मप्र : शिकारियों की गोलीबारी में तीन पुलिसकर्मियों की मौत, दो आरोपी भी मारे गए, आईजी का तबादला किया

मप्र : शिकारियों की गोलीबारी में तीन पुलिसकर्मियों की मौत, दो आरोपी भी मारे गए, आईजी का तबादला किया

: , May 14, 2022 / 10:10 PM IST

भोपाल, 14 मई (भाषा) मध्य प्रदेश के गुना जिले में शनिवार तड़के शिकारियों की ओर से गई की गई गोलीबारी में तीन पुलिसकर्मियों की मौत हो गयी जबकि दो हमलावर भी मारे गए।

अधिकारी ने बताया कि माना जा रहा है कि एक आरोपी पुलिसकर्मियों की जवाबी गोलीबारी में मारा गया है जबकि दूसरे को शनिवार शाम को पुलिस ने एक मुठभेड़ में ढेर किया है।

वहीं प्रशासन ने कुछ आरोपियों के मकानों को भी ध्वस्त कर दिया है।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने घटना के बाद एक उच्च स्तरीय बैठक की और जान गंवाने वाले पुलिसकर्मियों को ‘शहीद का दर्जा’ देकर उनके परिजनों को एक-एक करोड़ रुपये की सहायता और सरकारी नौकरी देने की घोषणा की।

उन्होंने घटनास्थल पर पहुंचने में देरी के लिए ग्वालियर क्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक (आईजी) अनिल शर्मा का तबादला भी कर दिया।

प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने पत्रकारों को बताया कि यह घटना राजधानी भोपाल से करीब 160 किलोमीटर दूर आरोन थाना क्षेत्र के सागा बरखेड़ा गांव में शाहरोक रोड पर तड़के तीन बजे हुई, जब पुलिसकर्मी शिकारियों को पकड़ने गए थे।

उन्होंने कहा , ‘‘कुछ बदमाशों ( शिकारियों ) की मौजूदगी की खुफिया सूचना मिलने पर पुलिस का एक दल गुना जिले में आरोन थाने के तहत आने वाले एक स्थान पर पहुंचा। पुलिसकर्मियों ने बदमाशों को चारों ओर से घेर लिया। इसके बाद बदमाशों ने पुलिसकर्मियों पर गोलीबारी शुरू कर दी, जिसमें तीन पुलिसकर्मियों की मौत हो गई। ’’

मृत पुलिसकर्मियों की पहचान उप निरीक्षक राजकुमार जाटव और आरक्षक नीलेश भार्गव और संतराम मीणा के रुप में हुई है।

पुलिस अधीक्षक (एसपी) राजीव कुमार मिश्रा ने कहा कि जिस निजी वाहन में पुलिस कर्मी जा रहे थे उसका चालक संतोष गिरी इस घटना में घायल हो गया है और उसका उपचार जिला अस्पताल में चल रहा है।

पुलिस सूत्रों ने बताया कि मौके से पांच काले हिरण और एक मोर का शव बरामद किया गया है।

घटना के बाद मुख्यमंत्री आवास पर एक उच्च स्तरीय बैठक की गई।

इसके बाद मुख्यमंत्री चौहान ने एक बयान में कहा, ‘‘हमारे पुलिसकर्मियों ने गुना में शिकारियों को रोकने के दौरान अपने प्राणों की आहुति दे दी। इन पुलिसकर्मियों को शहीद का दर्जा देकर उनके परिवारों को एक-एक करोड़ रुपये की अनुग्रह राशि और प्रत्येक शहीद के परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी दी जाएगी।’’

शिवराज ने कहा, ‘‘घटना में शामिल अपराधियों की पहचान कर ली गई है। गोलीबारी में मारे गए एक व्यक्ति का शव भी पास के गांव से बरामद किया गया है। आगे की जांच जारी है। नजीर पेश करने के लिए अपराधियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।’’

शिवराज ने बताया कि घटना के बाद मौके पर देरी से पहुंचने को लेकर आईजी, ग्वालियर का तबादला करने का निर्णय लिया गया है।

प्रदेश के गृह विभाग ने बाद में आईजी के तबादले का आदेश जारी किया, जिसमें शर्मा की जगह डी श्रीनिवास वर्मा को नया आईजी नियुक्त करने की जानकारी दी गई है।

एसपी राजीव कुमार मिश्रा ने बताया कि आरोपियों की पहचान राघोगढ़ थाना क्षेत्र के तहत आने वाले बिधोरिया गांव के निवासी के रुप में हुई है।

उन्होंने बताया कि गांव में घर घर तलाशी के दौरान नौशाद नाम के एक व्यक्ति का शव बरामद किया गया जिसे उसके परिवार वालों ने घर में छिपाकर रखा था तथा उसके सीने में गोली लगने के निशान भी पाए गए हैं।

उन्होंने कहा कि सभी आरोपियों की पहचान कर ली गई है। उनके नाम जाहिर किए बिना उन्होंने कहा कि इलाके में आरोपियों की तलाश की जा रही है।

एसपी ने कहा कि शाम को राघोगढ़ के पास पुलिस के साथ मुठभेड़ में एक आरोपी मारा गया।

सूत्रों के अनुसार, नौशाद के परिवार में शादी की दावत के लिए आरोपी जंगली जानवरों का मांस लेने के लिए शिकार पर निकले थे।

प्रशासन ने कुछ आरोपियों के घरों को तोड़ दिया है।

आरक्षक नीलेश भार्गव का अंतिम संस्कार राजकीय सम्मान के साथ गुना में जिला प्रभारी मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर और राघोगढ़ के कांग्रेस विधायक जयवर्धन सिंह की उपस्थिति में किया गया।

भाषा सं दिमो नोमान

नोमान

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)