एसजीपीसी को खालिस्तान की मांग का विरोध करना चाहिए : बिट्टा

एसजीपीसी को खालिस्तान की मांग का विरोध करना चाहिए : बिट्टा

: , May 14, 2022 / 08:22 PM IST

शिमला, 14 मई (भाषा) ऑल इंडिया एंटी-टेररिस्ट फ्रंट (एआईएटीएफ) के प्रमुख मनिंदरजीत सिंह बिट्टा ने शनिवार को कहा कि शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक समिति (एसजीपीसी) को अतिवादियों द्वारा खालिस्तान की मांग का विरोध करना चाहिए।

बिट्टा ने मीडिया से कहा कि उन्होंने हमेशा कहा है कि एसजीपीसी को इस मांग का विरोध करना चाहिए। धर्मशाला में राज्य विधानसभा परिसर के द्वार पर खालिस्तानी झंडे लगाए जाने के कुछ दिनों बाद बिट्टा ने कहा कि हिमाचल प्रदेश के सिखों को भी राज्य के गुरुद्वारों में मांग का विरोध करने के लिए इकट्ठा होना चाहिए।

उन्होंने कहा कि खालिस्तान कभी अस्तित्व में नहीं था और न ही भविष्य में कभी होगा। बिट्टा ने कहा कि केंद्र को ‘सिख फॉर जस्टिस’ के नेता गुरपतवंत सिंह पन्नून समेत खालिस्तानी नेताओं के खिलाफ धमकी और खालिस्तान समर्थक बयान जारी करने के लिए सख्त कार्रवाई करनी चाहिए।

बिट्टा ने स्वर्ण मंदिर में जरनैल सिंह भिंडरावाले का स्मारक बनाने पर भी सवाल उठाया। एआईएटीएफ प्रमुख ने हाल में भिंडरावाले की तस्वीरों वाले वाहनों को प्रवेश की अनुमति नहीं देने के लिए हिमाचल प्रदेश पुलिस की प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश पुलिस ने जो किया है पंजाब, हरियाणा और दिल्ली सरकारें वही कर सकती हैं।

भाषा आशीष माधव

माधव

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)