भाजपा की चुनाव के बाद बीजद को तोड़ने की साजिश है : पांडियन |

भाजपा की चुनाव के बाद बीजद को तोड़ने की साजिश है : पांडियन

भाजपा की चुनाव के बाद बीजद को तोड़ने की साजिश है : पांडियन

:   Modified Date:  May 8, 2024 / 02:20 PM IST, Published Date : May 8, 2024/2:20 pm IST

(फाइल फोटो के साथ)

भुवनेश्वर, आठ मई (भाषा) बीजू जनता दल (बीजद) के नेता और मुख्यमंत्री नवीन पटनायक के करीबी सहायक वी के पांडियन ने बुधवार को आरोप लगाया कि विपक्षी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) जीत के लिए नहीं, बल्कि चुनाव के बाद बीजद को तोड़ने के इरादे से अपनी सीटों की संख्या बढ़ाने के लिए ओडिशा में चुनाव लड़ रही है।

नौकरशाह से नेता बने पांडियन ने बुधवार को गंजाम जिले के गोपालपुर में टेलीविजन चैनल के पत्रकारों के एक समूह से मुलाकात के दौरान यह टिप्पणी की।

उन्होंने पत्रकारों से कहा, ‘‘उन्होंने (भाजपा) 2014 में 120 विधानसभा सीटें जीतने का नारा दिया था लेकिन नाकाम हो गए थे। मुझे 2019 के लिए उनका लक्ष्य नहीं पता था। लेकिन 2024 के लिए वे 50/60 सीटें जीतने के लिए चुनाव लड़ रहे हैं और उनका उद्देश्य चुनाव के बाद बीजद को तोड़ना है। यह उनकी चुनावी रणनीति है।’’

पांडियन ने दावा किया कि भाजपा ओडिशा में सरकार बनाने के लिए चुनाव नहीं लड़ रही है। उन्होंने कहा, ‘‘मैं खुलकर कहता हूं कि यह (बीजद को तोड़ना) उनकी अंदरुनी रणनीति है जैसा कि उन्होंने महाराष्ट्र, कर्नाटक और मध्य प्रदेश में किया है।’’

उन्होंने कहा कि भाजपा की योजना सफल नहीं होगी। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय स्तर से कई लोग राज्य में प्रचार करने के लिए आ रहे हैं लेकिन ओडिशा के लोगों को उन पर कोई भरोसा नहीं है। उन्होंने कहा, ‘‘नवीन बाबू लोगों का भरोसा हैं।’’

भाजपा के राष्ट्रीय नेताओं के लोकसभा और ओडिशा विधानसभा चुनाव प्रचार के लिए लगातार राज्य में आने के बारे में पूछने पर पांडियन ने कहा, ‘‘आपने 2014, 2019 और 2024 में भी देखा है कि देशभर से नेताओं की पूरी फौज प्रचार के लिए आती है। लेकिन लोग उन पर भरोसा नहीं करेंगे। जनता नवीन बाबू को भरपूर आशीर्वाद देगी।’’

यह पूछने पर कि क्या उन्हें पटनायक के लगातार छठी बार राज्य का मुख्यमंत्री बनने का विश्वास है, इस पर पांडियन ने कहा, ‘‘मुझे पूरा विश्वास है कि नवीन बाबू शानदार प्रदर्शन के साथ चुनाव जीतेंगे। अगर मुझे इतना विश्वास नहीं होता मैं नहीं कहता कि नवीन बाबू महा प्रभु जगन्नाथ के आशीर्वाद से नौ जून को मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे।’’

उन्होंने कहा कि भाजपा के पास ओडिशा में 147 में से 60 विधानसभा सीटों पर कोई उम्मीदवार नहीं है। उन्होंने बीजद उम्मीदवारों की सूची जारी होने का इंतजार किया ताकि वे उसके द्वारा छोड़े या नकारे गए नेताओं के बीच में से उम्मीदवारों का चयन कर सकें। उन्होंने कहा, ‘‘यह ओडिशा में भाजपा की सच्चाई है।’’

पांडियन ने केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान और भुवनेश्वर से सांसद अपराजिता सारंगी पर भी जमकर निशाना साधा और उन पर श्री मंदिर परिक्रमा परियोजना (जगन्नाथ मंदिर विरासत गलियारा परियोजना) को रोकने का प्रयास करने का आरोप लगाया।

चुनाव के दौरान भाजपा द्वारा उड़िया अस्मिता (गर्व) मुद्दे को उठाने के प्रश्न पर जवाब देते हुए पांडियन ने कहा कि केंद्र सरकार ने उड़िया भाषा के प्रचार के लिए एक भी रुपया नहीं दिया है। उन्होंने कहा कि राज्य में भाजपा के लोकसभा में आठ सांसद हैं लेकिन उनमें से सभी चुप हैं जबकि केंद्र अन्य भाषाओं के प्रचार के लिए पैसा दे रहा है लेकिन उड़िया भाषा के लिए नहीं।

बीजद नेता ने कहा, ‘‘केवल चुनाव के समय ही केंद्रीय मंत्री (धर्मेंद्र प्रधान) उड़िया भाषा के लिए अपना प्यार दिखाते हैं और अस्मिता की बात करते हैं।’’

भाषा

गोला नरेश

नरेश

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Flowers