राजनीतिक ई-विज्ञापनों का कराना होगा प्रमाणीकरण | Chhattisgarh Assembly Election 2018 :

राजनीतिक ई-विज्ञापनों का कराना होगा प्रमाणीकरण

राजनीतिक ई-विज्ञापनों का कराना होगा प्रमाणीकरण

: , March 25, 2021 / 10:10 PM IST

रायपुर निर्वाचन आयोग ने इलेक्ट्रॉनिक विज्ञापनों तथा सोशल मीडिया पर राजनीतिक विज्ञापनों के प्रमाणीकरण के विषय को और भी बेहतर ढंग से स्पष्ट करते हुए किया है। आयोग ने कहा है कि राजनीतिक दलों अथवा प्रत्याशी को किसी भी प्रकार के राजनीतिक ई- विज्ञापन का मीडिया प्रमाणन और मीडिया निगरानी समिति (एमसीएमसी) से पूर्व- प्रमाणीकरण कराना अनिवार्य होगा। भारत निर्वाचन आयोग के संचार मामलों एवं अंतरराष्ट्रीय समन्वय के महानिदेशक धीरेंद्र ओझा ने सोमवार को वीडियो-काँफ्रेंसिंग के माध्यम से छत्तीसगढ़ के सभी एमसीएमसी कमेटी से चर्चा की। 

ओझा ने बताया कि इलेक्ट्रॉनिक तथा सोशल माध्यमों के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए राजनीतिक दलों और प्रत्याशियों द्वारा इसका उपयोग लगातार बढ़ा है। ऐसे में राजनीतिक विज्ञापनों, जिसमें राजनीतिक लाभ लेने, मतयाचना अथवा किसी अन्य दल अथवा प्रत्याशी के द्वारा ई-विज्ञापन किया जाता है, तो उसका पूर्व प्रमाणीकरण अनिवार्य है। इसके साथ ही राजनीतिक विज्ञापनों के प्रसारण के लिए किए जाने वाले व्यय को भी राजनीतिक दलों अथवा प्रत्याशी के निर्वाचन व्यय में शामिल किया जाएगा।

यह भी पढ़ें : सेना ने एलओसी पार पाकिस्तान के कई ठिकानों पर किया हमला, आतंकियों के कई लॉन्चिंग पैड ध्वस्त 

निर्वाचन आयोग ने एक बार फिर स्पष्ट किया है कि सोशल मीडिया पर स्वयं के अकाउंट से किये गए राजनीतिक सामग्री संबंधी पोस्ट को निर्वाचन व्यय का हिस्सा नहीं माना जाएगा, लेकिन अन्य प्लेटफार्म, सोशल साइट, ई- पेपर समेत अन्य किसी भी इलेक्ट्रॉनिक माध्यम में राजनीतिक विज्ञापन को पुर्नसृजित अथवा प्रसंस्कृत किए जाने पर उसका व्यय निर्वाचन खर्च का हिस्सा माना जाएगा।   

आयोग के निर्देशानुसार राज्य स्तर पर एक राज्य स्तरीय एमसीएमसी कमेटी मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय द्वारा गठित किया गया है। राज्य स्तरीय कमेटी में राजनीतिक दलों द्वारा राजनीतिक ई- विज्ञापनों का प्रमाणीकऱण कराया जा सकता है। इसके साथ ही हर जिले में जिला निर्वाचन अधिकारी द्वारा जिला स्तर पर एमसीएमसी कमेटी गठित है, हां प्रत्याशी अपने विज्ञापनों का पूर्व प्रमाणीकरण करा सकते हैं।

यह भी पढ़ें : चुनावी रैलियों से दिग्विजय अलग-थलग, ट्विटर पर दी सफाई 

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान संयुक्त मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी समीर विश्नोई एवं पद्मिनी भोई साहू, उप मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्रीकांत वर्मा, सहायक मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी शारदा अग्रवाल एवं मनीष मिश्रा समेत राज्य स्तरीय मीडिया सर्टिफिकेशन एंड मानीटरिंग कमेटी (एमसीएमसी) के सदस्यगण और निर्वाचन कार्य से जुड़े अधिकारी मौजूद रहे।

वेब डेस्क, IBC24 

 

#HarGharTiranga