फिनलैंड-स्वीडन के नाटो में शामिल होने के पक्ष में नहीं तुर्की

फिनलैंड-स्वीडन के नाटो में शामिल होने के पक्ष में नहीं तुर्की

: , May 13, 2022 / 11:02 PM IST

हेल्सिंकी (फिनलैंड), 13 मई (एपी) तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब एर्दोआन ने शुक्रवार को कहा कि उनका देश फिनलैंड और स्वीडन को नाटो में शामिल करने के ‘‘पक्ष में नहीं’’ है। नाटो सदस्य होने के नाते तुर्की वीटो का इस्तेमाल करके दोनों देशों को नाटो का सदस्य बनने से रोक सकता है।

एर्दोआन ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘हम स्वीडन और फिनलैंड के घटनाक्रम पर करीब से नजर रख रहे हैं, लेकिन हमारा रुख पक्ष में नहीं है।’’

एर्दोआन ने स्वीडन और अन्य स्कैंडिनेवियाई देशों के कुर्द विद्रोहियों और अन्य, जिन्हें तुर्की आतंकवादी मानता है, के लिए कथित समर्थन का हवाला देते हुए यह बात कही। उन्होंने नाटो के सहयोगी यूनान पर तुर्की के खिलाफ गठबंधन का इस्तेमाल करने का आरोप लगाते हुए कहा कि अंकारा उस ‘‘गलती’’ को दोहराना नहीं चाहता।

एर्दोआन ने स्पष्ट रूप से यह नहीं कहा कि वह दो नॉर्डिक देशों के नाटो में शामिल होने के प्रयास को रोक देगा, लेकिन नाटो अपने सभी निर्णय सर्वसम्मति से लेता है, जिसका अर्थ है कि 30 सदस्य देशों में से प्रत्येक के पास संभावित वीटो है।

हालांकि, नाटो के महासचिव जेन्स स्टोलटेनबर्ग ने कहा है कि फिनलैंड और स्वीडन अगर औपचारिक रूप से नाटो में शामिल होने के लिए आवेदन करते हैं, तो उनका खुली बांहों से स्वागत किया जाएगा।

उधर, यूक्रेन पर रूस के हमले के बाद बदले सुरक्षा परिदृश्य में नार्डिक देशों के समक्ष चुनौतियों पर केंद्रित स्वीडन सरकार की रिपोर्ट में कहा गया है कि नाटो में स्वीडन के शामिल होने पर मास्को नकारात्मक तरीके से प्रतिक्रिया व्यक्त करेगा और वह कई जवाबी कदम उठा सकता है।

स्वीडन की प्रधानमंत्री मैग्डेलेना एंडर्सन की कैबिनेट देश को नाटो में शामिल होने को लेकर क्या फैसला लेगी, यह स्वीडन की सरकार की उस रिपोर्ट पर तय होगा जिसमें सुरक्षा नीति का विश्लेषण किया गया है। सरकार ने यह रिपोर्ट सांसदों को शुक्रवार को सौंप दी।

रिपोर्ट में नाटो में शामिल होने के कई फायदे गिनाए गए हैं, जिसके तहत 30 सदस्य देशों की संयुक्त सेना सामूहिक सुरक्षा प्रदान करेगी। लेकिन इसमें यह भी कहा गया है कि इसके जवाब में रूस कई तरह के हथकंडे अपना सकता है, जिसमें विभिन्न प्रकार के ‘हाइब्रिड’ और साइबर हमले और स्वीडन की वायु और समुद्री सीमा का उल्लंघन शामिल है।

रिपोर्ट के मुताबिक मॉस्को परमाणु हथियारों की रणनीतिक तैनाती भी कर सकता है। रिपोर्ट में कहा गया है कि यूक्रेन के खिलाफ जारी रूस के हमले से दूसरों देशों पर हमले की संभावना कम है, लेकिन रूस के पास अब भी क्षमता है कि वह स्वीडन जैसे देशों के खिलाफ सीमित कार्रवाई कर सकता है।

रिपोर्ट में यह सिफारिश नहीं की गई है कि स्वीडन को नाटो में शामिल होना चाहिए या नहीं।

हालांकि, स्वीडन के विदेश मंत्री एन लिंडे ने सांसदों से कहा कि स्वीडन पर सैन्य हमले की संभावना को खारिज नहीं किया जा सकता। उन्होंने उस सुरक्षा गारंटी की ओर इशारा किया जो नाटो की सदस्यता हासिल करने के बाद मिलेगी।

इसके पहले फिनलैंड के राष्ट्रपति ने कहा था कि वह नाटो की सदस्यता के लिए तेजी से आवेदन करने के पक्षधर हैं। इससे फिनलैंड के आने वाले दिनों में नाटो में शामिल होने का ऐलान करने का रास्ता साफ हो गया है।

एपी संतोष नेत्रपाल

नेत्रपाल

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)