अगले हफ्ते तक देश 100 करोड़ कोविडरोधी टीकाकरण के आंकड़े को पार कर लेगा : स्वास्थ्य मंत्री

अगले हफ्ते तक देश 100 करोड़ कोविडरोधी टीकाकरण के आंकड़े को पार कर लेगा : स्वास्थ्य मंत्री

Edited By: , October 16, 2021 / 07:18 PM IST

नयी दिल्ली, 16 अक्टूबर (भाषा) केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने शनिवार को कहा कि भारत अगले हफ्ते कोविड-19 टीकाकरण के 100 करोड़ के आंकड़े पर पहुंच जाएगा। साथ ही, टीके के बारे में मिथक और टीका लगवाने में हिचक को दूर करने के उद्देश्य से गायक कैलाश खेर का लिखा एक कोविड-गान भी जारी किया गया।

मंत्री ने कहा, ‘‘देश में आज शाम तक करीब 97.23 करोड़ लोगों को टीके की प्रथम खुराक दी जा चुकी है।’’

उन्होंने कहा कि अब तक लगाये गये टीकों से यह पता चलता है कि आबादी के करीब 70 प्रतिशत हिस्से को प्रथम खुराक और करीब 30 प्रतिशत को दोनों खुराक दी जा चुकी है।

मांडविया ने कहा, ‘‘हमने 17 सितंबर को, एक दिन में, 2.5 करोड़ खुराक लगाई थी और अगले हफ्ते हम 100 करोड़ के आंकड़े पर पहुंच जाएंगे।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ऐसा सभी के प्रयासों के चलते संभव हो पाया।’’

शनिवार के आधिकारिक आंकड़े के मुताबिक, एक दिन में संक्रमण के 15,981 नये मामले सामने आने के साथ, देश में कोविड-19 के मामले घट रहे हैं।

मंत्री ने कहा कि टीके का विकास करने में पांच से 10 साल लगता है, लेकिन भारत ने अनुसंधान किया और देश में टीका विकसित किया।

कोविड-गान लिखने और गाने वाले खेर ने कहा कि टीके के बारे में मिथक और अफवाहों को दूर करने तथा इसके उपयोग को बढ़ावा देने की जरूरत है ताकि सभी का टीकाकरण सुनिश्चित हो सके।

टीका-गान को तेल उद्योग संगठन एफआईपीआई ने प्रायोजित किया है।

इस अवसर पर पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा कि नकारात्मक परामर्श और देश में कुछ झूठ फैलाये जाने के बावजूद टीकाकरण अब एक जन आंदोलन बन गया है।

उन्होंने देश में टीकाकरण अभियान पर विपक्षी दलों के विमर्श का जिक्र करते हुए कहा, ‘‘दुश्मन, सरकार नहीं है बल्कि वायरस है।’’

उन्होंने सार्वजिनक क्षेत्र में टीका विनिर्माण कांग्रेस नीत संप्रग शासन के दौरान 2004 से 2014 के बीच रोक दिये जाने का जिक्र करते हुए कहा कि विपक्ष ने स्वदेश निर्मित टीके के सुरक्षित होने के बारे में एक नकारात्मक विमर्श तैयार करने की कोशिश की।

पुरी ने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रतिबद्धता से टीकाकरण एक जन आंदोलन बन गया है।’’

उन्होंने हालांकि आगाह किया कि वायरस के खिलाफ जीत की घोषणा करना अभी जल्दबाजी होगी।

भाषा सुभाष प्रशांत

प्रशांत