शिक्षक भर्ती विज्ञापन का विरोध, सरकार से समस्त शिक्षाकर्मी के संविलियन की मांग

 Edited By: Renu Nandi

Published on 13 Mar 2019 06:54 PM, Updated On 13 Mar 2019 07:28 PM

राजनांदगांव। छत्तीसगढ़ में शिक्षक,व्याख्याता,और सहायक शिक्षक की भर्ती को लेकर विज्ञापन पर एक बार फिर विवाद खड़ा हो गया है। इस विषय में छत्तीसगढ़ पंचायत ननि शिक्षक संघ का कहना है कि व्याख्याता, शिक्षक, सहायक शिक्षक, ब्यायाम शिक्षक, सहायक शिक्षक विज्ञान के पदों पर व्यापम द्वारा भर्ती किये जाने का विज्ञापन प्रकाशित किया गया है, जबकि शिक्षा विभाग के शालाओं में पंचायत संवर्ग के शिक्षक कार्यरत हैं। अतः जब तक पूर्व से कार्यरत पंचायत या नगर नि शिक्षको को संविलियन कर शासकीय नही कर दिया जाता तब तक सीधे शासकीय शिक्षक पद पर भर्ती किया जाना अनुचित है।

ये भी पढ़ें -कॉलेज छात्राओं को सेक्स के बदले अच्छे नंबर दिलाने वाली   

इस विषय में छत्तीसगढ़ पंचायत ननि शिक्षक संघ के प्रदेश अध्यक्ष संजय शर्मा,जिला अध्यक्ष गोपी वर्मा व मीडिया प्रभारी देवेंद्र साहू ने सरकार से आग्रह किया है कि भर्ती के पूर्व बचे हुए 48000 शिक्षकों का संविलियन हो। पूर्व की सेवा की गणना करते हुए रिक्त पदो पर पदोन्नति दी जाए। ( जब वेतन निर्धारण में पूर्व की सेवा को लिया जा सकता है तो पद्दोन्नति के लिए भी माना जाए)। नई भर्ती एल बी संवर्ग में किया जाए या फिर एल बी संवर्ग को खत्म करके उन्हे ई या टी संवर्ग में स्थान दिया जाए।

उन्होंने कहा कि साथ ही संघ प्रदेश के बेरोजगार बीएड डीएड किए बेरोजगार साथियों की तरफ भी सरकार का ध्यान खींचना चाहता है। ज्ञात हो कि सीधी भर्ती विज्ञापन के निकलने से संविलियन से वंचित शिक्षकों में चिंता की लकीरें तन गई है उनमें निराशा व्याप्त हो गया है, साथ ही साथ उनके अंदर रोष उत्पन्न हो रहा है।

Web Title : shikshakarmi vacancy 2019

जरूर देखिये