Uttarkashi Tunnel Rescue Update : मजदूरों को करना पड़ेगा और इंतजार, टनल में अभी भी जारी है खुदाई का काम

Uttarkashi Tunnel Rescue Update : 41 मजदूर पिछले 17 दिनों से टनल के अंदर फंसे हुए हैं। मजदूरों को बाहर निकालने के लिए लगातार रेस्क्यू कार्य

  •  
  • Publish Date - November 28, 2023 / 05:12 PM IST

देहरादून : Uttarkashi Tunnel Rescue Update : उत्तराखंड के उत्तरकाशी की सिल्क्यारा टनल में फंसे 41 मजदूर कभी भी बाहर आ सकते हैं। पूरे देश और मजदूरों के परिजनों की निगाहें सुरंग के मुहाने पर तिकी हुई है। बता दें कि, 41 मजदूर पिछले 17 दिनों से टनल के अंदर फंसे हुए हैं। मजदूरों को बाहर निकालने के लिए लगातार रेस्क्यू कार्य जारी है। मजदूरों को टनल से बाहर निकालने के लिए हाइटेक अभियान के साथ साथ पारंपरिक बचाव के उपायों को भी अमल में लाया जा रहा है। माइक्रो टनल एक्सपर्ट क्रिस कूपर ने कहा था कि हम मैनुअल ड्रिलिंग पर ही ध्यान केंद्रित कर रहे हैं और हमें विश्वास है कि नतीजा पक्ष में रहेगा।

यह भी पढ़ें : MP Assembly Election 2023: बालाघाट में वैलेट पेपर खोलने के मामले में बड़ी कार्रवाई, नोडल अधिकारी को किया निलंबित 

टनल में फंसे लोगों से हो रही है बात

NHAI के मेंबर विशाल चौहान ने बताया कि फिलहाल सुरंग में 58 मीटर तक ड्रिलिंग हो चुकी है, साथ ही अंदर से मलबा निकाला जा रहा है। अभी करीब 2 मीटर और पुश करना है। उसके बाद ही हम अंदर फंसे मजदूरों तक पहुंच पाएंगे। अंदर मौजूद लोगों से वॉकी-टॉकी के जरिए बात करने पर पता चल रहा है कि उन्हें भी ड्रिलिंग की आवाज आ रही है। इसका मतलब ये है कि हम सही दिशा में आगे बढ़ रहे हैं और जल्द ही अपनी मंजिल पा लेंगे।

अब भी बाकी है 2 मीटर खुदाई का काम

Uttarkashi Tunnel Rescue Update : लेफ्टिनेंट जनरल (रिटायर्ड) सैयद अता हसनैन ने कहा कि सुरंग में 58 मीटर तक खुदाई पूरी हो गई है। इसके लिए रात भर हाथों से खुदाई का काम किया गया और वहां से मलबा बाहर निकाला गया। अब केवल 2 मीटर का एरिया बाकी है। जैसी ही यह काम पूरा होगा, अंदर फंसे मजदूरों को एक-एक करके बाहर निकालने का काम शुरू कर दिया जाएगा।

यह भी पढ़ें : Kia Seltos Facelift Price: किआ सेल्टोस फेसलिफ्ट के कीमतों में कंपनी ने किया बदलाव, हटाया ये शानदार फीचर 

अंदर फंसे और ऑपरेशन में लगे सभी लोगों की जान कीमती

Uttarkashi Tunnel Rescue Update : NDMA के मेंबर लेफ्टिनेंट जनरल (रिटायर्ड) सैयद अता हसनैन ने कहा कि इस रेस्क्यू ऑपरेशन में बहुत बाधाएं आई हैं। 400 घंटे से ज्यादा समय से हम इस अभियान में लगे रहे। हमारे लिए अंदर फंसे और ऑपरेशन में लगे सभी लोगों की जान कीमती है। हमें किसी तरह की जल्दबाजी नहीं है। ऐसे में जल्दबाजी में किसी भी तरह की घोषणा करना सही नहीं होगा।

सर्वे फॉर्म: छत्तीसगढ़ में किसकी बनेगी सरकार, कौन बनेगा सीएम? इस लिंक पर ​क्लिक करके आप भी दें अपना मत

सर्वे फॉर्म: मध्यप्रदेश में किसकी बनेगी सरकार, कौन बनेगा सीएम? इस लिंक पर ​क्लिक करके आप भी दें अपना मत

IBC24 की अन्य बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Follow the IBC24 News channel on WhatsApp