ठाणे रसायन फैक्टरी विस्फोट मामला : कंपनी के निदेशकों को शुक्रवार तक पुलिस हिरासत में भेजा गया |

ठाणे रसायन फैक्टरी विस्फोट मामला : कंपनी के निदेशकों को शुक्रवार तक पुलिस हिरासत में भेजा गया

ठाणे रसायन फैक्टरी विस्फोट मामला : कंपनी के निदेशकों को शुक्रवार तक पुलिस हिरासत में भेजा गया

:   Modified Date:  May 29, 2024 / 09:37 PM IST, Published Date : May 29, 2024/9:37 pm IST

(फोटो के साथ)

ठाणे, 29 मई (भाषा) महाराष्ट्र के ठाणे जिले की एक अदालत ने रसायन फैक्टरी विस्फोट मामले में गिरफ्तार कंपनी के दो निदेशकों को शुक्रवार तक के लिए पुलिस रिमांड पर भेज दिया।

निदेशकों के वकील ने कहा कि यह घटना “ईश्वर की मर्जी थी”।

पुलिस ने अमुदन केमिकल्स के निदेशकों मलय मेहता और उसकी पत्नी स्नेहा मेहता को कल्याण मजिस्ट्रेट अदालत में पेश किया और आगे की जांच के लिए दोनों को हिरासत में लेने की मांग की।

दंपति के वकील ने अदालत को बताया कि गर्म हवा के कारण रासायनिक प्रतिक्रियाएं हुईं, जिसके कारण उस दिन रिएक्टर में विस्फोट हुआ।

वकील ने प्रभावित परिवारों के प्रति सहानुभूति जताते हुए कहा कि यह “ईश्वर की मर्जी हो सकती है”

अदालत ने दोनों पक्षों को सुनने के बाद दोनों निदेशकों को 31 मई तक पुलिस हिरासत में भेज दिया।

फैक्टरी के रिएक्टर में विस्फोट की घटना में 10 लोगों की मौत हो गई थी और 60 से ज्यादा लोग घायल हुए थे।

ठाणे जिले के डोंबिवली इलाके में स्थित ‘अमुदन केमिकल्स’ में 23 मई को हुए विस्फोट का प्रभाव इतना भयानक था कि आसपास के घरों की खिड़कियों के शीशे टूट गए और वहां खड़ी कारें, सड़कें और बिजली के खंभे क्षतिग्रस्त हो गए थे।

घटना के बाद पुलिस ने ‘अमुदन केमिकल्स’ के निदेशक मलय मेहता (38) को गिरफ्तार किया था।

अपराध शाखा के अधिकारी ने बताया कि पुलिस ने मंगलवार को कंपनी की एक और निदेशक और मलय मेहता की पत्नी स्नेहा मेहता (35) को तलब किया और विस्तृत पूछताछ के बाद मामले में प्रथम दृष्टया उनकी संलिप्तता साबित होने पर उन्हें गिरफ्तार कर लिया।

अधिकारी के मुताबिक स्नेहा को बुधवार को अदालत में पेश किया जाएगा।

घटना के संबंध में पिछले सप्ताह पुलिस ने प्राथमिकी दर्ज की थी जिसमें उनका नाम नहीं था।

अधिकारी ने बताया कि जांच दल ने मुंबई स्थित मेहता के आवास पर भी छापा मारा और कुछ दस्तावेज इकट्ठा किये, जो जांच के लिए महत्वपूर्ण हैं।

राज्य के उद्योग मंत्री उदय सामंत ने मंगलवार को कहा था कि घटना की जांच के लिए उद्योग, श्रम एवं पर्यावरण विभागों के प्रमुख सचिवों वाली तीन सदस्यीय उच्च स्तरीय समिति गठित की गई है और यह तीन सप्ताह में अपनी रिपोर्ट सौंपेगी।

राज्य के श्रम मंत्री सुरेश खाड़े ने सोमवार को कहा कि विस्फोट के वास्तविक कारण का पता लगाने के लिए नई दिल्ली से एक विशेषज्ञ दल भी जांच करेगा।

भाषा रवि कांत नरेश

नरेश

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Flowers