केवल वैध व्यापार गैंडों को बचाने के लिए क्यों पर्याप्त नहीं हैं: गैंडो के सींग के खरीदारों ने बताया

केवल वैध व्यापार गैंडों को बचाने के लिए क्यों पर्याप्त नहीं हैं: गैंडो के सींग के खरीदारों ने बताया

: , January 22, 2022 / 12:40 PM IST

(वु होआई नाम डांग, पीएलडी फेलो, यूनिवर्सिटी ऑफ कोपेनहेगन और मार्टिन रीनहार्डट नील्सन, एसोसिएटेड प्रोफेसर, यूनिवर्सिटी ऑफ कोपेनहेगन)

कोपेनहेगन, 22 जनवरी (द कन्वरसेशन) वियतनाम और चीन समेत एशियाई बाजार में गैंडे के सींगों की मांग के कारण उनकी संख्या लुप्त होने के कगार पर हैं।

अफ्रीका में शिकारियों ने पिछले एक दशक में करीब 10,000 गैंडों को मारा। अफ्रीका और एशिया में गैंडों की आबादी पहले ही लगातार कम हो रही है और 2020 में 30,000 से कम गैंडे बचे हैं, जबकि 20वीं सदी की शुरुआत में इनकी संख्या पांच लाख थी।

गैंडों के सींग को चिकित्सीय रूप से लाभकारी माना जाता है, लेकिन इसका कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है। इसके अलावा लोग प्रतिष्ठा के प्रतीक के रूप में इन्हें रखना पसंद करते हैं। गैंडों के शिकार का संकट रोकने के लिए इस बात का सुझाव दिया गया है कि अंतरराष्ट्रीय खरीदारों की मांग पूरा करने के लिए जीवित गैंडों के सींगों को काटकर कानूनी रूप से बेचा जा सकता है। इससे शिकार विरोधी गतिविधियों को वित्तीय मदद देने, स्थानीय लोगों के लिए रोजगार पैदा करने, शिकारियों को हतोत्साहित करने और गैंडों के संरक्षण के लिए निजी गैंडा मालिकों को प्रोत्साहित करने में भी मदद मिलेगी।

गैंडों के सींगों की तस्करी रोकने के लिए अंतरराष्ट्रीय, कानूनी व्यापार के तहत उनके सींगों को छोटा-छोटा काटकर उनकी बिक्री के लिए प्रमाणीकरण और परमिट प्रणाली लागू की जा सकती है, लेकिन यह चर्चा का विषय है कि सींगों के अंतरराष्ट्रीय व्यापार को वैध बनाने से क्या गैंडों के संरक्षण में मदद मिलेगी। कुछ लोगों का तर्क है कि कानूनी व्यापार से गैंडों के सींग इस्तेमाल करने को अनुचित समझे जाने संबंधी धारणा बदल जाएगी और इनकी मांग खतरनाक स्तर पर बढ़ जाएगी।

हमने एक नया अध्ययन प्रकाशित किया है, जिसके जरिए वियतनाम में गैंडों के सींग खरीदने वालों की पसंद के बारे में विस्तार से जानकारी हासिल करने के लिए 345 खरीदारों के साथ एक प्रयोग किया गया। हमने पाया कि इससे कालाबाजारी समाप्त नहीं होगी, लेकिन यह कम अवश्य हो सकती है।

वन्य गैंडों को प्राथमिकता

गैंडों के सींग का व्यापार बहुत लाभकारी है। काला बाजार में एशियाई गैंडों के सींग के लिए चार लाख डॉलर और अफ्रीकी गैंडों के सींग के लिए 20,000 डॉलर मिल सकते हैं। गैंडों को अधिकतर धनाढ्य लोग ही खरीद पाते हैं, जो अनुसंधानकर्ताओं से इस संबंध में बात करना पसंद नहीं करते। यह ग्राहकों की मांग पर कानूनी व्यापार के प्रभाव के अध्ययन के लिए एक बड़ी चुनौती है। हमने गोल्फ और टेनिस क्लब में धनी ग्राहकों से मेल जोल बढ़ाने के बाद उनसे इस संबंध में जानकारी ली।

सींग के ग्राहकों का मानना है कि वन्य गैंडों के सींग चिकित्सकीय रूप से अधिक लाभकारी होते हैं और इसलिए उनकी मांग अधिक है। ग्राहकों ने कानूनी व्यापार को प्राथमिकता दी, लेकिन अधिक अमीर लोगों को वैधता या अवैधता से खास फर्क नहीं पड़ता।

संरक्षण के प्रभाव

हमारे परिणामों के अनुसार कुछ लोगों ने इस बात का समर्थन किया कि कुछ ग्राहक वैध रूप से उपलब्ध सींगों को प्राथमिकता देंगे, लेकिन वन्य गैंडों के सींगों की प्राथमिकता चिंता का विषय है। इसके परिणामस्वरूप वैध व्यापार के बावजूद समानांतर कालाबाजारी जारी रहेगी।

कुछ प्रश्नों के उत्तर मिलने शेष हैं

अध्ययन में कुछ प्रश्नों के उत्तर नहीं मिल पाए हैं जैसे वैध व्यापार बढ़ती मांग को पूरा कर पाएगा या नहीं और क्या ग्राहकों को समझाया जा सकता है कि सभी गैंडों के सींग के चिकित्सीय लाभ समान होते हैं।

हमारा अध्ययन केवल वियतनाम के ग्राहकों की जानकारी देता है, लेकिन सींग खरीदने के लिए हनोई और मुख्यभूमि चीनी बाजार आने वाले चीनी पर्यटकों का अध्ययन नहीं किया गया है। इस बात की पुष्टि करने के लिए और अध्ययन की आवश्यकता है कि वैध व्यापार से गैंडों को बचाने में मदद मिलेगी या नहीं।

द कन्वरसेशन

सिम्मी शाहिद

शाहिद

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)