मध्य प्रदेश : इंदौर में ओमीक्रोन स्वरूप के आठ मामले सामने आए |

मध्य प्रदेश : इंदौर में ओमीक्रोन स्वरूप के आठ मामले सामने आए

मध्य प्रदेश : इंदौर में ओमीक्रोन स्वरूप के आठ मामले सामने आए

: , December 26, 2021 / 07:42 PM IST

भोपाल, 26 दिसंबर (भाषा) मध्य प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने रविवार को कहा कि प्रदेश के इंदौर में कोरोना वायरस के ओमीक्रोन स्वरूप के आठ मामले सामने आए हैं।

यह पहला मौका है जब मध्य प्रदेश सरकार ने प्रदेश में इस नये स्वरूप से संक्रमण के मामले की पुष्टि की है।

मिश्रा ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘इंदौर में ओमीक्रोन के आठ नए मामले सामने आए हैं। इन मरीजों में से छह स्वस्थ हो गए हैं और उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है, जबकि दो का इलाज चल रहा है। हालांकि इन दोनों में जुकाम-खांसी या कोरोना वायरस से संक्रमण का कोई लक्षण नहीं है। उन्हें भी अस्पताल से जल्द छुट्टी मिलने की संभावना है।’’

उन्होंने कहा कि हाल में करीब 3000 लोग विदेश से इंदौर लौटे और उनमें से 26 कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए। इन सभी 26 लोगों के संपर्क में आये लोगों का पता भी लगा लिया गया है और वे सभी संक्रमित नहीं पाये गये।

मिश्रा ने बताया, ‘‘इनमें से आठ लोगों के जीनोम अनुक्रमण में ओमीक्रोन की पुष्टि हुई थी।’’ अधिकारियों के मुताबिक विभिन्न देशों से प्रदेश के औद्योगिक केंद्र इंदौर लौटे इन लोगों के नमूने 17 से 21 दिसंबर के बीच लिए गए थे।

उन्होंने कहा कि संक्रमितों में 20 और 30 साल की उम्र के दो पुरुष थे, जो क्रमश: 14 और 19 दिसंबर को न्यूयॉर्क (अमेरिका) से आए थे। इनके अलावा 14 दिसंबर को लंदन (ब्रिटेन) से पहुंची 23 वर्षीय महिला, 19 दिसंबर को तंजानिया (पूर्वी अफ्रीका) से लौटी 33 वर्षीय महिला, 17 दिसंबर को घाना (पश्चिम अफ्रीका) से लौटी 33 वर्षीय महिला और क्रमशः 13 और 18 दिसंबर को दुबई से पहुंचे 26 और 31 साल की उम्र के दो पुरुष भी शामिल हैं।

इसी बीच, कांग्रेस की मध्य प्रदेश इकाई के अध्यक्ष कमलनाथ ने राज्य सरकार द्वारा ओमीक्रोन के मामले देरी से बताने पर सवाल उठाते हुए कहा कि राज्य सरकार बताये कि इतनी गंभीर बात को अब तक छुपाया क्यों गया।

कमलनाथ ने यहां बयान जारी कर कहा, ‘‘कोरोना के नये स्वरूप ओमीक्रोन को लेकर मध्य प्रदेश में आज एक बड़ा खुलासा सामने आया है कि प्रदेश के इंदौर में विदेशों से आये लोगों में से 26 लोग संक्रमित पाए गए थे। उसमें से आठ मरीजों की जांच में ओमीक्रोन से संक्रमण की पुष्टि हुई है। ये बेहद गंभीर मामला है। सरकार बताये कि इतनी गंभीर बात को अब तक छुपाया क्यों गया?’’ उन्होंने कहा, ‘‘इन आठ मरीजों के नमूने जांच के लिए कब भेजे गये थे। इनकी जांच रिपोर्ट कब सामने आई। इनमें ओमीक्रोन से संक्रमण की पुष्टि कब हुई? सरकार ने इनका खुलासा क्यों नहीं किया?’’

कमलनाथ ने कहा कि ओमीक्रोन की प्रदेश में दस्तक को देखते हुए प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को तो इंदौर जाकर स्वास्थ्य सेवाओं की समीक्षा करनी चाहिए। उन्हें इलाज-बेड-अस्पताल-ऑक्सीजन, जीवनरक्षक दवाइयों की उपलब्धता की समीक्षा करनी चाहिए, लेकिन वह तो खुद ही भीड़ भाड़ वाले आयोजन कर रहे हैं।

कमलनाथ के आरोपों पर प्रतिक्रिया देते हुए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की प्रदेश इकाई के प्रवक्ता पंकज चतुर्वेदी ने ‘पीटीआई-भाषा’ से कहा कि राज्य सरकार ने कोरोना वायरस को फैलने से रोकने और स्थिति से निपटने के लिए सभी आवश्यक इंतजाम किए हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘कमलनाथ को इस तथ्य की जानकारी होनी चाहिए कि संक्रमितों के जीनोम अनुक्रमण के बाद ओमीक्रोन स्वरूप से संक्रमण का पता चलता है और जांच के लिए नमूने दिल्ली भेजे जाते हैं, जिसके नतीजे मिलने में समय लगता है।’’

भाषा रावत रावत सुरभि

सुरभि

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

#HarGharTiranga