पोर्श दुर्घटना मामले में रक्त के नमूने से हेरफेर पर ससून अस्पताल के दो डॉक्टर निलंबित |

पोर्श दुर्घटना मामले में रक्त के नमूने से हेरफेर पर ससून अस्पताल के दो डॉक्टर निलंबित

पोर्श दुर्घटना मामले में रक्त के नमूने से हेरफेर पर ससून अस्पताल के दो डॉक्टर निलंबित

:   Modified Date:  May 29, 2024 / 08:37 PM IST, Published Date : May 29, 2024/8:37 pm IST

मुंबई, 29 मई (भाषा) महाराष्ट्र सरकार ने बुधवार को सरकारी ससून जनरल अस्पताल के दो डॉक्टरों को निलंबित कर दिया, जिन्हें पुणे में पोर्श कार दुर्घटना में शामिल नाबालिग चालक के रक्त के नमूने में कथित हेरफेर के सिलसिले में गिरफ्तार किया गया था।

इसके अलावा, बी जे मेडिकल कॉलेज और ससून सिविल अस्पताल के डीन डॉ. विनायक काले को जबरन अवकाश पर भेज दिया गया है और उनका अतिरिक्त प्रभार डॉ. चंद्रकांत म्हस्के को सौंप दिया गया है।

महाराष्ट्र मेडिकल शिक्षा विभाग के आयुक्त की सिफारिश पर फॉरेंसिक मेडिसिन विभाग के प्रोफेसर और प्रमुख डॉ. अजय तावड़े और ससून अस्पताल के चिकित्सा अधिकारी डॉ. श्रीहरि हल्नोर को निलंबित करने का आदेश दिया गया।

चिकित्सा शिक्षा मंत्री हसन मुश्रीफ ने कहा, ‘‘राज्य सरकार को आरोपों की जांच के लिए नियुक्त तीन सदस्यीय समिति की रिपोर्ट मिल गई है। समिति की रिपोर्ट के आधार पर चिकित्सा शिक्षा विभाग ने इन दोनों अधिकारियों (डॉक्टरों) को निलंबित करने का आदेश जारी किया है।’’

डॉ. चंद्रकांत म्हस्के पुणे जिले के बारामती स्थित पुण्यश्लोक अहिल्यादेवी सरकारी मेडिकल कॉलेज के डीन हैं।

इससे पहले, मामले में आरोपी किशोर के रक्त नमूने बदलने के आरोप में गिरफ्तार ससून अस्पताल के वरिष्ठ चिकित्सक अजय तावड़े को निलंबित करने का प्रस्ताव भेजा गया था।

डॉ. विनायक काले ने पत्रकारों को बताया था कि प्रशासन ने तावड़े की गिरफ्तारी के तुरंत बाद उन्हें निलंबित करने का प्रस्ताव राज्य सरकार को भेजा।

भाषा जोहेब आशीष नरेश

नरेश

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Flowers