भारत, ऑस्ट्रेलिया पूर्ण व्यापार समझौते के लिए प्रतिबद्ध : ऑस्ट्रेलियाई राजनयिक |

भारत, ऑस्ट्रेलिया पूर्ण व्यापार समझौते के लिए प्रतिबद्ध : ऑस्ट्रेलियाई राजनयिक

भारत, ऑस्ट्रेलिया पूर्ण व्यापार समझौते के लिए प्रतिबद्ध : ऑस्ट्रेलियाई राजनयिक

:   November 29, 2022 / 07:51 PM IST

नयी दिल्ली, चार अप्रैल (भाषा) ऑस्ट्रेलिया के उच्चायुक्त बैरी ओ’ फैरेल ने भारत के साथ एक व्यापार समझौते पर हस्ताक्षर के दो दिन बाद सोमवार को कहा कि भारत और ऑस्ट्रेलिया पूर्ण व्यापक आर्थिक सहयोग समझौते की दिशा में काम करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

उच्चायुक्त ने एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि शनिवार को हस्ताक्षरित व्यापार समझौता केवल “पहले चरण का समझौता” है और यह दोनों पक्षों को महत्वपूर्ण खनिजों, शिक्षा और पर्यटन जैसे क्षेत्रों में अपनी अर्थव्यवस्थाओं की पूरक प्रकृति का उचित उपयोग करने का अवसर देता है।

उन्होंने कहा, ‘‘मुझे भरोसा है कि यह समझौता वाणिज्यिक स्तर पर शुरू होगा और हमारे दोनों देशों के लिए और अवसर खोलने में लाभकारी आवश्यक विश्वास का निर्माण करेगा।’’

ओ’ फैरेल ने कहा, ‘‘मुझे और स्पष्ट करने के लिए यह बताना चाहिए कि दोनों देश एक पूर्ण समग्र आर्थिक सहयोग समझौते की दिशा में काम करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।’’

उन्होंने कृषि क्षेत्र को लेकर दोनों पक्षों के बीच कुछ समस्याएं होने का संकेत देते हुए कहा, ‘‘कृषि क्षेत्र दुनिया के हर देश में एक संवेदनशील क्षेत्र है। यह ऑस्ट्रेलिया में संवेदनशील है। यह भारत में संवेदनशील है।’’

ओ’ फैरेल ने कहा, ‘‘हम जब अपने विविध आर्थिक क्षेत्रों में सहयोग करना शुरू कर देंगे, एक बार जब लोग समझ जाएंगे कि ऑस्ट्रेलियाई वाइन (मदिरा) भारतीय वाइन को नुकसान नहीं पहुंचाएगी, हमारे उत्पाद अलग-अलग मूल्य बिंदुओं पर उपलब्ध होंगे, तो हम अधिक से अधिक आर्थिक सहयोग देखेंगे।’’

भारत और ऑस्ट्रेलिया ने द्विपक्षीय व्यापार को विविध बनाने के लिए एक व्यापार समझौते पर शनिवार को हस्ताक्षर किए थे।

उन्होंने कहा कि कोविड-19 महामारी के दौरान ऑस्ट्रेलिया, भारत, जापान और अमेरिका के करीब आने का एक कारण यह है कि इस महामारी दुनिया में मौजूद कुछ नकारात्मक प्रवृत्तियों को बढ़ा दिया था।

ओ’ फैरेल ने कहा, ‘‘भारत ने सीमा संबंधी तनाव का सामना किया, ऑस्ट्रेलिया ने आर्थिक (समस्याओं) का सामना किया, हम प्रशांत में नई चुनौती का सामना कर रहे हैं, ये समस्याएं एक रात में समाप्त नहीं होंगी।’’

उन्होंने कहा, ‘‘यूरोप में जो हो रहा है, उसके हम पर भविष्य में प्रभाव दिखेंगे। इससे भारतीय एवं ऑस्ट्रेलियाई रक्षा बलों के बीच सहयोग और बढ़ेगा।’’

उच्चायुक्त ने भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच भविष्य को ‘‘असीमित’’ बताया।

उन्होंने कहा, ‘‘भविष्य असीमित है, इसे अच्छे प्रबंधकों की आवश्यकता है, थिंक टैंक के विचारों के लिए स्वयं को खुला रखें, कुछ जोखिम उठाने के लिए तैयार रहें, हमें एक अतिरिक्त कदम बढ़ाने के लिए चुनौती दें और इस बात के लिए तैयार रहें कि भारत एवं ऑस्ट्रेलिया कभी-कभी ना कह सकते हैं।’’

ओ’फैरेल ने शनिवार को हस्ताक्षरित व्यापार समझौते का उल्लेख करते हुए कहा कि भारत में 85 प्रतिशत ऑस्ट्रेलियाई माल के निर्यात पर सीमा शुल्क तत्काल समाप्त होने से भारतीय उपभोक्ताओं एवं कारोबारों को लाभ होगा।

भाषा सिम्मी नेत्रपाल नरेश

नरेश

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Flowers