शहीद जवानों के परिजनों को 110 करोड़ देना चाहता है ये शख्स, जानिए कौन हैं ये और क्या है इनकी कहानी?

 Edited By: Shahnawaz Sadique

Published on 04 Mar 2019 05:56 PM, Updated On 04 Mar 2019 05:56 PM

मुंबई: पूरे देश में जहां एक ओर सर्जिकल स्ट्राइक-2 के बाद से सियासत गरमाई हुई है, वहीं दूसरी ओर राजस्थान के कोटा में पैदा हुए एक शख्स ने शहीद परिवारों के लिए 110 करोड़ रूपए देने की घोषणा की है। शहीद के परिजनों को इतनी बड़ी रकम देने के लिए उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने का समय भी मांगा है, जिसके जवाब में सरकार ने उनका प्रोफाइल भेजने का कहा है। बता दें कि जिस शख्स ने ये इच्छा जताई है वो जन्म से ही नेत्रहीन हैं।

Read More: एयर स्ट्राइक पर विपक्ष ने मांगे सबूत, वायुसेना प्रमुख ने कहा- हम टारगेट उड़ाते हैं, कितने मरे ये नहीं गिन सकते

दरसअल राजस्थान के कोटा में जन्मे मुर्तजा ने शहीदों के परिवारों को 110 करोड़ रूपए सहायता राशि प्रदान करने की घोषणा की है। 44 साल के मुर्तजा अली हमीद वर्तमान में मुंबई में रहते हैं, लेकिन उनका पैतृक घर राजस्थान के कोटा में है। फिलहाल मुर्तजा मुंबई में बतौर रिसर्चर और साइंटिस्ट के रूप में कार्यरत हैं।

Read More: पीएम मोदी ने कहा- आतंकवाद एक गंभीर बीमारी, 'हम इसका इलाज कर रहे हैं'

वहीं, शहीद जवानों के परिजनों की मदद के सामने आए मुर्तजा को सरकार से शिकायत भी है। मुर्तजा ने 'फ्यूल बर्न रेडिएशन टेक्नोलॉजी' तकनीक का ईजाद किया था जिसकी मदद से किसी भी ऐसी गाड़ी जिसमें जीपीएस, कैमरा और अन्य तकनीकी उपकरण नहीं हैं उसका पता लगाया जा सकता है। मुर्तजा ने साल 2016 में इस तकनीक को फ्री में भारत सरकार को देने के लिए प्रस्ताव दिया था, लेकिन मंजूरी नहीं मिली। इसके बाद सरकार की तरफ से अक्टूबर 2018 में इस तकनीक को मंजूरी दी गई। उन्होंने कहा कि सरकार ने अगर उनके एक आविष्कार को समय रहते मान्यता दी होती तो शायद पुलवामा हमला होता ही नहीं।

 

Web Title : Scientist offer Indian government for donate 110 crore to pulwama martyrs

जरूर देखिये