एसआईटी टीम अंकित दास और लतीफ को लखनऊ लाई, रिवाल्वर और बंदूक बरामद

एसआईटी टीम अंकित दास और लतीफ को लखनऊ लाई, रिवाल्वर और बंदूक बरामद

Edited By: , October 15, 2021 / 08:44 PM IST

लखनऊ, 15 अक्टूबर (भाषा) उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में हिंसा मामले की जांच कर रहे विशेष जांच दल (एसआईटी) की एक टीम शुक्रवार को घटना के दो आरोपियों अंकित दास और लतीफ उर्फ काले को लेकर लखनऊ के हुसैनगंज स्थित एक अपार्टमेंट के फ्लैट में पहुंची और यहां से एक रिवाल्वर और एक बंदूक कथित तौर पर बरामद की गई।

पुलिस सूत्रों के अनुसार हुसैनगंज स्थित फ्लैट अंकित दास का है जहां से एक रिवाल्वर और एक बंदूक बरामद की गई।

सूत्रों ने बताया कि रिवाल्वर का लाइसेंस अंकित दास के नाम है जबकि बंदूक का लाइसेंस लतीफ के नाम से बना है। घटना के बाद भागकर अंकित दास ने अपने ही फ्लैट में असलहे छुपाये थे। पुलिस इन असलहों की फोरेंसिक जांच कराएगी ताकि यह पता चल सके कि घटना के वक्त इन असलहों से गोलीबारी हुई थी या नहीं।

सूत्रों के अनुसार लखीमपुर खीरी जिले के तिकुनिया इलाके में तीन अक्टूबर को हुई हिंसा के बाद मामले का आरोपी अंकित दास वहां से भागकर लखनऊ में एक होटल में छिपा था।

सूत्रों ने बताया कि हुसैनगंज स्थित उसके फ्लैट में तलाशी लेने और असलहा बरामदगी के बाद पुलिस फन माल के पास स्थित एक होटल पहुंची जहां कथित तौर पर वह घटना के बाद छिपा था। इस होटल से भी पुलिस टीम ने सीसीटीवी फुटेज लिए हैं। इस संदर्भ में पुष्टि के लिए जब एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी से बातचीत की गई तो उन्होंने कहा, ” यह सब कुछ अदालत में साक्ष्य का विषय होता है, इसलिए इस बारे में हम कुछ भी नहीं बता सकते हैं।”

घटना के मुख्‍य आरोपी केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा ‘टेनी’ के पुत्र आशीष मिश्रा की नौ अक्टूबर को गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने अंकित दास और लतीफ को भी 13 अक्टूबर को गिरफ्तार कर लिया था। आशीष मिश्रा के करीबी दोस्त कहे जाने वाले अंकित दास और लतीफ उर्फ काले बुधवार को लखीमपुर में अपराध शाखा कार्यालय में विशेष जांच दल (एसआईटी) के सामने हाजिर हुए थे, जहां उन्हें पूछताछ के बाद गिरफ्तार कर लिया गया।

अंकित दास और लतीफ को अदालत ने 14 अक्टूबर से 17 अक्टूबर तक पुलिस हिरासत रिमांड पर दिया है। लखनऊ में छानबीन के बाद शाम को पुलिस टीम अंकित दास और लतीफ को लेकर वापस लखीमपुर खीरी रवाना हो गई।

अंकित दास दिवंगत पूर्व केंद्रीय मंत्री अखिलेश दास के भतीजे हैं। आरोप है कि वारदात के दिन चार किसानों को कुचलने वाली एसयूवी के पीछे वाली गाड़ी अंकित दास की ही थी।

गौरतलब है कि बज तीन अक्टूबर को लखीमपुर खीरी जिले के तिकोनिया क्षेत्र में किसानों के प्रदर्शन के दौरान हुई हिंसा में चार किसानों समेत आठ लोगों की मौत हो गई थी। इस मामले में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष तथा उसके कुछ अन्य साथियों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया गया है।

भाषा आनन्द देवेंद्र

देवेंद्र