पशु चिकित्सालय की लापरवाही से चीतल की मौत, अस्पताल में नशे की हालत में मिला डॉक्टर

 Edited By: Vivek Mishra

Published on 17 Jun 2019 07:34 AM, Updated On 17 Jun 2019 07:34 AM

सुकमा। कोन्टा पशु चिकित्सालय के डॉक्टर की लापरवाही से एक चीतल की मौत हो गई है। दरअसल घायल चीतल को लेकर वन विभाग के अधिकारियों इलाज के लिए पुशु चिकित्सालय ले गए, जहां पशु चिकित्सालय से अफसरों और कर्मचारियों ने उन्हें धक्का मारकर निकाला गया। लिहाजा इलाज नहीं मिलने से आखिरकार चीतल की मौत हो गई।

ये भी पढ़ें: आज इन दो जिलों के दौरे पर मुख्यमंत्री, कई अलग-अलग कार्यक्रमों में करेंगे शिरकत

बताया जा रहा है कि जब वन विभाग का अमला पशु चिकित्सालय पहुंचे, तो वहां के डॉक्टर नशे की हालत में थे, और वन कर्मियों को धमकाते गालियां देते एंव धक्के मारते हुए गलत बर्ताव किया। वहीं कोन्टा के पशु चिकित्सालय के डॉक्टर रामचंद्र हल्वा भी पूरी तरह से नशे की हालत में वनकर्मियों से अमानवीय व्यवहार किया।

ये भी पढ़ें: स्वर्गीय खुमान साव के नाम पर सीएम ने किया पुरस्कार स्थापित करने का ऐलान

बता दे कि जंगल में अज्ञात शिकारियों द्वारा चीतल को घायल किए जाने की खबर है। लिहाजा पुलिस को मामले में बेहद गंभीर होने की जरूरत है। बता दे कि कुछ ही दिन पहले मोहलाई के जंगल में एक गड्ढे में पानी डालकर उसमें यूरिया और खाद मिलाकर 12 हिरणों का शिकार किया गया था। एक साथ दर्जन भर हिरणों की मौत के मामले में आरोपी शिकारी रिखीराम ध्रुव पहले ही गिरफ्तार कर लिया गया था और कड़ाई से पूछताछ में यह बात पता चला कि इस मामले में उसके अलावा एक और भी आरोपी शामिल है।

 

Web Title : Chital death due to negligence of veterinary hospital, doctor found in drunken condition in hospital

जरूर देखिये