बारिश में बहे इंतेजाम के दावे! रायपुर में क्यों नालियों और गलियों का पानी घरों में घुसा?

रायपुर में क्यों नालियों और गलियों का पानी घरों में घुसा?Claims of arrangements flow in the rain!

Edited By: , September 15, 2021 / 10:51 AM IST

water from drains enters homes in Raipur

रायपुर: पिछले 48 घंटों से रूक-रूक कर हो रही बारिश ने रायपुर समेत पूरे छत्तीसगढ़ को अस्त-व्यस्त कर दिया है। सड़कों पर सैलाब…गलियों में पानी…कई जगह तो घरों में भी घुसा पानी और थोड़ा बहुत नहीं, कहीं घुटने भर तो कहीं 4 फीट से ज्यादा। अब बारिश पर किसी का वश नहीं है, लेकिन इससे निपटने के लिए क्या इंतजाम किया गया था? रायपुर में क्यों नालियों और गलियों का पानी घरों में घुसा? क्यों हर साल होने वाली पानी निकासी की समस्या को अभी तक दूर नहीं किया गया? आखिर क्यों बारिश में शहर की नालियां उल्टी दिशा में बहने लगती है और कौन है इस अव्यवस्था का जिम्मेदार?

Read More: अब हिंदी भाषा में भी हो सकेगी चिकित्सा शिक्षा की पढ़ाई, हिंदी दिवस के मौके पर चिकित्सा शिक्षा मंत्री ने किया ऐलान

छत्तीसगढ़ में 3 दिनों से लगातार जारी बारिश सब कुछ बहा ले जाने पर आमादा है। कई जिलों के नदी-नाले उफान पर हैं, हाईवे बंद हैं। राजधानी के कई इलाकों में जलभराव के हालात बने। सड़कों पर 3 से 4 फीट तक पानी भर गया। कटोरा तालाब, शंकर नगर, सदर बाजार से लेकर रायपुर के नीचले इलाके मोवा और सड्डू में भी हालत बेहद खराब रहे। कहीं-कहीं तो घरों में पानी घुसने से लोग परेशान रहे, तो दूसरी ओर जलभराव के बाद सड़कों पर घंटों जाम लगा। आफत की बारिश को लेकर सियासत भी शुरू हो गई है। जलभराव से नाखुश बीजेपी पार्षद दल गुरुवार को नगर निगम मुख्यालय का घेराव करेगी। बीजेपी आरोप लगा रही है कि जलभराव को लेकर सरकार बिल्कुल भी गंभीर नहीं है। आपदा प्रबंधन के पैसे दूसरे मद में खर्च किया जा रहा है, वहीं सरकार बारिश और बाढ़ की स्थिति को देखते हुए सभी कलेक्टरों को अलर्ट रहने के निर्देश दिए हैं।

Read More: सिग्नल पर अचानक डांस करने लगी मॉडल, देखकर हैरान रह गए लोग, थम गए वाहनों के पहिए

रायपुर के बाहर तो स्थित और भी गंभीर है। गरियाबंद में भारी बारिश के बाद बने बाढ़ के हालातों के बीच अलग-अलग जगहों पर 10 लोगों के फंस जाने की खबर है। जिला प्रशासन और SDRF की टीमें मिलकर रेस्क्यू ऑपरेशन चला रहे हैं। महासमुंद में पिछले 24 घंटों से हो रही बारिश से जिले के कई मार्ग बंद हो गए हैं, तो वहीं गरियाबंद में भारी बारिश के बाद सिकासेर के 17 गेट खोले गए जिसमें लगभग 2 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा गया। इलाके में कई गांव जलमग्न हो गए हैं। धमतरी में भी पिछले 6 घंटे से भारी बारिश हो रही है, जिससे कई इलाकों के निचली बस्तियों में पानी भर गया है। तो वहीं राजिम के 20 फीट ऊंचाई पर बना कुलेश्वरनाथ मंदिर, 8 फीट तक पानी डूब चुका है।

Read More: छत्तीसगढ़-मध्यप्रदेश के कई जिलों में अगले 24 घंटे के भीतर हो सकती है भारी बारिश, मौसम विभाग ने जारी की चेतावनी

मौसम विभाग ने अगले 24 घंटे के लिए जो पूर्वानुमान जारी किया है। उसके मुताबिक बुधवार को भी कई जिलों बारिश होगी। कुल मिलाकर पिछले तीन दिनों हो रही बारिश ने किसानों की चिंताएं तो दूर की हैं, लेकिन पानी ने सिस्टम की पोल जरूर खोल दी है।

Read More: 15 लाख रुपए दे रही मोदी सरकार? इस शख्स ने कहा- PM मोदी ने मुझे 5.5 लाख रुपए भेजे…