लुकआउट सर्कुलर जारी करते ही CBI की टीम पहुंची पूर्व कमिश्नर राजीव कुमार के दफ्तर, घर की भी ली गई तलाशी

 Edited By: Deepak Dilliwar

Published on 26 May 2019 09:14 PM, Updated On 26 May 2019 09:14 PM

कोलकाता: लोकसभा चुनाव 2019 के खत्म होने के साथ ही सीबीआई अपने पॉवर में लौट आई है। इसके साथ ही कोलकाता के पूर्व पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार की मुसीबतें बढ़ती जा रही है। सीबीआई ने राजीव कुमार के खिलाफ लुकआउट सर्कुलर जारी किया है। 23 मई को जारी किया गया यह नोटिस एक साल तक प्रभावी रहेगा। ज्ञात हो कि राजीव कुमार पर शारदा चिटफंड और रोजवैली चिटफंड घोटाले की जांच के दौरान सबूतों से छेड़छाड़ का आरोप है।


बताया जा रहा है कि लूकआउट सर्कुलर जारी होने के बाद सीबीआई की टीम राजीव कुमार के दफ्तर पहुंची है। यहां आने से पहले उनके पैतृक घर की भी तलाशी ली गई है। बताया जाता है कि राजीव कुमारी सीएम ममता बनर्जी के बरीबी रहे हैं।


गौरतलब है राजीव कुमार पर आरोप है कि उन्होंने शारदा चिटफंड और रोजवैली चिटफंड घोटाले की जांच के दौरान सबूतों से छेड़छाड़ की है। मामले को लेकर सीबीआई पूछताछ के लिए गिरफ्तार करना चाहती है। हाईकोर्ट ने राजीव कुमार की गिरफ्तारी पर 24 मई तक रोक लगा रखी थी। अपनी गिरफ्तारी से राहत के लिए राजीव ने सुप्रीम कोर्ट का भी दरवाजा खटखटाया था, लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें फटकार लगाते हुए कोलकाता हाईकोर्ट में अर्जी लगाने की हिदायत दी। यहां भी एक मुसीबत आड़े आ गई। पश्चिम बंगाल की अदालतों के वकील हड़ताल पर हैं, इसलिए राजीव कुमार चाहकर भी कलकत्ता हाईकोर्ट का रूख नहीं कर पा रहे हैं।

Web Title : CBI team reaches at the office of the Deputy Commissioner of Police in Park Street

जरूर देखिये