चकमा स्वायत्त जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी सदस्य को अविश्वास प्रस्ताव के जरिये हटाया गया |

चकमा स्वायत्त जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी सदस्य को अविश्वास प्रस्ताव के जरिये हटाया गया

चकमा स्वायत्त जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी सदस्य को अविश्वास प्रस्ताव के जरिये हटाया गया

:   Modified Date:  November 29, 2022 / 08:41 PM IST, Published Date : May 9, 2022/9:47 pm IST

आइजोल, नौ मई (भाषा) मिजोरम में ‘चकमा स्वायत्त जिला परिषद’ (सीएडीसी) के मुख्य कार्यकारी सदस्य रसिक मोहन चकमा को परिषद के बजट सत्र के पहले दिन सोमवार को अविश्वास प्रस्ताव के जरिये हटा दिया गया। एक आधिकारिक बयान में यह जानकारी दी गई।

रसिक चकमा मिजो नेशनल फ्रंट (एमएनएफ) के नेता हैं।

सीएडीसी के सूचना एवं जनसंपर्क विभाग की ओर से जारी बयान के मुताबिक, अविश्वास प्रस्ताव एमएनएफ सदस्य काली कुमार तोंगचांग्या द्वारा पेश किया गया।

बयान के मुताबिक, 20 सदस्यीय परिषद के 13 सदस्यों ने अविश्वास प्रस्ताव के पक्ष में वोट दिया।

इसके मुताबिक, रसिक मोहन चकमा समेत छह सदस्य अनुपस्थित रहे।

अप्रैल 2018 में गठित मौजूदा परिषद के कार्यकाल के दौरान यह चौथी बार है, जब मुख्य कार्यकारी सदस्य को हटाया गया है।

मिजोरम के दक्षिण-पश्चिम हिस्से में रहने वाले चकमा आदिवासियों के कल्याण के लिए सीएडीसी का गठन किया गया था।

भाषा

शफीक देवेंद्र

देवेंद्र

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Flowers