पुतिन ने यूक्रेन युद्ध के अगले चरण का विवरण दिया |

पुतिन ने यूक्रेन युद्ध के अगले चरण का विवरण दिया

पुतिन ने यूक्रेन युद्ध के अगले चरण का विवरण दिया

: , September 23, 2022 / 03:22 PM IST

(क्रिस्टोफर मॉरिस, पोर्ट्समाउथ विश्वविद्यालय)

पोर्ट्समाउथ, 23 सितंबर (द कन्वरसेशन) राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन द्वारा आरक्षित सैनिकों को जुटाने की घोषणा और व्यापक भर्ती की संभावना का सुझाव दिए जाने के बाद 24 घंटों में रूस से बाहर जाने वाली उड़ानों का किराया नाटकीय रूप से बढ़ गया है।

पुतिन की घोषणा के खिलाफ रूस के करीब 30 शहरों और कस्बों में विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं। द टाइम्स के अनुसार, डॉक्टरों, शिक्षकों और बैंक कर्मियों को सैन्य ड्यूटी के लिए तैयार होने के लिए कहा जा रहा है।

यूक्रेन युद्ध में मिले अप्रत्याशित झटकों के जवाब में रूस अब अपनी आरक्षित सेना से अतिरिक्त 300,000 सैनिकों को बुला सकता है। इसके पीछे उनका इरादा सेना में अतिरिक्त विशेषज्ञ बलों को जोड़ना और युद्ध की दिशा को बदलने का है, लेकिन इससे कुछ हासिल होने की संभावना नहीं है।

रूसी सेना में विभिन्न प्रकार के ‘‘मानव संसाधन’’ होते हैं। उदाहरण के लिए, अनुबंधित सैनिकों, कई वर्षों के लिए भर्ती होने वाले पेशेवरों और एक वर्ष के लिए अनिवार्य सैन्य सेवा करने वाले जबर्दस्ती के सिपाहियों के बीच एक बड़ा अंतर है। फिर आरक्षित सैनिक हैं, ये ऐसे लोग हैं जिन्होंने सिपाहियों के रूप में काम किया है और कुछ हद तक तत्परता बनाए रखते हैं, जिनमें ढाई करोड़ सैनिक हैं।

पेशेवर सैनिकों के विपरीत, जो स्वयंसेवकों के रूप में सेवा करते हैं, कई रूसी सैनिक अनिवार्य सेवा करने वाले सैनिक हैं। रूसी सैनिकों को मिलने वाले प्रशिक्षण सवालों के घेरे में है, और इस वातावरण की क्रूर प्रकृति के कारण अधिक समृद्ध और जानकार रूसी आमतौर पर इस प्रक्रिया से बचना चाहते हैं।

एक ’’विशेष सैन्य अभियान’’ के रूप में यूक्रेन की स्थिति के कारण, रूस के विकल्प इस मामले में सीमित है कि वह किसे भेज सकता है। युद्ध के समय को छोड़कर, विदेश में सिपाहियों को भेजना अलोकप्रिय और निषिद्ध दोनो है।

इसका मतलब यह नहीं है कि यह यूक्रेन में पहले नहीं हुआ है, निश्चित रूप से ऐसा हुआ है और यूक्रेनी बलों ने ऐसे सैनिकों को पकड़ा भी है। आरक्षित सैनिकों ने भी युद्ध में भाग लिया है, हालांकि बड़े पैमाने पर स्वेच्छा से।

रूसी सशस्त्र बल अधिकांश आधुनिक पेशेवर सेनाओं की तरह नहीं हैं। इसके सैनिकों की विविधता देश के सोवियत अतीत की याद दिलाती है। विविध तरह के सैनिकों का उपयोग करने में स्वाभाविक रूप से कुछ भी गलत नहीं है, और कई राष्ट्र इसे प्रभावी ढंग से करते हैं।

रूस के मामले में, यह अपने त्रुटिपूर्ण और गहरे अलोकप्रिय भर्ती मॉडल का आधुनिकीकरण करने में विफल रहा है, जिसकी उसे कीमत चुकानी पड़ी है। सत्ता के भ्रम के बदले में सार्वजनिक खर्च को कम किया जाता है।

यह नया आंशिक लामबंदी अभियान रूस को अपने आरक्षित कर्मियों को बुलाने में मदद करता है, यूक्रेन में अपनी कम हुई सेना को भरने के लिए वह अपने पूर्व सैनिकों के एक बड़े वर्ग से सैनिकों का चयन करेगा। संक्षेप में, रूस को अब स्वयंसेवकों पर निर्भर नहीं रहना पड़ेगा। यह, निश्चित रूप से, एक मौन स्वीकृति है कि रूस एक ‘‘विशेष सैन्य अभियान’’ नहीं चला रहा है, बल्कि एक पूर्ण पैमाने पर युद्ध में शामिल है।

