एक देश एक चुनाव, सर्वदलीय बैठक से कांग्रेस समेत इन विपक्षी दलों ने किया किनारा, विचार को बीजद का समर्थन

 Edited By: Sanjeet Tripathi

Published on 19 Jun 2019 05:37 PM, Updated On 19 Jun 2019 05:37 PM

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के एक देश-एक चुनाव मुद्दे पर चर्चा के लिए बुलाई गई सर्वदलीय बैठक में कांग्रेस समेत कई विपक्षी दल शामिल नहीं हुए। जबकि वामपंथी दल और एनसीपीशामिल हुए। कांग्रेस ने बैठक में शामिल होने से मना कर दिया वहीं, बीएसपी अध्यक्ष मायावती, टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी और आप संयोजक अरविंद केजरीवाल ने बैठक से किनारा कर लिया। लेकिन ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने कहा है कि उनकी पार्टी एक देश, एक चुनाव के विचार से सहमत है।

इससे पहले मायावती ने एक ट्वीट कर कहा कि अगर यह सर्वदलीय बैठक ईवीएम के मुद्दे पर होती तो वह इसमें जरूर शामिल होतीं। समाजवादी पार्टी इस मुद्दे के विरोध में है। उधर, आप ने पार्टी के नेता राघव चड्ढा को पार्टी के प्रतिनिधि के रूप में भेजा। जबकि टीआरएस की ओर से पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष केटी रामाराव ने हिस्सा लिया। वाम दलों की ओर से येचुरी के अलावा सीपीआई के राज्यसभा सदस्य डी राजा भी बैठक में शामिल हुए।

यह भी पढ़ें :  राज्य में जल्द होगी पटवारियों की भर्ती, कैबिनेट मंत्री ने दी जानकारी 

बैठक में तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव और द्रमुक अध्यक्ष एमके स्टालिन भी शामिल नहीं हुए। हालांकि एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार बैठक ने बैठक में हिस्सा लिया। टीडीपी चीफ चंद्रबाबू नायडू ने भी बैठक में हिस्सा लेने से इनकार कर दिया था। बता दे। कि उल्लेखनीय है कि मोदी ने लोकसभा और सभी विधानसभाओं के चुनाव एक साथ कराने तथा महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के आयोजन सहित अन्य मुद्दों पर सर्वदलीय बैठक बुलाई थी।

Web Title : One country one election, including Congress, these opposition party did not attend all-party meeting.

जरूर देखिये