शरत कमल को दोहरी सफलता : श्रीजा के साथ मिश्रित युगल स्वर्ण , पुरूष एकल फाइनल में |

शरत कमल को दोहरी सफलता : श्रीजा के साथ मिश्रित युगल स्वर्ण , पुरूष एकल फाइनल में

शरत कमल को दोहरी सफलता : श्रीजा के साथ मिश्रित युगल स्वर्ण , पुरूष एकल फाइनल में

: , August 8, 2022 / 01:02 AM IST

बर्मिंघम, सात अगस्त ( भाषा ) भारत के महान टेबल टेनिस खिलाड़ी अचंता शरत कमल ने उम्र को धता बताते हुए बेहतरीन प्रदर्शन करके राष्ट्रमंडल खेलों की पुरूष एकल स्पर्धा के फाइनल में प्रवेश कर लिया और मिश्रित युगल में श्रीजा अकुला के साथ स्वर्ण पदक जीता ।

अचंता और श्रीजा की जोड़ी ने मलेशिया के जावेन चुंग और कारेन लाइने को 11 . 4, 9 . 11, 11 . 5, 11 . 6 से हराकर पीला तमगा जीता ।

इससे पहले पुरूष एकल सेमीफाइनल में पिछली बार गोल्ड कोस्ट में कांस्य पदक जीतने वाले 40 वर्ष के शरत कमल ने मेजबान देश के पॉल ड्रिंकहाल को 11 . 8, 11 . 8, 8 . 11, 11 . 7, 9 . 11, 11 . 8 से हराया ।

वह 2006 में मेलबर्न खेलों में फाइनल में पहुंचे थे और स्वर्ण पदक जीता था ।

फाइनल में पहुंचने के साथ ही उनका कम से कम रजत पदक पक्का हो गया जिससे राष्ट्रमंडल खेलों में उनके 12 पदक हो गए हैं ।

वहीं भारत के जी साथियान सेमीफाइनल में इंग्लैंड के लियाम पिचफोर्ड से 5 . 11, 11 . 4, 8 . 11, 9 . 11, 9.11 से हार गए । अब वह कांस्य पदक के लिये पॉल ड्रिंकहाल से खेलेंगे ।

इससे पहले शरत कमल और जी साथियान ने पुरूष युगल स्पर्धा में रजत पदक जीता जबकि श्रीजा अकुला महिला एकल में कांस्य पदक से चूक गई ।

शरत कमल और साथियान को इंग्लैंड के पॉल ड्रिंकहाल और लियाम पिचफोर्ड ने बेहद रोमांचक मुकाबले में 3 . 2 ( 8 . 11, 11 . 8, 11 . 3, 7 . 11, 11 . 4) से हराकर स्वर्ण पदक जीता ।

भारतीय जोड़ी ने शानदार शुरूआत करते हुए प़हला गेम 11 . 8 से जीत लिया था लेकिन मेजबान जोड़ी ने जल्दी ही वापसी करके स्कोर बराबर कर दिया । इंग्लैंड के खिलाड़ियों ने तीसरा गेम जीतकर बराबरी की लेकिन भारतीय जोड़ी ने फिर स्कोर 2 . 2 से बराबर कर दिया ।

निर्णायक आखिरी गेम में इंग्लैंड की जोड़ी भारतीयों पर भारी पड़ी ।

इससे पहले श्रीजा अकुला को महिला एकल कांस्य पदक प्लेऑफ में आस्ट्रेलिया की यांग्जी लियू से 3 . 4 से हार का सामना करना पड़ा।

श्रीजा को डेढ़ घंटे से ज्यादा चले मुकाबले में वापसी करने के बावजूद 11 . 3, 6 . 11, 2 . 11, 11 . 7, 13 . 15, 11 . 9, 7 . 11 से हार गयीं। हैदराबाद की खिलाड़ी ने नर्वस लियू के खिलाफ अच्छी शुरूआत कर पहला गेम 11 . 3 से जीत लिया।

लेकिन आस्ट्रेलियाई खिलाड़ी ने वापसी करते हुए आक्रामकता दिखायी और दूसरे गेम को 11 . 6 से जीतकर बराबरी पर आ गयीं और उन्होंने तीसरा गेम भी 11 . 2 से जीतकर बढ़त बना ली।

पर श्रीजा ने हार नहीं मानने का जज्बा दिखाते हुए चौथा गेम 11 . 7 से जीत लिया।

अब दोनों 2.2 की बराबरी पर थी लेकिन लियू पांचवें गेम में 15 .13 से जीतकर बढ़त बनाने में कामयाब रहीं।

पर छठे गेम में श्रीजा ने अपनी ‘क्लास’ दिखायी और 1 . 7 से पिछड़ने के बाद वापसी करते हुए इसे 11 . 9 से जीत लिया।

लेकिन निर्णायक गेम में वापसी के बावजूद श्रीजा हार गयीं। उन्होंने 1 . 6 से पिछड़ने के बाद इसे 5 . 8 कर दिया था लेकिन आस्ट्रेलियाई खिलाड़ी ने कांस्य पदक जीत लिया।

भाषा मोना

मोना

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)