मप्र में 2020-21 के दौरान बीते चार साल की सर्वाधिक जीएसटी चोरी पकड़ी गई : आरटीआई

मप्र में 2020-21 के दौरान बीते चार साल की सर्वाधिक जीएसटी चोरी पकड़ी गई : आरटीआई

: , July 13, 2021 / 11:26 AM IST

इंदौर, 13 जुलाई (भाषा) कोविड-19 के भीषण प्रकोप वाले वित्तीय वर्ष 2020-21 में वस्तु एवं सेवा कर आसूचना महानिदेशालय (डीजीजीआई) की मध्यप्रदेश इकाई ने धोखाधड़ी के 163 मामलों में 1,616.48 करोड़ रुपये की जीएसटी चोरी पकड़ी है।

सूचना का अधिकार (आरटीआई) अधिनियम के माध्यम से प्रापत जानकारी के मुताबिक यह इस इकाई द्वारा बीते चार वित्तीय वर्षों में पकड़ी गई जीएसटी चोरी का सर्वाधिक आंकड़ा है।

गौर करने वाली बात है कि यह चोरी 2020-21 की उस अवधि में पकड़ी गई, जब देश भर में महामारी के भीषण प्रकोप की रोकथाम के लिए लॉकडाउन और अन्य बंदिशों के चलते अधिकांश परिवहन व कारोबारी गतिविधियां लम्बे समय तक थम गयी थी।

नीमच के आरटीआई कार्यकर्ता चंद्रशेखर गौड़ ने मंगलवार को ‘पीटीआई-भाषा’ को बताया कि उन्हें डीजीजीआई की भोपाल स्थित क्षेत्रीय इकाई ने सूचना का अधिकार अधिनियम के तहत जीएसटी चोरी के बारे में जानकारी दी है।

इस ब्योरे के मुताबिक वित्तीय वर्ष 2019-20 में धोखाधड़ी के 89 मामलों में 1,203.96 करोड़ रुपये, 2018-19 में धोखाधड़ी के 56 मामलों में 576.81 करोड़ रुपये और 2017-18 में धोखाधड़ी के छह मामलों में 17.48 करोड़ रुपये की जीएसटी चोरी पकड़ी थी।

भाषा हर्ष

रंजन

रंजन

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)