IBC-24

जुरासिक वर्ल्ड: फॉलेन किंगडम और काला दोनों का चला जादू

Reported By: Renu Nandi, Edited By: Renu Nandi

Published on 08 Jun 2018 04:10 PM, Updated On 08 Jun 2018 04:10 PM

मुंबई। इस गुरुवार को  दो बड़ी फिल्में रिलीज हुई हैं हॉलीवुड फिल्म 'जुरासिक वर्ल्ड: फॉलेन किंगडम' और दूसरी है रजनीकांत की काला आइये जानते हैं नीलम अहिरवार से फिल्म की समीक्षा .

1993 में शुरु हुई जुरासिक फिल्मों की ये चौथी किस्त है और भले ही कहानी पिछली फिल्मों से मिलती जुलती है लेकिन कुछ नया करने की कोशिश की गई है। जुरासिक वर्ल्ड फॉलेन किंगडम की कहानी साल 2015 में आई जुरासिक वर्ल्ड के आगे की कहानी है फिल्म की कहानी जुरासिक वर्ल्ड के तबाह हो चुके आइलैंड से शुरु होती जहां कुछ डायनासोर अभी भी बचे हैं और इनकी प्रजातियों को रेसक्यू करने के लिए अभियान चलाया जाता है। जिसका जिम्मा सौंपा जाता है ओवेन (क्रिस प्रैट) और क्लैरी ( ब्राइस डलास) को क्योंकि ओवेन एक डायनासोर ट्रेनर रह चुका है वो एक खूंखार डायनासोर को ट्रेंड कर सकता है लेकिन इन डायनासोर को नए आइलैंड पर शिफ्ट करने के पीछे का कारण क्या है ये आखिर क्यो दुश्मन पार्टी डायनासोर्स प्रजातियों को बचाने का अभियान लगाती हैं. ये जानने के लिए आपको फिल्म देखनी पड़ेगी।

 

अगर फिल्म की खूबी की बात की जाए तो फिल्म की परफॉर्मेंस लाजवाब हैं लेकिन फिल्म के असली हीरो विज़ुअल टीम और सिनेमैटोग्राफर ऑस्कर फॉरा हैं. फिल्म का पहला पार्ट काफी दमदार हैं लेकिन इंटरवल के बाद फिल्म थोड़ी कमजोर हो जाती है और खास बात ये है कि इस बार डायनासोर का वो दममदार और खौफनाक अंदाज देखने को नहीं मिला जैसा पिछली फिल्म में मिला था ये फिल्म कहीं ना कहीं आपको थोड़ा निराश कर सकती है लेकिन अगर आप जुरासिक वर्ल्ड सीरिज के फैन हैं तो आप इस देख सकते है। 

अब बात करते हैं डॉन 'काला' यानी रजनीकांत की फिल्म की ,काला' का डायरेक्शन पी रंजीत ने किया है। जिन्होंने इससे पहले रजनीकांत की फिल्म 'कबाली' को डायरेक्ट किया था फिल्म को रजनीकांत के दामाद धनुष ने प्रोड्यूस किया.है. फिल्म की कहानी मुंबई के धारावी इलाके से शुरू होती है जहां का राजा काला करिकालन (रजनीकांत) अपने परिवार के साथ रहता है. काला की साउथ के एक गांव से मुंबई के धारावी इलाके तक पहुंचने की सफर को फिल्म के दौरान दर्शाया जाता है.आज वो धारावी का किंग है वो गरीबों का मसीहा है गरीबों के लिए अच्छे काम करता है.

वहां के लोग उसकी बात मानते हैं उसका सम्मान करते है। उसे वोट देते हैं फिल्म हुमा कुरैशी भी है जिन्होने काला की प्रेमिका का रोल प्ले किया है जो जवानी के दिनों में काला से प्रेम किया करती थीं. उनकी अधूरी कहानी भी काफी इमोशनल टच लाती है. इसी बीच एंट्री होती है हरिदेव यानी नाना पाटेकर की जो काला का दुश्मान...इन दोनों के बीच की दुश्मनी देखने लायक है...फिल्म इमोशन एक्शन और ड्रामा खूब डाला गया है. लेकिन फिल्म की कमोजर कड़ी इसका सेकेंड पार्ट है जो काफी खींचा लगता है.फिल्म में रजनीकांत और सिर्फ रजनीकांत छाए हुए हैं उनका स्टाइल, डायलॉग्स बोलने का अंदाज और नाना पाटेकर के साथ उनकी टकरार आपको इंप्रेस कर देगी.अब देखना ये है कि बॉक्सऑफिस पर डायनासोर का खौफ काम आता है या फिर डॉन काला का जादू चलता है..

 

 

 वेब डेस्क IBC24

 

Web Title : Film Review :

ibc-24