'मोदी शल्य कहें मगर, मैं भीष्म हूं, अर्थव्यवस्था का चीर हरण नहीं होने दूंगा'

Reported By: Abhishek Mishra, Edited By: Abhishek Mishra

Published on 05 Oct 2017 02:05 AM, Updated On 05 Oct 2017 02:05 AM

नई दिल्ली। अर्थव्यवस्था पर यशवंत सिन्हा की नाराजगी थमने का नाम नहीं ले रही अब उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा द इंस्टटयूट आॅफ कंपनी सेक्रेटरीज आॅफ इंडिया में दिए भाषण पर निशाना साधा है। बुधवार को पीएम मोदी ने आईसीएसआई के गोल्डन जुबली समारोह में भाषण देते हुए आर्थिक नीतियों पर जारी आलोचनाओं पर आंकड़ों के साथ जवाब दिया।

यशवंत के बाद अरूण शौरी का मोदी सरकार पर हमला, बोले - ढाई लोग चला रहे सरकार

जिसमें उन्होंने कहा था कि कुछ लोग शल्य की प्रवृत्ति के होते है, जिनकी आदत निराशा फैलाने की होती है और ऐसे लोगों की पहचान करना जरूरी है। मोदी के इस बयान पर यशवंत सिन्हा ने कहा कि प्रधानमंत्री जी ने महाभारत के शल्य का जिक्र किया मगर, मैं भीष्म हूं और किसी कीमत पर देश की अर्थव्यवस्था का चीर हरण नहीं होने दूंगा

अखिलेश यादव फिर चुने गए सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष, कार्यकाल भी बढ़ाया

इसी के साथ यशवंत सिन्हा ने मोदी के उस बयान को भी निशाना बनाया जिसमें कहा उन्होंने कहा था कि पिछली (यूपीए) सरकार में 6 साल में 8 बार विकास दर 5.7 प्रतिशत या उससे नीचे गिरी थी। यशवंत ने कहा कि दोनों सरकारों की तुलना करने का कोई ओचित्य नहीं है, यूपीए की नाकामियों के कारण ही जनता ने उसे सरकार से बाहर कर दिया।

2018 तक लोकसभा और विधानसभा चुनाव एक साथ कराने की तैयारी

अगले चुनाव में जनता मौजूदा सरकार के काम के आधार पर अपनी सरकार चुनेगी। गौरतलब हो की यशवंत सिन्हा मोदी सरकार की आर्थिक नीतियों पर लगातार सवाल उठा रहे हैं। उन्होंने नोटबंदी से लेकर जीएसटी तक पर सरकार को घेरा है। 

ताज़ा खबरों से अपडेट रहने के लिए आप हमारे फेसबुक पेज और ट्विटर से भी जुड़ें आपका मार्गदर्शन हमारे लिए अमूल्य

 

वेब डेस्क, IBC24

Web Title : yashwant sinha's statement on indian economy

जरूर देखिये