शाहजहांपुर : खेल के मैदान में प्रदर्शनी लगाए जाने से नाराज बच्चों ने किया प्रदर्शन

शाहजहांपुर : खेल के मैदान में प्रदर्शनी लगाए जाने से नाराज बच्चों ने किया प्रदर्शन

: , June 23, 2022 / 06:30 PM IST

शाहजहांपुर (उप्र) 23 जून (भाषा) शाहजहांपुर जिले के जलालाबाद इलाके में खेल मैदान पर प्रदर्शनी लगने से नाराज आठ से 12 साल तक उम्र के करीब 25 बच्चों ने हाथों में तिरंगा लेकर बृहस्पतिवार को नारेबाजी करते हुए प्रदर्शन किया और जिलाधिकारी को ज्ञापन देने के लिए पैदल ही निकल पड़े।

जलालाबाद से जिला मुख्यालय की दूरी करीब 35 किलोमीटर है। बच्चों के इस प्रयास की खबर मिलते ही जलालाबाद की उप जिलाधिकारी बरखा सिंह मौके पर पहुंच गईं।

उप जिलाधिकारी बरखा सिंह ने ‘पीटीआई-भाषा’ को बताया कि आज उन्हें सूचना मिली कि जलालाबाद कस्बे में रहने वाले आठ से 12 वर्ष के करीब 25 बच्चे पैदल ही 35 किलोमीटर दूर जिलाधिकारी को ज्ञापन देने जा रहे हैं।

सिंह ने बताया कि उन्होंने तत्काल ही संज्ञान लेते हुए सड़क पर पहुंच कर बच्चों को रोका और उनकी समस्या सुनी एवं उनका ज्ञापन लेकर समस्या का समाधान भी करा दिया।

उप जिलाधिकारी ने बताया कि बच्चों ने बताया है कि एक इंटर कॉलेज के खेल के मैदान पर वे अपने प्रशिक्षक द्वारा क्रिकेट का अभ्यास करते हैं, परंतु कॉलेज के लिपिक द्वारा बच्चों के साथ अभद्र व्यवहार किया जाता है तथा अब उसी खेल मैदान पर प्रदर्शनी लगाई जा रही है, जिसके चलते बच्चों को क्रिकेट के अभ्यास से वंचित किया जा रहा है।

बच्चों को क्रिकेट का प्रशिक्षण देने वाले प्रशिक्षक रजत शर्मा ने बताया कि 21 जून को जब बच्चे एक कॉलेज के खेल के मैदान पर अभ्यास कर रहे थे, तभी कॉलेज के लिपिक ने बच्चों को भगा दिया और वह स्थान भी प्रदर्शनी लगाने के लिए दे दिया था।

उन्होंने बताया कि इससे नाराज होकर बच्चे शाहजहांपुर में जिलाधिकारी को ज्ञापन देने जा रहे थे परंतु उप जिलाधिकारी बरखा सिंह द्वारा समस्या का समाधान करा दिया गया है।

बरखा सिंह ने बताया कि उन्होंने कॉलेज प्रशासन को बुलाकर बच्चों के सामने ही उन्हें खेल का मैदान छोड़कर प्रदर्शनी लगाने का आदेश दिया है जिसके चलते अब बच्चे अपना क्रिकेट का अभ्यास भी कर सकेंगे।

उन्होंने बताया कि इसके साथ ही उन्होंने बच्चों को आश्वस्त किया कि उन्हें क्रिकेट के अभ्यास में यदि कोई समस्या आती है तो वे बेझिझक उनके कार्यालय में आकर उनसे संपर्क कर सकते हैं।

भाषा सं आनन्द धीरज

धीरज

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)