रोगी को असंवेदनशील तरीके से छुट्टी देने के मामले में दो चिकित्सकों एवं नर्सिंग अधिकारी को नोटिस |

रोगी को असंवेदनशील तरीके से छुट्टी देने के मामले में दो चिकित्सकों एवं नर्सिंग अधिकारी को नोटिस

रोगी को असंवेदनशील तरीके से छुट्टी देने के मामले में दो चिकित्सकों एवं नर्सिंग अधिकारी को नोटिस

:   Modified Date:  May 30, 2024 / 05:53 PM IST, Published Date : May 30, 2024/5:53 pm IST

जयपुर, 30 मई (भाषा) राजस्थान के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग ने महिला रोगी की गलत किडनी निकालने के प्रकरण में बीकानेर में उपचार के दौरान उसे असंवेदनशील तरीके से छुट्टी देने पर पीबीएम अस्पताल के दो चिकित्सकों एवं नर्सिंग अधिकारी को कारण बताओ नोटिस जारी किया है।

चिकित्सा शिक्षा विभाग की अतिरिक्त मुख्य सचिव शुभ्रा सिंह के निर्देश पर पीबीएम अस्पताल के दो चिकित्सकों –‘मेडिसिन यूनिट’ के प्रमुख डॉ. बालकिशन गुप्ता, ‘नेफ्रोलॉजी’(वृक्क विज्ञान) विभाग के आचार्य डॉ. जितेन्द्र फलोदिया एवं नर्सिंग प्रभारी रमजान तंवर को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। रोगी को झुंझुनू के बाद बीकानेर के पीबीएम अस्पताल में ले जाया गया था।

आधिकारिक बयान के अनुसार सिंह के निर्देश पर महिला रोगी ईद बानो को बेहतर उपचार उपलब्ध करवाने के लिए जयपुर लाया गया है। उसका उपचार अब जयपुर के सवाई मानसिंह अस्पताल में किया जाएगा।

रोगी के उपचार की स्थिति को लेकर मेडिकल बोर्ड गठित किया गया था। बोर्ड की रिपोर्ट के अनुसार रोगी को ‘नेफ्रोलॉजिस्ट’, ‘यूरोलॉजिस्ट’ एवं ‘क्रिटिकल केयर स्पेशलिस्ट’ की निगरानी में उच्च स्तरीय उपचार की आवश्यकता है।

इसे देखते हुए अब रोगी को झुंझुनूं से एम्बुलेंस से सवाई मानसिंह अस्पताल लाया गया है।

झुंझुनू में इस महिला रोगी की दाईं किडनी के स्थान पर बाईं किडनी निकाल देने का गंभीर मामला सामने आने के बाद मंगलवार को राज्य सरकार ने निजी धनखड़ अस्पताल का पंजीकरण रद्द कर दिया था।

भाषा कुंज पृथ्वी राजकुमार

राजकुमार

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Flowers