तेजस्वी पर मोदी की टिप्पणी से साबित होता है कि जांच एजेंसियां उनके इशारे पर काम कर रही हैं: सिब्बल |

तेजस्वी पर मोदी की टिप्पणी से साबित होता है कि जांच एजेंसियां उनके इशारे पर काम कर रही हैं: सिब्बल

तेजस्वी पर मोदी की टिप्पणी से साबित होता है कि जांच एजेंसियां उनके इशारे पर काम कर रही हैं: सिब्बल

:   Modified Date:  May 26, 2024 / 04:58 PM IST, Published Date : May 26, 2024/4:58 pm IST

नयी दिल्ली, 26 मई (भाषा) राज्यसभा सदस्य कपिल सिब्बल ने राजद नेता तेजस्वी यादव पर परोक्ष रूप से ‘जेल’ संबंधी कटाक्ष किए जाने को लेकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर रविवार को निशाना साधा और दावा किया कि यह एक ”स्वीकारोक्ति” है कि जांच एजेंसियां ​​उनके इशारे पर काम कर रही हैं।

सिब्बल ने मोदी की ‘मुजरा’ टिप्पणी को लेकर भी उनकी आलोचना की और कहा कि भले ही यह आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन है, लेकिन निर्वाचन आयोग सहित कोई भी कार्रवाई नहीं करेगा क्योंकि वे प्रधानमंत्री के साथ ‘‘मिले हुए’’ हैं।

पूर्व केंद्रीय मंत्री ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि प्रधानमंत्री अपने भाषणों में कहते रहे हैं कि ‘इंडिया’ गठबंधन पानी के नल, बिजली, बैंकों में जमा पैसा छीन लेगा । उन्होंने ‘मुजरा’ शब्द पर भी तंज कसा।

सिब्बल ने प्रधानमंत्री की ‘मुजरा’ टिप्पणी को लेकर उन पर निशाना साधते हुए कहा, ‘‘वह उच्च पद पर हैं जिसकी एक गरिमा है। अगर आप प्रधानमंत्री पद की गरिमा को इस स्तर तक गिरा देंगे… देखिए सोशल मीडिया पर क्या कहा जा रहा है। यह महिलाओं का भी अपमान है।’’

उन्होंने कहा, ‘आप क्या कहना चाहते हैं? आप महिलाओं का अपमान कर रहे हैं, आप विपक्षी नेताओं का अपमान कर रहे हैं। यदि आप ऊपर से यह संदेश दे रहे हैं, तो नीचे भी वही होगा। इसलिए आप नफरत की संस्कृति पैदा करना चाहते हैं। आप इस तरह विकसित भारत नहीं बना सकते।’

सिब्बल ने कहा, ‘मैं जानता हूं कि निर्वाचन आयोग कुछ नहीं करेगा, भले ही मुझे लगता है कि यह आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन है। लेकिन कोई भी इसके बारे में कुछ नहीं करेगा क्योंकि वे आपस में मिले हुए हैं।’

उन्होंने यह भी कहा कि प्रधानमंत्री ने गारंटी दी है कि चुनाव खत्म होने पर तेजस्वी यादव को जेल भेजा जाएगा।

सिब्बल ने कहा, ‘वह तेजस्वी को जेल कैसे भेज सकते हैं? एक कानूनी प्रक्रिया है। इसका मतलब है कि कानून उनके (मोदी) निर्देश पर काम कर रहा है। मैं कहता रहा हूं कि जांच एजेंसियां ​​उनके इशारे पर काम कर रही हैं। यह एक कबूलनामा है कि किस स्तर तक, हमारी लोकतांत्रिक प्रक्रियाएँ ध्वस्त हो गई हैं?’

इससे पहले, सिब्बल ने ‘एक्स’ पर एक पोस्ट में कहा, ‘मोदी की तेजस्वी के बारे में बिहार के लोगों को एक और गारंटी: ‘एक बार जब वह हेलीकॉप्टर पर अपना चक्कर पूरा कर लेंगे, तो उनका जेल जाने का रास्ता तय हो जाएगा।’ यह आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन है। यह इस बात की स्वीकारोक्ति हैं कि एजेंसियां ​​उनके (मोदी) कहने पर काम करती हैं। निर्वाचन आयोग कोई कार्रवाई नहीं करेगा।’

मोदी ने शनिवार को काराकाट में एक रैली को संबोधित करते हुए कहा था, ‘मैं आज बिहार के लोगों को एक और गारंटी दे रहा हूं। जिन्होंने बिहार के गरीबों को लूटकर नौकरी के बदले में जमीन लिखवाई है, कान खोलकर सुन लो, उनके भी जेल जाने की उलटी गिनती शुरू हो चुकी है। ये जैसे ही हेलीकॉप्टर में चक्कर मारने का उनका समय पूरा होगा, जेल का रास्ता तय हो जाएगा।’’

सिब्बल ने संवाददाता सम्मेलन में राजनीतिक दलों के मतगणना एजेंटों के लिए एक चार्ट भी जारी किया ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि ईवीएम के साथ कोई छेड़छाड़ नहीं हुई है।

उन्होंने कहा कि राजनीतिक दलों के एजेंट को मशीनों पर समय अवश्य देखना चाहिए कि मशीन कब खोली गई है जो कि चार जून को होना चाहिए।

सिब्बल ने लोगों से कुल मतों का मिलान गिने हुए मतों से करने का आग्रह किया।

उन्होंने कहा, ‘परिणाम बटन तब तक नहीं दबाया जाना चाहिए जब तक कि सभी आंकड़ों का मिलान न हो जाए। सभी राजनीतिक दलों और मतगणना एजेंटों को प्रक्रिया का पालन करना चाहिए।’

सिब्बल ने कहा, ‘बहुत से लोग कहते हैं कि इन मशीनों के साथ छेड़छाड़ की आशंका है, इसलिए हम यह सुनिश्चित करने की कोशिश कर रहे हैं कि कोई छेड़छाड़ न हो।’

लोकसभा चुनाव के छह चरणों के बाद सिब्बल ने कहा कि देश का मूड बदलाव का है लेकिन सत्ता में मौजूद राजनीतिक दल का मूड है कि कोई बदलाव न हो।

भाषा नेत्रपाल नरेश

नरेश

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Flowers