोले- हे प्रभु कहां हो आप! 

और भी है बड़ी खबरें…