गोवा में आप के ‘रिश्वत’ राशि के इस्तेमाल का खुलासा आयकर, सीबीआई की जांच में भी हुआ |

गोवा में आप के ‘रिश्वत’ राशि के इस्तेमाल का खुलासा आयकर, सीबीआई की जांच में भी हुआ

गोवा में आप के ‘रिश्वत’ राशि के इस्तेमाल का खुलासा आयकर, सीबीआई की जांच में भी हुआ

:   Modified Date:  March 31, 2024 / 07:40 PM IST, Published Date : March 31, 2024/7:40 pm IST

(नीलाभ श्रीवास्तव)

नयी दिल्ली, 31 मार्च (भाषा) केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) और आयकर विभाग ने भी अलग-अलग जांच में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के दावे की ‘‘पुष्टि’’ की है कि दिल्ली आबकारी मामले में 45 करोड़ रुपये की कथित रिश्वत का इस्तेमाल आम आदमी पार्टी (आप) ने 2022 के गोवा चुनाव प्रचार के लिए किया। अदालत में दाखिल दस्तावेजों से यह जानकारी मिली।

इस मामले में ईडी हवाला ऑपरेटर और अंगड़िया के एक विस्तृत नेटवर्क की भी जांच कर रही है। ईडी ने आबकारी मामले में हाल में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को गिरफ्तार किया था और दावा किया था कि कोष के कथित धन शोधन के लिए केजरीवाल और उनकी पार्टी पर मुकदमा चलाया जा सकता है।

ईडी ने 45 करोड़ रुपये की कथित रिश्वत राशि के लेन-देन को स्थापित करने के लिए पांच अंगड़िया फर्म संचालकों के बयान भी दर्ज किए हैं।

अंगड़िया हवाला जैसी अनौपचारिक कूरियर और बैंक सेवाएं हैं जिनका इस्तेमाल विशेष रूप से हीरे और आभूषण क्षेत्र के व्यवसायों द्वारा सरकारी करों और देनदारी से बचने के लिए केवाईसी-आधारित औपचारिक बैंकिंग मार्ग से बचते हुए बड़ी नकद राशि और अन्य कीमती सामान स्थानांतरित करने के लिए किया जाता है।

ईडी द्वारा इस मामले में गिरफ्तार किए गए 16 प्रमुख लोगों में तेलंगाना के पूर्व मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव की बेटी और विधान पार्षद के. कविता, दिल्ली के पूर्व उपमुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के नेता मनीष सिसोदिया और आप के राज्यसभा सदस्य संजय सिंह शामिल हैं।

आप और उसके नेताओं ने किसी भी गड़बड़ी के आरोपों से बार-बार इनकार किया है। केजरीवाल ने आरोप लगाया कि यह मामला भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार द्वारा आप को भ्रष्ट पार्टी के रूप में पेश करने के लिए माहौल बनाने का प्रयास है।

आम आदमी पार्टी ने आरोप लगाया है कि मामले में शामिल अन्य लोगों जैसे तेलगु देशम पार्टी (तेदेपा) के लोकसभा चुनाव के लिए उम्मीदवार मगुंटा श्रीनिवासुलु रेड्डी, उनके बेटे राघव मगुंटा और अरबिंदो फार्मा के प्रवर्तक शरत रेड्डी के बयान केजरीवाल को फंसाने तथा आगामी चुनावों में उनकी भागीदारी को रोकने के लिए बदल दिए गए।

ईडी ने दावा किया है कि 45 करोड़ रुपये की राशि धन शोधन रोधी कानून के तहत ‘‘अपराध से अर्जित आय’’ है। ईडी का दावा है कि यह नेताओं और शराब कारोबारियों के ‘साउथ ग्रुप’ द्वारा आम आदमी पार्टी को दी गई कुल 100 करोड़ रुपये की रिश्वत राशि का हिस्सा है। एजेंसी ने दावा किया है कि दिल्ली शराब बाजार में प्रमुख स्थान हासिल करने के लिए यह रकम दी गई। ईडी ने दावा किया है कि आम आदमी पार्टी ने गोवा चुनाव प्रचार के लिए 45 करोड़ रुपये खर्च किए थे।

