नसबंदी को लेकर स्वास्थ्य विभाग संजीदा, पुरुष नसबंदी लक्ष्य से कम, कारण बताओ नोटिस

 Edited By: Abhishek Mishra

Published on 04 Dec 2018 03:22 PM, Updated On 04 Dec 2018 03:28 PM

बिलासपुर। छत्तीसगढ़ में पुरुष नसबंदी पखवाड़ा चलाया जा रहा है जिसकी शुरुआत मस्तूरी और कोटा के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र से हो चुकी है। लेकिन मस्तूरी में सिर्फ तीन और कोटा में केवल दो पुरुषों की ही नसबंदी हो पायी। कम संख्या में नसबंदी को स्वास्थ्य विभाग ने गंभीरता से लिया है और सीएमएचओ बिलासपुर ने मस्तूरी के 60 और कोटा के 54 स्वास्थ्य कार्यकर्ता को कारण बताओ नोटिस थमा दिया है।

पढ़ें- बीजेपी की विधानसभा चुनाव समीक्षा बैठक 7 दिसंबर को, मतगणना को लेकर द...

कर्मचारियों से पूछा गया है कि इतनी कम नसबंदी क्यों हुयी और क्या जमीनी स्तर पर संपर्क नहीं किया गया। दूसरे चरण में छह और आठ दिसंबर को गौरेला, पेंड्रा, मरवाही, बिल्हा और तखतपुर ब्लॉक में नसबंदी शिविर लगाया जाएगा, जबकि 10 दिसंबर को बिलासपुर शहर के अलग अलग स्थानों पर कैंप लगेंगे।

पढ़ें- मतगणना के दिन अपने साथ 14 एजेंट रख सकेंगे प्रत्याशी, एआरओ की व्यवस्...

दरअसल नसबंदी चाहे महिला की हो या पुरुष की जिले में अब तक लोगों का नसबंदी को लेकर विश्वास नहीं देखा जा रहा है। हम आपको बता दें कि नवंबर 2014 में बिलासपुर में 13 और गौरेला में एक महिला की मौत नसबंदी के दौरान हो गयी थी, जिसके बाद से नसबंदी के आंकड़ों में काफी गिरावट देखी जा रही है।

Web Title : Notice to health workers when the vasectomy goal is low

जरूर देखिये