अधिक सैनिकों को तैनात करने की अनुमति देने के साथ साथ इस लामबंदी से रूस मौजूदा संघर्ष को दूसरे विश्व युद्ध के अपने अनुभव से जोड़कर देशभक्ति की भावना का संचार करना चाहता है। इससे उसे लगता है कि शायद देश के भीतर समर्थन हासिल होगा हालांकि, दरअसल इसका विपरीत प्रभाव पड़ रहा है।

हालांकि रूस में युद्ध के लिए समर्थन अधिक है, आम तौर पर सामान्य जनता संघर्ष की वास्तविकताओं से काफी हद तक अछूती है। लेकिन इस लामबंदी, चाहे वह आंशिक हो या अन्यथा, इस स्थिति को बदल सकती है।

यूक्रेन में रूसी सेना का प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा है। ब्रिटेन के सैन्य स्रोतों के अनुमानों से पता चलता है कि अब तक हताहतों की संख्या 50,000 तक पहुंच गई है, जिनके अलावा कई युद्ध की हाल की घटनाओं के शिकार हुए हैं।

रूस इतने बड़े पैमाने पर हताहतों की संख्या को अपनी जनता से छिपा रहा है और युद्ध में केवल 6,000 लोगों के हताहत होने की बात कही जा रही है, ऐसा इसलिए है क्योंकि युद्ध में कितने लोगों को भेजा गया है यह वास्तव में मायने नहीं रखता है।

अधिकांश रूसी सेना में कुलीन इकाइयों के बजाय, ग्रामीण क्षेत्रों के गरीब लोग और कुछ अन्य संभावनाओं वाले जातीय अल्पसंख्यक शामिल हैं, जो अनुबंधित सैनिकों के लिए उपलब्ध अपेक्षाकृत उच्च वेतन से आकर्षित होते हैं। यह आरोप है कि यूक्रेन में अब तक हताहत लोगों में इन की संख्या ज्यादा है।

हालांकि यह स्पष्ट नहीं है कि वास्तव में रूस अपने अतिरिक्त सैनिकों को कहां ढूंढेगा, लामबंदी अधिक जातीय रूसियों को संघर्ष में खींच सकती है, युद्ध की वास्तविकता को सेंट पीटर्सबर्ग और मॉस्को जैसे जनसंख्या केंद्रों के करीब ला सकती है।

समय के साथ यह अपेक्षाकृत समृद्ध शहरी रूसियों के बीच पुतिन के लोकप्रिय समर्थन को कम कर सकता है।

वैकल्पिक रूप से, रूस अधिकांश लड़ाई को चेचेन को आउटसोर्स करना जारी रख सकता है, जिनके पास एक मजबूत स्वतंत्रता आंदोलन है, और ब्यूरेट्स, जो साइबेरिया के मूल निवासी हैं। बेशक, इससे मॉस्को और उसके कुछ सीमांत प्रांतों के बीच तनाव बढ़ने का खतरा है, जिससे एक अलग तरह की घरेलू अस्थिरता पैदा हो सकती है।

सबसे बड़ी चुनौती, निश्चित रूप से, अपनी सेना को फिर से भरने के लिए पर्याप्त स्वस्थ पुरुषों को ढूंढना हो सकता है।

इन समस्याओं के साथ एक माध्यमिक विचार।

जहां भी रूस को अपने नए सैनिक मिलते हैं, वे संघर्ष पर बहुत अधिक प्रभाव डालने की संभावना नहीं रखते हैं। रिजर्व बलों को आम तौर पर कम तैयारी पर रखा जाता है, और प्रशिक्षण और उपकरणों के मामले में, रूस द्वारा अपने प्रारंभिक आक्रमण में तैनात बलों की तुलना में इनके कम सक्षम होने की संभावना है।

उन्हें पूरी तरह से प्रशिक्षित होने में भी समय लगेगा, जिससे यूक्रेनी पक्ष को अपने हालिया लाभ को मजबूत करने और आने वाले रूसी हमले के लिए तैयार होने का समय मिलेगा। रूस को वास्तव में पेशेवर, अच्छी तरह से सुसज्जित सैनिकों की आवश्यकता है, जिनका मिलना मुश्किल है।

यदि ये नए सैनिक यूक्रेन में सार्थक प्रगति हासिल करने में विफल रहते हैं – और वे शायद विफल हो जाएंगे – तो पुतिन रूस के भविष्य के लिए कुछ और हताश विकल्पों पर विचार कर सकते हैं।

द कन्वरसेशन एकता एकता

एकता

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)