धन शोधन रोकथाम अधिनियम (पीएमएलए) के तहत विशेष अदालत के समक्ष ईडी द्वारा साझा की गई जांच के विवरण के अनुसार आम आदमी पार्टी ने चैरियट प्रोडक्शंस मीडिया प्राइवेट लिमिटेड नामक कंपनी को 2021-22 के दौरान गोवा में अपने चुनाव प्रचार अभियान की सेवा ली।

एजेंसी ने अदालत के समक्ष रखे दस्तावेजों में दावा किया, ‘‘प्रचार अभियानों में शामिल चैरियट प्रोडक्शंस के विवरण की जांच करने पर, यह पाया गया कि कई विक्रेताओं को आंशिक नकद आंशिक बिल भुगतान किया गया था…।’’

एजेंसी ने यह भी कहा है कि ऐसी ही एक कंपनी के कर्मचारी ने ईडी के समक्ष अपना बयान दर्ज कराया जिसमें कहा गया है कि उसे मुंबई में एक अंगड़िया ऑपरेटर से हवाला के माध्यम से 6.29 लाख रुपये का भुगतान किया गया था।

एजेंसी ने उक्त अंगड़िया संचालक आर कांतिलाल के एक कर्मचारी का बयान दर्ज किया, जहां यह पाया गया कि आयकर विभाग ने जनवरी 2022 में उनके गोवा कार्यालय पर छापा मारा था और तलाशी के दौरान उनके सभी दस्तावेज, नोट, चिट और पर्चियां जब्त कर ली गईं थीं।

ईडी ने आयकर विभाग से संपर्क किया और इस अंगड़िया फर्म का डेटा जुटाया। ईडी के विश्लेषण से पता चला कि हवाला के माध्यम से लगभग 45 करोड़ रुपये गोवा में स्थानांतरित किए गए।

ईडी ने कहा, ‘‘लगभग 45 करोड़ रुपये के इस हवाला सौदे की जांच सीबीआई द्वारा की गई और इसकी पुष्टि की गई। आठ जुलाई 2023 को एक विशेष अदालत के समक्ष दाखिल अपने दूसरे पूरक आरोपपत्र में सीबीआई ने इसका उल्लेख किया।’’

सीबीआई ने 17 अगस्त 2022 को प्राथमिकी दर्ज की। ईडी ने इस प्राथमिकी का संज्ञान लेते हुए 22 अगस्त, 2022 को 2021-22 की दिल्ली आबकारी नीति में कथित अनियमितताओं की जांच के लिए धन शोधन का मामला दर्ज किया।

ईडी ने कहा कि आप एक राजनीतिक दल है, जिसे जन प्रतिनिधित्व अधिनियम के तहत भारत के नागरिकों के एक संघ या निकाय के रूप में परिभाषित किया गया है। ईडी ने दावा किया कि लेकिन इसे पीएमएलए की धारा 70 के तहत ‘‘कंपनी’’ के रूप में वर्गीकृत किया जा सकता है।

ईडी ने दावा किया, ‘‘चूंकि अपराध के समय अरविंद केजरीवाल उक्त कंपनी यानी आप के ‘‘प्रभारी और जिम्मेदार’’ थे, इसलिए उन्हें और उनकी पार्टी को धन शोधन रोधी कानून के तहत संबंधित अपराधों का ‘‘दोषी माना जाएगा’’ और मुकदमा चलाया जा सकता है।’’

मगुंटा श्रीनिवासुलु रेड्डी दक्षिण भारत के एक प्रमुख शराब कारोबारी और अंगुल सीट से युवाजन श्रमिक रायथु कांग्रेस पार्टी (वाईएसआरसीपी) के मौजूदा सांसद हैं। वह हाल में तेदेपा में शामिल हुए और उन्हें उसी सीट से आगामी आम चुनाव लड़ने के लिए टिकट मिला। मगुंटा, के कविता और कारोबारी शरत रेड्डी पर ‘साउथ ग्रुप’ का हिस्सा होने का आरोप है।

भाषा आशीष रंजन

रंजन

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Flowers