छत्तीसगढ़: स्वतंत्रता दिवस से पहले नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में सुरक्षा बढ़ायी गई |

छत्तीसगढ़: स्वतंत्रता दिवस से पहले नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में सुरक्षा बढ़ायी गई

छत्तीसगढ़: स्वतंत्रता दिवस से पहले नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में सुरक्षा बढ़ायी गई

: , August 14, 2022 / 10:36 PM IST

रायपुर, 14 अगस्त (भाषा) स्वतंत्रता दिवस समारोह के मद्देनजर पूरे छत्तीसगढ़, खासकर नक्सल प्रभावित इलाकों में सुरक्षा बढ़ा दी गई है। यह जानकारी पुलिस ने रविवार को दी।

अधिकारियों ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सोमवार सुबह रायपुर के पुलिस परेड मैदान में राष्ट्रीय ध्वज फहराएंगे और सुरक्षा कर्मियों की विभिन्न इकाइयों से सलामी लेंगे।

पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने यहां बताया कि समारोह के दौरान किसी भी तरह की अप्रिय घटना को रोकने के लिए पूरे राज्य, विशेष रूप से नक्सल प्रभावित बस्तर संभाग में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है।

अधिकारी ने कहा, ‘‘शांतिपूर्ण उत्सव सुनिश्चित करने के लिए सभी संबंधित अधिकारियों और सुरक्षा बलों के कर्मियों को आवश्यक निर्देश जारी किए गए हैं।’’

उन्होंने कहा कि नक्सल प्रभावित बस्तर संभाग के सुकमा, दंतेवाड़ा, बीजापुर, नारायणपुर, कोंडागांव, कांकेर और बस्तर जिलों के जंगलों में गश्त की जा रही है, जहां नक्सलियों ने स्वतंत्रता दिवस समारोह का बहिष्कार करने का आह्वान किया है।

कांकेर के एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि दिन के दौरान कांकेर के सिकसोद थानाक्षेत्र से एक नक्सली बैनर बरामद किया गया, जिसमें नक्सलियों ने लोगों से ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ नहीं मनाने और स्वतंत्रता दिवस का बहिष्कार करने को कहा है। अधिकारी ने कहा, ‘‘नक्सलियों ने सड़क जाम करने के लिए पेड़ों को काटा और एक गिरे हुए पेड़ पर बैनर लटका दिया।’’

पुलिस महानिरीक्षक (बस्तर रेंज) सुंदरराज पी ने कहा, पुलिस ने एल्मागुंडा और पोटकपल्ली (सुकमा जिला), चंदामेटा (बस्तर), हिरोली (दंतेवाड़ा), कुएमारी (कोंडागांव) और आरा (कांकेर) में तिरंगा फहराने की योजना बनायी है जहां अतीत में ऐसे कार्यक्रम नहीं हुए हैं।

वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘‘पिछले तीन वर्षों में मिनपा, गलगाम, सिलगर, पोटाली, करीगुंडम, काडेमेट्टा, पडरगांव और पुंगरपाल जैसे नक्सलियों के गढ़ों में 43 नये शिविरों की स्थापना ने नक्सलियों को ‘बैकफुट’ पर धकेल दिया है।’’

उन्होंने कहा कि इसके परिणामस्वरूप नक्सलियों द्वारा (स्वतंत्रता और गणतंत्र दिवस पर) काला झंडा फहराने की घटनाएं भी लगभग शून्य हो गई हैं। उन्होंने कहा कि इन जगहों पर जोश और देशभक्ति के साथ तिरंगा फहराया जाएगा।

अधिकारी ने बताया कि सुरक्षा बलों को बस्तर में सरकारी प्रतिष्ठानों और अंतरराज्यीय सीमाओं पर संदिग्ध गतिविधियों पर नजर रखने को कहा गया है।

इस बीच, राज्य के जनसंपर्क विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि राज्य सरकार ने रायपुर सहित सभी जिलों में स्वतंत्रता दिवस की तैयारी पूरी कर ली है।

उन्होंने कहा कि बघेल सुबह नौ बजे पुलिस परेड मैदान में तिरंगा फहराएंगे और सुरक्षा कर्मियों की विभिन्न इकाइयों द्वारा ‘गार्ड ऑफ ऑनर’ लेंगे। इसके बाद इस अवसर पर राज्य के नाम उनका संबोधन होगा। उन्होंने कहा कि अन्य मंत्री और विधायक राज्य के विभिन्न स्थानों पर स्वतंत्रता दिवस समारोह में हिस्सा लेंगे।

भाषा अमित नरेश

नरेश

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)