बिहार की पांच लोकसभा सीटों पर 55.85 प्रतिशत मतदान |

बिहार की पांच लोकसभा सीटों पर 55.85 प्रतिशत मतदान

बिहार की पांच लोकसभा सीटों पर 55.85 प्रतिशत मतदान

:   Modified Date:  May 20, 2024 / 09:00 PM IST, Published Date : May 20, 2024/9:00 pm IST

पटना, 20 मई (भाषा) लोकसभा चुनाव के पांचवें चरण में बिहार की पांच सीटों सीतामढ़ी, मधुबनी, मुजफ्फरपुर, सारण और हाजीपुर के 95.11 लाख से अधिक मतदाताओं में से 55.85 प्रतिशत ने सोमवार शाम छह बजे तक अपने मताधिकार का प्रयोग किया।

बिहार के मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) एचआर श्रीनिवास ने यहां संवाददाताओं को कहा कि इन सीटों पर निर्वाचन आयोग द्वारा 9436 मतदान केंद्र बनाये गए थे ।

श्रीनिवास ने बताया कि सबसे ज्यादा 58.10 फीसदी मतदान मुजफ्फरपुर में हुआ। उनके मुताबिक, इसके बाद सीतामढ़ी में 57.55 प्रतिशत, हाजीपुर में 56.84 फीसदी, सारण में 54.50 प्रतिशत और मधुबनी में 52.20 प्रतिशत वोट पड़े।

साल 2019 के लोकसभा चुनाव के दौरान इन सीटों पर शाम छह बजे तक 57.07 फीसदी मतदान हुआ था।

पिछले लोकसभा चुनाव के दौरान मुजफ्फरपुर में 61 प्रतिशत, सीतामढ़ी में 59.08 फीसदी, सारण में 56.48 प्रतिशत, हाजीपुर में 55.22 फीसदी और मधुबनी में 53.72 प्रतिशत वोट पड़े थे।

सीईओ ने मतदान शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न होने का दावा करते हुए कहा कि आज मतदान के दौरान कुल 115 शिकायत प्राप्त हुईं तथा सभी शिकायतों का समय पर निपटान कर दिया गया।

श्रीनिवास ने कहा कि इस चरण के चुनाव में कुल दो मतदान केन्द्रों से मतदान बहिष्कार की सूचना प्राप्त हुई हैं। उनके मुताबिक, मुजफ्फरपुर लोकसभा क्षेत्र अंतर्गत गायघाट विधानसभा क्षेत्र के मतदान केंद्र संख्या 140 और औराई विधानसभा क्षेत्र के मतदान केंद्र संख्या 13 पर विकास के विभिन्न मुद्दों को लेकर मतदान का बहिष्कार किया गया।

शेष कहीं से अप्रिय घटना की कोई सूचना प्राप्त नहीं हुई है तथा मतदान शांतिपूर्ण सम्पन्न हुआ है।

अपर पुलिस महानिदेशक (मुख्यालय) जेएस गंगवार ने बताया कि इन सीटों पर मतदान के दौरान कुल 46 लोगों के खिलाफ गिरफ्तारी/निरोधात्मक कार्रवाई की गयी ।

सीतामढी से राजग उम्मीदवार और बिहार विधान परिषद के सभापति देवेश चंद्र ठाकुर, हाजीपुर से लोक जनशक्ति पार्टी (रामविलास) के प्रमुख चिराग पासवान और सारण सीट से राजद की रोहिणी आचार्य और पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं भाजपा के राजीव प्रताप रूडी सहित कुल 80 उम्मीदवार मैदान में थे।

इन उम्मीदवारों में बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के पांच, राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के चार, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के तीन तथा कांग्रेस, जनता दल (यूनाइटेड) और लोक जनशक्ति पार्टी (रामविलास) के एक-एक प्रत्याशी शामिल हैं।

हाजीपुर में राजग में शामिल लोक जनशक्ति पार्टी (रामविलास) के प्रमुख चिराग पासवान का मुकाबला राजद प्रत्याशी और पूर्व मंत्री शिव चंद्र राम से था। चिराग के पिता दिवंगत राम विलास पासवान ने आठ बार हाजीपुर सीट जीती थी।

सारण सीट पर राजद उम्मीदवार और पार्टी अध्यक्ष लालू प्रसाद की बेटी रोहिणी आचार्य का मुकाबला मौजूदा सांसद भाजपा के राजीव प्रताप रूडी से था।

मुजफ्फरपुर में मौजूदा सांसद अजय निषाद भाजपा से इस बार टिकट नहीं मिलने पर कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ रहे थे। भाजपा ने राज भूषण चौधरी को यहां से इस बार चुनाव मैदान में उतारा था।

मुजफ्फरपुर में सबसे ज्यादा 26 उम्मीदवार थे, जिनमें स्थानीय वकील सुधीर कुमार ओझा भी शामिल हैं। ओझा शीर्ष राजनीतिक हस्तियों, बॉलीवुड सितारों के खिलाफ अपनी याचिकाओं के कारण खबरों में रहते हैं।

मधुबनी से भाजपा के अशोक यादव का मुकाबला राजद उम्मीदवार और पूर्व केंद्रीय मंत्री मोहम्मद अली अशरफ फातमी से था।

सीतामढी में विधान परिषद के सभापति एवं जद (यू) उम्मीदवार देवेश चंद्र ठाकुर का मुकाबला राजद के अर्जुन रॉय से था।

भाषा अनवर संतोष नोमान

नोमान

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Flowers