मप्र सरकार ने 17 महीने में 384 औद्योगिक इकाइयों को 840 एकड़ जमीन आवंटित की: मुख्यमंत्री चौहान

मप्र सरकार ने 17 महीने में 384 औद्योगिक इकाइयों को 840 एकड़ जमीन आवंटित की: मुख्यमंत्री चौहान

Edited By: , September 14, 2021 / 08:48 PM IST

भोपाल, 14 सितंबर (भाषा) मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि पिछले 17 महीने में प्रदेश में 384 औद्योगिक इकाइयों को 840 एकड़ भूमि आवंटित की गई। उन्होंने कहा कि इससे प्रदेश में अनुमानित 11,000 करोड़ रुपए का निवेश होगा।

मंगलवार को जारी एक आधिकारिक बयान के मुताबिक चौहान ने कहा, ‘‘ कोरोना वायरस की महामारी के बावजूद पिछले 17 महीनों में प्रदेश में 384 इकाइयों को 840 एकड़ जमीन आवंटित की गई है। इससे 11 हजार करोड़ रुपये का पूंजी निवेश होगा और 22 हजार लोगों को रोजगार मिलेगा।’’

मुख्यमंत्री एक दिन पहले भोपाल के पास अचारपुरा औद्योगिक क्षेत्र के टेक्सटाइल पार्क में 110 करोड़ रुपए के निवेश वाली रेडीमेड गारमेंट इकाई गोकुलदास एक्सपोर्ट्स लिमिटेड की आधारशिला रखने के बाद एक समारोह को संबोधित कर रहे थे।

चौहान ने यह भी कहा, ‘‘ प्रदेश में कोरोना वायरस संकट की परिस्थितियों के बावजूद औद्योगिक इकाइयों में 48 प्रतिशत, भूमि आवंटन में 32 प्रतिशत, पूंजी निवेश में 33 प्रतिशत और रोजगार सृजन में 38 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

उन्होंने कहा कि गोकुलदास एक्सपोर्ट्स द्वारा प्रस्तावित इकाई 10 एकड़ भूमि पर बनाई जाएगी तथा कंपनी द्वारा यहां 110 करोड़ रुपए का निवेश किया जाएगा। जिससे चार हजार से अधिक स्थानीय लोगों को रोजगार मिलेगा। इसके साथ ही इस संयंत्र में तीन चौथाई से अधिक कर्मचारी महिलाएं होगीं। इस इकाई से कुल मिलाकर लगभग दस हजार लोगों को रोजगार मिलने की उम्मीद है।

अचारपुरा औद्योगिक क्षेत्र 146 हेक्टेयर भूमि पर विकसित किया गया है। यहां टेक्सटाइल पार्क में 154 भूखंड है जिनमें उद्योग स्थापित करने के लिए 800 करोड़ रुपए के पूंजी निवेश की संभावना है।

कार्यक्रम में चौहान के अलावा प्रदेश के औद्योगिक नीति एवं निवेश संवर्धन मंत्री राजवर्धन सिंह दत्तीगांव, चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग, भाजपा विधायक (बैरसिया) विष्णु खत्री, गोकुलदास एक्सपोर्ट्स के प्रबंध निदेशक शिवराम कृष्ण गणपति सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश ने ईज ऑफ डूइंग बिजनेस के मामले में एक लंबी छलांग लगाई है। इस मामले में मध्यप्रदेश अब देश में चौथे स्थान पर है। हमारा प्रयास अगली रैंकिंग में मध्यप्रदेश को देश के शीर्ष तीन स्थानों में लाने का है।

मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि प्रदेश में अधिक से अधिक रोजगार के अवसर पैदा करने के लिए श्रम प्रधान उद्योगों को बढ़ावा दिया जा रहा है। प्रदेश में फार्मा, आटो, टेक्सटाइल, गारमेंट, खाद्य प्रसंस्करण और इंजीनियरिंग उत्पादों जैसे उद्योगों में निवेश को प्रोत्साहन दिया जा रहा है।

बड़े भूखंडों की उपलब्धता का जिक्र करते हुए चौहान ने कहा कि उद्योगों के लिए प्रदेश में विशाल भूमि बैंक उपलब्ध है जिसमें 30 हजार एकड़ विकसित भूमि और 33,664 एकड़ अविकसित भूमि औद्योगिक क्षेत्रों के लिए उपलब्ध है।

गोकुलदास एक्सपोर्ट्स के प्रबंध निदेशक ने कहा कि उनके उत्पादों को अमेरिका, ब्रिटेन और जापान सहित कई देशों में निर्यात किया जाता है।

भाषा

वैभव महाबीर

महाबीर