मप्र में पुलिस ने कांग्रेस विधायक के परिसरों की तलाशी ली, पार्टी ने लगाया उत्पीड़न का आरोप |

मप्र में पुलिस ने कांग्रेस विधायक के परिसरों की तलाशी ली, पार्टी ने लगाया उत्पीड़न का आरोप

मप्र में पुलिस ने कांग्रेस विधायक के परिसरों की तलाशी ली, पार्टी ने लगाया उत्पीड़न का आरोप

:   Modified Date:  April 15, 2024 / 02:33 PM IST, Published Date : April 15, 2024/2:33 pm IST

छिंदवाड़ा (मध्य प्रदेश), 15 अप्रैल (भाषा) नकदी और शराब की जमाखोरी की शिकायत के बाद पुलिस और आबकारी विभाग के कर्मियों ने मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा जिले में कांग्रेस के एक विधायक के आवास और अन्य परिसरों की तलाशी ली, लेकिन ऐसी कोई बरामदगी नहीं हुई। एक अधिकारी ने सोमवार को यह जानकारी दी।

विपक्षी कांग्रेस ने इसे भाजपा सरकार द्वारा सत्ता के दुरुपयोग के माध्यम से अपने आदिवासी विधायक नीलेश उइके का उत्पीड़न करार दिया।

पुलिस अधीक्षक मनोज खत्री ने कहा कि नकदी और शराब की जमाखोरी की शिकायत के बाद, पुलिस और आबकारी विभाग के कर्मियों की एक टीम ने रविवार की शाम राजोला रैयत गांव में कई स्थानों पर तलाशी ली।

उन्होंने बताया कि उन जगहों पर कुछ नहीं मिलने पर टीम वापस लौट गयी।

छिंदवाड़ा में पांढुर्ना (अजजा) विधानसभा सीट का प्रतिनिधित्व करने वाले विधायक उइके ने कहा कि पुलिस और आबकारी विभाग की टीम ने रविवार शाम करीब चार बजे उनके घर और कृषि क्षेत्रों पर ‘छापेमारी’ की।

उन्होंने बताया कि उन्होंने तीन घंटे तक छापेमारी की, लेकिन चुनाव से संबंधित कुछ भी नहीं मिला।

उइके ने कहा, ”मैं उस समय चुनाव प्रचार कर रहा था और सूचना मिलने पर घर पहुंचा लेकिन वे कार्रवाई पूरी कर चुके थे।”

उन्होंने दावा किया, ‘भाजपा हार के डर से हताश है और आदिवासी विधायक को डराने की कोशिश कर रही है। यह आदिवासी समुदाय का अपमान है।’ उन्होंने कहा कि क्षेत्र की आदिवासी जनता भाजपा को करारा जवाब देगी।

मप्र कांग्रेस के अध्यक्ष जीतू पटवारी ने कहा कि प्रशासनिक अधिकारियों ने उइके के घर से लेकर खेत तक जांच की और कुछ नहीं मिलने पर खाली हाथ लौट आए।

उन्होंने दावा किया, ”यह भाजपा द्वारा आदिवासी विधायक का उत्पीड़न है और सत्ताधारी दल का तानाशाही रवैया दर्शाता है।”

आरोपों के बारे में पूछे जाने पर, राज्य भाजपा प्रवक्ता पंकज चतुर्वेदी ने कहा कि कांग्रेस को, नियमों का पालन कर रहीं जांच एजेंसियों पर उंगली उठाने की आदत है।

चतुर्वेदी ने दावा किया, ‘बेहतर होगा कि कांग्रेस चुनाव आयोग द्वारा निर्धारित नियमों का पालन करे और जांच एजेंसियों की मदद करे। हाल ही में एक कांग्रेसी को पैसे बांटते हुए पकड़ा गया था.. और वे शराब बांटने की योजना बना रहे थे।’

उन्होंने आरोप लगाया कि छिंदवाड़ा लोकसभा सीट से कांग्रेस के उम्मीदवार और राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ के बेटे नकुल नाथ पैसे बांटकर वोट खरीदना चाहते हैं।

मप्र की 29 लोकसभा सीटों पर 19 अप्रैल से 13 मई तक चार चरणों में चुनाव होंगे। छिंदवाड़ा संसदीय क्षेत्र पर 19 अप्रैल को मतदान होगा।

भाषा सं दिमो नरेश मनीषा

मनीषा

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Flowers