मैनपुरी और खतौली में सपा की जोरदार जीत : रामपुर में पहली बार जीती भाजपा |

मैनपुरी और खतौली में सपा की जोरदार जीत : रामपुर में पहली बार जीती भाजपा

मैनपुरी और खतौली में सपा की जोरदार जीत : रामपुर में पहली बार जीती भाजपा

: , December 8, 2022 / 11:10 PM IST

लखनऊ, आठ दिसंबर (भाषा) उत्तर प्रदेश के मैनपुरी लोकसभा और खतौली विधानसभा के उपचुनाव मुख्य विपक्षी दल समाजवादी पार्टी (सपा) के लिए खासे उत्साहजनक रहे, मगर करीब चार दशक से सपा के गढ़ रहे रामपुर विधानसभा क्षेत्र के उपचुनाव में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने उसे पछाड़कर ऐतिहासिक जीत दर्ज कर ली।

बृहस्पतिवार सुबह मतगणना का पिटारा खुलने पर मैनपुरी लोकसभा और रामपुर तथा खतौली विधानसभा क्षेत्रों में सपा उम्मीदवारों ने दबदबा दिखाया, लेकिन दोपहर बाद रामपुर में पासा पलटा और भाजपा ने रामपुर सदर क्षेत्र के सियासी फलक पर करीब 40 साल तक छाए रहे पूर्व मंत्री आजम खां के वर्चस्व को तोड़ते हुए आजादी के बाद पहली बार इस क्षेत्र से जीत हासिल कर ली।

मैनपुरी लोकसभा उपचुनाव में सपा प्रत्याशी और पार्टी मुखिया अखिलेश यादव की पत्नी डिंपल यादव ने अपने निकटतम प्रतिद्वंदी भाजपा के रघुराज सिंह शाक्य को दो लाख 88 हजार 461 मतों से पराजित किया। इस तरह मैनपुरी लोकसभा सीट पर वर्ष 1996 से चला आ रहा सपा का कब्जा बरकरार रहा। यह सीट सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव के निधन के कारण खाली हुई थी।

डिंपल को सबसे ज्यादा एक लाख छह हजार 497 मतों की बढ़त सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के चाचा शिवपाल सिंह यादव के विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र जसवंत नगर से मिली। शिवपाल ने सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के साथ मनमुटाव दूर करते हुए इस उपचुनाव में डिंपल के पक्ष में जोर-शोर से प्रचार किया था और लंबे वक्त के बाद पूरा यादव कुनबा एकजुट नजर आया था।

मुजफ्फरनगर की खतौली विधानसभा सीट के उपचुनाव में सपा गठबंधन के सहयोगी दल राष्ट्रीय लोक दल के मदन भैया ने भाजपा को झटका देते हुए उसकी प्रत्याशी अपनी निकटतम प्रतिद्वंदी राजकुमारी सैनी को 22 हजार 143 वोटों से हराया। यह सीट भाजपा विधायक विक्रम सैनी को मुजफ्फरनगर दंगों से जुड़े एक मामले में दो साल की सजा सुनाई जाने के बाद उनकी सदस्यता रद्द होने के कारण रिक्त हुई थी। इस क्षेत्र को भाजपा का गढ़ माना जाता है।

रामपुर सदर विधानसभा क्षेत्र में भाजपा प्रत्याशी आकाश सक्सेना ने अपने निकटतम प्रतिद्वंदी और आजम खां के बेहद करीबी माने जाने वाले सपा के आसिम राजा को 34 हजार 136 मतों से पराजित कर ऐतिहासिक जीत हासिल की। यह सीट आजम खां को नफरत भरा भाषण देने के मामले में पिछले महीने तीन साल की सजा सुनाये जाने के बाद उनकी सदस्यता रद्द होने के चलते रिक्त हुई थी।

इन उपचुनावों में बहुजन समाज पार्टी और कांग्रेस ने अपने उम्मीदवार नहीं उतारे थे।

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने मैनपुरी लोकसभा सीट के उपचुनाव में पार्टी की जीत के लिए मैनपुरी की जनता, अपने चाचा शिवपाल यादव समेत पार्टी संगठन के नेताओं और कार्यकर्ताओं को बधाई एवं धन्यवाद दिया।

उन्होंने डिंपल की जीत के बाद मैनपुरी में संवाददाताओं से बातचीत में कहा ‘मैनपुरी की यह जीत नेताजी (मुलायम सिंह यादव) को समर्पित है। यह मैनपुरी के मतदाताओं की जीत है और उन्होंने नेताजी को सच्ची श्रद्धांजलि दी है। मैनपुरी की जनता ने नकारात्मक राजनीति करने वालों को पीछे छोड़ने का काम किया है।’

अखिलेश ने खतौली में अपने सहयोगी राष्ट्रीय लोक दल के प्रत्याशी मदन भैया को भी जीत की बधाई दी। रामपुर में सपा की हार पर दुख जताते हुए उन्होंने कहा ‘मुझे दुख है इस बात का कि रामपुर में प्रशासन ने पहले तो वोट नहीं डालने दिया, फिर अन्याय किया। अगर रामपुर में निष्पक्ष चुनाव होता तो वहां अब तक की सबसे बड़ी जीत होती।’

रामपुर सदर विधानसभा चुनाव में अपनी पराजय से नाराज सपा उम्मीदवार ने अपनी हार के लिए प्रशासन को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा ‘मेरी हार खाकी वर्दी वालों को मुबारक हो।’

इस बीच, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उप चुनाव में जीते सभी प्रत्याशियों को बधाई दी।

उन्होंने ट्वीट में कहा ‘उत्तर प्रदेश में मैनपुरी, रामपुर एवं खतौली उपचुनाव में विजयी सभी प्रत्याशियों को हार्दिक बधाई। भारतीय जनता पार्टी ने रामपुर की सीट पर पहली बार विजय प्राप्त की है, इसके लिए श्री आकाश सक्सेना समेत रामपुर के सभी कार्यकर्ताओं को बधाई एवं जनता-जनार्दन के प्रति आभार।’

उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने भी मैनपुरी लोकसभा उपचुनाव जीतने पर सपा उम्मीदवार डिंपल यादव को ट्वीट कर बधाई दी।

भाषा सलीम जफर

राजकुमार

राजकुमार

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)