आतंकवाद के शिकार कश्मीरी पंडितों की याद में स्मारक की नींव रखी गयी

आतंकवाद के शिकार कश्मीरी पंडितों की याद में स्मारक की नींव रखी गयी

Edited By: , September 15, 2021 / 07:50 PM IST

जम्मू, 15 सितंबर (भाषा) कश्मीरी पंडितों के एक समूह ने अपने समुदाय के उन सदस्यों की याद में यहां तवी नदी के तट पर एक स्मारक की आधारशिला रखी है जो पिछले तीन दशक के दौरान जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद के शिकार बने।

उन्होंने कहा कि सेना के युद्ध स्मारक की तरह बनने वाला ‘शहीद स्मारक’ जम्मू में सबसे बड़ा नागरिक स्मारक होगा। माता भद्रकाली स्थापन ट्रस्ट के अध्यक्ष दिलीप पंडित ने यहां संवाददाताओं से कहा कि पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवाद के कारण घाटी से कश्मीरी हिंदुओं के पलायन के 31 साल पूरे होने पर माता भद्रकाली ट्रस्ट ने 1990 से आतंकवादियों द्वारा मारे गए कश्मीरी पंडितों की याद में पहले ऐसे स्मारक की नींव रखी है।

उन्होंने कहा कि मंगलवार को नींव रखे जाने के साथ ही परियोजना पर काम शुरू कर दिया गया है।

परियोजना के प्रभारी राज कुमार ने बताया कि यह तवी नदी के तट पर थलवाल में तीन एकड़ भूमि पर बन रहा है और स्मारक में मृतकों के नाम और तारीख का जिक्र किया जाएगा। उन्होंने कहा कि स्मारक में समुदाय के उन सदस्यों के भी नाम होगे जो 1947 में पहले भारत-पाकिस्तान युद्ध के बाद से मारे गए थे।

कुमार ने कहा कि इसमें प्राचीन पांडुलिपियों और पुस्तकों, चित्रों सहित साहित्यिक विरासत को संरक्षित करने के लिए एक संग्रहालय और पुस्तकालय भी होगा। यह प्राचीन कश्मीर और इसकी धार्मिक और सांस्कृतिक विरासत को अगली पीढ़ी तक पहुंचाने के लिए एक मंच के रूप में भी काम करेगा।

भाजपा के पूर्व विधायक अजय भारती ने कहा, ‘यह कश्मीरी हिंदुओं का ‘राजघाट’ होगा… यह एक साल के रिकॉर्ड समय में तैयार होगा।’’

भाषा

अविनाश पवनेश

पवनेश