स्वीडन ने पाइपलाइन में रिसाव वाले क्षेत्र में विशेष जहाज भेजा |

स्वीडन ने पाइपलाइन में रिसाव वाले क्षेत्र में विशेष जहाज भेजा

स्वीडन ने पाइपलाइन में रिसाव वाले क्षेत्र में विशेष जहाज भेजा

: , November 29, 2022 / 08:56 PM IST

कोपनहेगन, तीन अक्टूबर (एपी) स्वीडन ने बाल्टिक सागर क्षेत्र में ‘‘अत्याधुनिक जहाज’’ को भेजा है जहां कई दिनों से समुद्र के अंदर मौजूद पाइपलाइन के क्षतिग्रस्त होने के कारण प्राकृतिक गैस का रिसाव हो रहा है। स्वीडन की नौसेना ने सोमवार को यह जानकारी दी।

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने शुक्रवार को पश्चिमी देशों पर बाल्टिक सागर से जर्मनी जाने वाली रूस निर्मित प्राकृतिक गैस पाइपलाइन को नुकसान पहुंचाने का आरोप लगाया। हालांकि, अमेरिका और उसके सहयोगी देशों ने इस आरोप को सिरे से खारिज किया है और कहा कि रूस महीनों से गैस की आपूर्ति कम कर यूरोप को ब्लैकमेल कर रहा है।

पिछले सप्ताह समुद्र के भीतर विस्फोट से दक्षिणी स्वीडन और डेनमार्क के तट पर नॉर्ड स्ट्रीम 1 और 2 पाइपलाइनों को नुकसान पहुंचा था तथा इससे बड़ी मात्रा में मीथेन गैस का रिसाव हुआ था। डेनमार्क एवं स्वीडन की सरकार ने दावा किया कि इसके लिए सैकड़ों पाउंड विस्फोटक का इस्तेमाल किया गया।

यह रिसाव अंतरराष्ट्रीय जल क्षेत्र में हुआ है।

स्वीडन की नौसेना के प्रवक्ता कैप्टन जिमी एडमसन ने एसोसिएटेड प्रेस को बताया कि पोत को स्वीडन के तट पर रिसाव वाली जगह भेजा गया है और वे स्वीडन के तटरक्षक का समर्थन कर रहे हैं जो इस कार्य के प्रभारी हैं।

हालांकि यह स्पष्ट नहीं है कि क्या गोताखोर या पनडुब्बी या कुछ और समुद्र के भीतर जा सकता है। तटरक्षक ने कहा कि वह अपने एक जहाज ‘केबीवी 003 एम्फ्रीट्राइट’ के साथ घटनास्थल पर मौजूद है और क्षेत्र में समुद्री यातायात की निगरानी कर रहा है। इसने कहा कि मौसम खराब होने से क्षेत्र में स्थिति जटिल हो सकती है।

डेनमार्क के अधिकारियों ने सप्ताहांत कहा कि नॉर्ड स्ट्रीट 1 और 2 प्राकृतिक गैस पाइपलाइन में रिसाव बंद हो गया है। हालांकि स्वीडन के तटरक्षक ने कहा कि उसके एक विमान ने सूचना दी कि नॉर्ड स्ट्रीम 2 में छोटा सा रिसाव अब फिर से बढ़ गया है जो करीब 30 मीटर व्यास का हो गया है और उसके ठीक होने में ‘‘कुछ समय’’ लगेगा।

हालांकि, तटरक्षक ने यह नहीं बताया कि रिसाव क्यों बढ़ गया। वहीं, नॉर्ड स्ट्रीम 1 में रिसाव बंद हो गया है।

स्वीडन का अभियोजन प्राधिकरण और स्वीडन की सुरक्षा सेवा जांच कर रही हैं, जबकि कोपनहेगन पुलिस डेनमार्क में जांच की प्रभारी है। डेनमार्क, जर्मनी और स्वीडन से एक संयुक्त अंतरराष्ट्रीय जांच दल का भी गठन किया गया है।

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने शुक्रवार को पाइपलाइन हमलों को लेकर एक आपातकालीन बैठक की और नॉर्वे के शोधकर्ताओं ने एक नक्शा प्रकाशित किया जिसमें अनुमान लगाया गया था कि क्षतिग्रस्त पाइपलाइनों से मीथेन का एक बड़ा ढेर नॉर्डिक क्षेत्र के बड़े क्षेत्रों की ओर बढ़ेगा।

डेनमार्क की प्रधानमंत्री मेटे फ्रेडरिकसन ने सोमवार को कहा कि ‘‘सत्तावादी ताकतें अपनी पकड़ मजबूत कर रही हैं और अंतरराष्ट्रीय समुदाय उथल-पुथल में है। हमने पिछले हफ्ते नॉर्ड स्ट्रीम 1 और 2 पर रिसाव के साथ इसका भयावह अनुभव किया। यह आश्चर्यजनक और चिंताजनक है।’’

एपी सुरभि नेत्रपाल

नेत्रपाल

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)