गोंडा में इंटर कॉलेज के प्रधानाचार्य के शव को रखकर प्रदर्शन |

गोंडा में इंटर कॉलेज के प्रधानाचार्य के शव को रखकर प्रदर्शन

गोंडा में इंटर कॉलेज के प्रधानाचार्य के शव को रखकर प्रदर्शन

:   Modified Date:  March 5, 2024 / 03:47 PM IST, Published Date : March 5, 2024/3:47 pm IST

गोंडा (उप्र) पांच मार्च (भाषा) उत्तर प्रदेश में गोंडा जिले के छपिया थानाक्षेत्र में दो दिन पूर्व हुई एक निजी कॉलेज के प्रधानाचार्य की हत्या से आक्रोशित बच्चों और अभिभावकों ने शव को चौराहे पर रखकर प्रदर्शन किया तथा आरोपी की तत्काल गिरफ्तारी करने एवं पीड़ित परिवार को मुआवजा देने की मांग की।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि प्रदर्शनकारियों ने हाथों में तख्ती लेकर ‘दिनेश यादव को इंसाफ दो, आरोपियों को फांसी दो’ का नारा लगाते हुए धरना दिया।

मनकापुर के पुलिस क्षेत्राधिकारी (सीओ) की अगुवाई में कई थानों की पुलिस मौके पर पहुंची और लोगों को समझा-बुझाकर प्रदर्शन खत्म करवाया। सीओ ने एक नामजद अभियुक्त की जल्द गिरफ्तारी और दोषियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई का भरोसा दिया।

पुलिस अधीक्षक (एसपी) विनीत जायसवाल ने सोमवार को बताया था कि सी डी यादव इंटर कॉलेज (सिसहनी) में प्रधानाचार्य पद पर कार्यरत फूलपुर गांव के दिनेश यादव (32) अपने रिश्तेदार एवं कॉलेज के प्रबंधक आज्ञाराम यादव के यहां रविवार को एक मांगलिक कार्यक्रम में शामिल होने के लिए जिले के छपिया थाना क्षेत्र के चांदा रत्ती गांव आए हुए थे। रविवार रात को करीब 12 बजे जयमाल कार्यक्रम संपन्न होने के बाद वह घर से थोड़ी दूर गांव के बाहर दुकान के बरामदे में सो गये थे।

जायसवाल ने बताया कि बीते दिनों हुए आपसी विवाद को लेकर सिसहनी गांव निवासी दो लोगों – अजय वर्मा एवं राज सिंह ने दिनेश यादव को गोली मार दी, जिनकी अस्पताल में मौत हो गयी।

मृतक प्रधानाचार्य के ममेरे भाई अरुण कुमार यादव ने पत्रकारों को बताया कि बीते 26 जनवरी को हत्या के आरोपियों ने सी डी इंटर कॉलेज सिसहनी में आयोजित गणतंत्र दिवस समारोह के दौरान छात्राओं पर अश्लील टिप्पणी की थी और इसकी जानकारी मिलने पर प्रधानाचार्य ने दोनों आरोपियों को बुलाकर ऐसा करने से मना किया था और उन्हें कॉलेज से बाहर निकाल दिया था।

अरूण कुमार यादव के मुताबिक बाद में इंटर कॉलेज में जाकर आरोपी अजय वर्मा ने प्रधानाचार्य के सीने पर तमंचा सटाकर जान से मारने की धमकी दी थी।

उन्होंने आरोप लगाया कि शिकायत पर मौके पर पहुंची छपिया थाने की पुलिस दो आरोपियों को पकड़ ले गई थी, लेकिन गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज करने के बजाय शांति भंग में चालान कर दिया था, जिससे उन्हें तत्काल जमानत मिल गई थी और फिर उनके हौसले बुलंद हो गए एवं उन्होंने इस घटना का अंजाम दे दिया।

प्रधानाचार्य और प्रबंधक के परिजनों की मांग है कि उनके परिवार को सुरक्षा मुहैया कराते हुए आरोपियों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाए। उनका कहना है कि अगर इन लोगों के खिलाफ कार्रवाई नहीं की गई तो वे आगे पुनः बड़ी घटनाओं को अंजाम देंगे।

एसपी ने बताया कि इस प्रकरण में दोनों आरोपियों के खिलाफ नामजद अभियोग दर्ज किया गया है। उनके मुताबिक एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है, जबकि दूसरे की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है।

भाषा सं आनन्द राजकुमार

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Flowers