ईवीएम पर चल रहे विवाद के बीच हाईकोर्ट में याचिका दायर, जताई छेड़छाड़ की आशंका

 Edited By: Sanjeet Tripathi

Published on 04 Dec 2018 07:18 PM, Updated On 04 Dec 2018 07:17 PM

जबलपुर। मध्यप्रदेश में मतदान के बाद ईवीएम की विश्वसनीयता पर लगातार उठाए जा रहे सवालों के बीच, ईवीएम से छेड़छाड़ की आशंका जताते हुए जबलपुर हाईकोर्ट में एक याचिका भी दायर कर दी गई है। जबलपुर के एक वकील अमिताभ गुप्ता ने हाईकोर्ट में ये याचिका दायर की है जिसमें उन्होने एक अहम मांग की है। याचिका में मांग की गई है कि ईवीएम में दर्ज हर वोट का मिलान वीवीपैट मशीनों की पर्चियों से किया जाए।

याचिका में कहा गया है कि निर्वाचन आयोग ईवीएम के टैंपर प्रूफ होने और उसके किसी सॉफ्टवेयर से कनेक्ट ना होने की बात ज़रुर करता है लेकिन उसके ही ईवीएम मैन्युअल से एक बड़ा विरोधाभास सामने आया है। इसके मुताबिक निर्वाचन आयोग के अधिकारी ईटीएस यानि ईवीएम ट्रैकिंग सॉफ्टवेयर के ज़रिए ईवीएम की लोकेशन ट्रेस करते हैं और जब ऐसा है तो निर्वाचन आयोग ईवीएम के किसी सॉफ्टवेयर से कनेक्ट ना होने के दावे कैसे कर रहा है।

यह भी पढ़ें : ईवीएम में गड़बड़ी की शिकायत दिल्ली तक, मप्र कांग्रेस के नेताओं ने मांगी अफसरों के खिलाफ कार्रवाई 

याचिका में मांग की गई है कि ईवीएम में दर्ज वोट और वीवीपैट मशीनों की पर्चियों की गिनती और उनका मिलान किया जाए ताकि दूध का दूध और पानी का पानी हो जाए। हाईकोर्ट में दायर इस याचिका पर आने वाले एक या दो दिनों में सुनवाई की जा सकती है।

Web Title : Petition filed in the High Court between the ongoing EVM controversy

जरूर देखिये