अस्पताल प्रबंधन की बड़ी लापरवाही, दूसरे परिवार को ​दे दिया वृद्ध महिला की लाश

अस्पताल प्रबंधन की बड़ी लापरवाही, दूसरे परिवार को ​दे दिया वृद्ध महिला की लाश

Edited By: , March 11, 2021 / 07:17 PM IST

अहमदाबाद: एक बड़ी चूक में अहमदाबद नगर निगम के एक अस्पताल के मुर्दाघर से एक वृद्धा का शव एक अन्य परिवार को सौंप दिया गया जिसने उसका अंतिम संस्कार भी कर दिया। जब लेखाबेन चंद (65) के परिवार के सदस्य रविवार को वी एस अस्पताल पहुंचे तब वे मुर्दाघर में उनका शव नहीं पाकर स्तब्ध रह गये। चंद का शव उनके बेटे के कनाडा से यहां पहुंचने तक के लिए मुर्दाघर में रखा गया था। अस्पताल के एक वरिष्ठ अधिकारी ने पीटीआई-भाषा से कहा कि ‘शव की अदला-बदली हो गयी’ और पुलिस इस मामले की जांच कर रही हैं ।

Read More: मध्यप्रदेश में आज 870 कोरोना संक्रमितों की पुष्टि, 7 मरीजों की मौत, अब कुल सक्रिय मामलों की संख्या 9146

परिवार के सदस्यों ने 11 नवंबर की सुबह को इस अस्पताल के मुर्दाघर में शव रखा था क्योंकि वे लोग उनके अंतिम संस्कार के वास्ते उनके प्रवासी बेटे के कनाडा से आने का इंतजार कर रहे थे। चंद के परिवार के सदस्यों ने बताया कि जब वे लोग रविवार को शव लाने अस्पताल पहुंचे तब उन्होंने ‘शव गायब’ पाया तथा बाद में उन्हें पता चला कि वह शव कोई और परिवार ले गया और उसने अंतिम संस्कार भी कर दिया।

Read More: बिरसा मुंडा की जयंति पर सीएम शिवराज का ऐलान, कहा- अब आदिम जनजातीय मंत्रालय जाना जाएगा जनजातीय कार्य मंत्रालय के नाम से

अस्पताल प्रशासन पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए चंद के परिवार के सदस्यों ने कहा कि अस्पताल में सीसीटीवी कैमरे नहीं हैं और उसने ऐसे शवों का कोई उपयुक्त रिकार्ड नहीं रखा जिससे उनके अदला-बदली या गायब हो जाने की आशंका बढ़ गयी। उनके अनुसार वृद्धा की 10-11 नवंबर की रात को दिल का दौरा पड़ने से मौत हुई थी। ग्यारह नवंबर को परिवार के सदस्यों ने उनका शव मुर्दाघर में रखने का निर्णय लिया था ताकि उनका बेटा उनका अंतिम संस्कार करने के लिए कनाडा से लौट सकें।

Read More: दबंगों ने घर में घुसकर की मारपीट, कैमरे में कैद हुआ लाठियों से पिटाई का वीडियो, उपचुनाव में वोट न देने पर दबंगई का आरोप

वृद्धा के बेटे अमित चंद ने कहा, ‘‘ आखिर बार अपनी मां का चेहरा देखने के लिए मैंने करीब 36 घंटे का सफर किया। यहां हमने उनके स्थान पर एक पुरूष का शव पाया। अधिकारियों के पास दस्तावेज नहीं हैं जो हमने शव के साथ सौंपे थे। हमें कोई रसीद नहीं दी गयी थी। ’’ वी एस अस्पताल के रेजिडेंट मेडिकल अधिकारी कौशिक बेगडा ने कहा, ‘‘ शव की अदला-बदली हो गयी और जो लोग शव ले गये, उनकी पहचान कर ली गयी है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।’’

Read More: कस्टमर केयर अधिकारी बनकर लोगों को लगाया करोड़ों रुपए का चूना, गिरोह के तीन सदस्य पहुंचे हवालात