क्या ऐसे दूर होगा कुपोषण? स्वादिष्ट भोजन के नाम पर स्कूली बच्चों को खिलाया जा रहा है रोटी और नमक

 Edited By: Deepak Dilliwar

Published on 22 Aug 2019 10:08 PM, Updated On 22 Aug 2019 10:08 PM

मिर्जापुर: बच्चों को पौष्टिक आहार देकर कुपोषण दूर करने का दावा करने वाली सरकार की पोल उस वक्त खुल गई, जब स्कूली बच्चों को मीड डे मील में नमक के साथ रोटी खाते देखा गया। जी हां, ऐसी तस्वीर सामने आई है उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर स्थित जमालपुर के ग्राम हिनौता के सीयूर प्राइमरी स्कूल से। जहां बच्चें को स्कूल प्रबंधन ने मी​ड डे मील में रोटी और नमक परोसा था।

Read More: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद सहित देश की इन महान हस्तियों ने दी सीएम भूपेश बघेल को जन्मदिन की बधाई

दरअसल गुरुवार (22 अगस्त 2019) को मिड डे मिल में बच्चों को रोटी के साथ सब्जी या दाल की जगह सिर्फ नमक परोसा गया। हालांकि मामले की जानकारी होने जिला कलेक्टर ने जांच के आदेश दिए हैं। डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट अनुराग पटेल ने कहा है कि शिक्षक और पर्यवेक्षक स्तर पर लापरवाही हुई है। शिक्षक को निलंबित कर दिया गया है। इसके साथ ही पर्यवेक्षक से जवाब मांगा गया है। सीएम योगी के आदेशानुसार मिड डे मील में मिलने वाले खाने का मेन्यू पहले से तय किया गया है। यहां तक कि बच्चों को कुछ दिन के अंतराल पर दूध और फल भी परोसे जाने के आदेश हैं। लेकिन निश्चित तौर पर यह लापरवाही शिक्षक और सुपरवाइजर स्तर पर हुई है।

Read More: छत्तीसगढ़ सरकार ने की बड़ी प्रशासनिक सर्जरी, 13 जनपद CEO सहित 105 हॉस्टल 


Read More: 7th Pay Commission : सीएम ने अपने जन्मदिन के पहले कर्मचारियों को दिया तोहफा, एक जनवरी 2019 से मिलेगा इतनी वेतनवृध्दि का लाभ

मिली जानकारी के अनुसार सीयूर प्राइमरी स्कूल में 100 से अधिक बच्चों पढ़ते हैं। यहां आए दिन बच्चों को मीड डे मील में नमक और रोटी परोसा जाता है। इस मामले का लेकर स्कूल के शिक्षक ने बताया कि मिड डे मील की खराब व्यवस्था काफी समय से है। वहीं, एक शिक्षिका ने बताया कि बच्चों को ऐसा भोजन परोसते हुए हमें भी खराब लगता है, लेकिन क्या कर मजबूर हैं। स्थानीय लोग भी इस व्यवस्था का विरोध करते रहे हैं लेकिन कोई सुनने वाला नहीं है।

Read More: प्रदेश में लाखों अपात्रों को दिया जा रहा था राशन, मृत व्यक्तियों के नाम से लिया जा रहा था लाभ

यहां पढ़ने वाले बच्चों ने बताया कि उन्हें खाने के लिए कभी-कभी दाल-चावल और सब्जी दी जाती है। लेकिन आज तक दूध और फल वितरण नहीं दिया गया। हां ऐसा कई बार हुआ है जब हमे नमक और रोटी परोसा जाता है।

Read More: सीएम भूपेश बघेल 23 अगस्त को करेंगे चना वितरण योजना का शुभारंभ, बस्तर भेजा जाएगा 10 ट्रक चना

Web Title : Students at a primary school in Hinauta seen eating 'roti' with salt in mid-day meal

जरूर देखिये